Author: Amrutam

Learn How to Use Kuntal Care Hair Spa

HOW TO USE KUNTAL CARE HAIR SPA Here are the three methods to use Hair Spa (you can pick the one that suits you): 1. Put it like a hair mask from roots to tip and leave it to dry. After about 30-40 mins you can wash your hair how you do it regularly – […]

Read more
Rediscovering Ayurveda with Vd. Surabhi Pathak

Rediscovering Ayurveda with Vd. Surabhi Pathak

In this week’s article of our Rediscovering Ayurveda series, we interviewed Vd. Surabhi Pathak. Dr. Surabhi is a practising Vaidya. She completed her studies (Bachelors of Ayurveda, Medicine & Surgery) from Nagpur and has specialized in swasthavritta & yoga (preventive and social medicine). Let’s read more about Vd. Surabhi’s journey in her own words. How […]

Read more
Shelly Rediscovering Ayurveda 1

Rediscovering Ayurveda with Shelly Saenpaseut

In this week’s article of our Rediscovering Ayurveda series, we interviewed Shelly. She is a Reiki instructor and a Ayurveda & Lifestyle blogger. We are excited to share Shelly’s journey here. How did you start your journey as a Yoga and Reiki practitioner? My journey started a few years ago on a backpacking trip to […]

Read more
Amrutam Family

The #AmrutamFamily Project

We are very excited to present – The #AmrutamFamily Project. Amrutam is a community of Ayurveda, Yoga and natural living enthusiasts. We have been growing every day. And, are grateful for the love we’ve received over the last two years. [Hoping to become a 10K strong family soon]. We’ve had some meaningful artwork and thought-provoking […]

Read more
Rediscovering Ayurveda with Carolyn Theresa

Rediscovering Ayurveda with Carolyn Theresa Simon

In this week’s article of our Rediscovering Ayurveda series, we interviewed Carolyn. She is a yoga instructor and wellness blogger.We are excited to share Carolyns’s journey with Yoga here. How did you start your journey as a Yoga practitioner? When I started yoga back in school, being an athlete and inclined towards different sports, I […]

Read more
Rajakapota-min

Rediscovering Ayurveda with Sadhana

Sadhana is a Yoga and Acroyoga practitioner. Acroyoga is a combination of Acrobatics and Yoga, and includes lifting poses often. Sadhana found yoga to be intertwined with her roots as she was introduced to Bhakti Yoga from a very early age and her first encounter with yoga was at Sivananda Ashram in Kerala and little […]

Read more

Ghee for Hair- A DIY Mask

For most of us, ‘Happiness is… a good hair day’. We don’t mind spending on branded shampoos, conditioners, and hair styling products just to set our crowning glory. But we don’t need to burn our pockets always. Resorting to simple, inexpensive remedies also works wonders for your hair. One such alternative hair-care therapy is called […]

Read more

Soothe your Anxiety to Soothe your Skin

Life can be challenging at times. An irrational thought, crowded areas, and sticky situations are some examples of unexpected moments that happen to each one of us. Getting out of them can cause anxiety. After all, anxiety is a coping mechanism. But if you use the same mechanism repeatedly, without channeling your unprocessed emotions, the […]

Read more

Rediscovering Ayurveda with Kim Geerts

Kim is a Yoga and Ayurvedic Practioner who is passionate about modernizing the two ancient sciences. She comes from a rich 10 years’ experience in law. During her stint as a lawyer, she was diagnosed with rheumatoid arthritis. But armed with Yoga and Ayurveda, she was able to overcome the disease and gain tremendous self-confidence. […]

Read more

Compatible and Incompatible Food Combinations in Ayurveda

Ever experienced indigestion, bloating, or gas after eating at a buffet? Blame it on the combination of tempting food that you indulged in. According to Ayurveda, each food has its own taste or rasa, a heating or cooling energy or virya, and post-digestive effect or vipak.   When you have a combination of two or […]

Read more

Self-Care and Mothers

To the mother reading this: Are you giving yourself enough time? Motherhood is one of the best gifts Nature has given you. Embracing it has been a beautiful experience so far. You are doing your best juggling different roles at home and at work. But it is important to take care of yourself to have […]

Read more

The Amrutam Family Review Project

It’s has been more than two years that the Amrutam Family embarked on its journey as an Ayurvedic lifestyle brand and community for Ayurveda, Yoga and natural living enthusiasts. Since the very beginning days, our team and core community family members have always believed in the healing power of nature and magic of Ayurveda. And […]

Read more
Mothers day Amrutam

4 DIY Beauty Recipes for Mom and Me Time

Mother’s Day is just around the corner i.e. on May 12th. It is celebrated to honor and appreciate mothers for being who they are. Let us thank all mothers for doing what they do selflessly. For most of us, our mothers are also our BFFs, sisters, business partners, and comrades. You don’t want to celebrate […]

Read more

All your FAQs about the General Elections 2019

With around 90 crores eligible voters this time, the General Elections 2019 is said to be the biggest festival of the Indian democracy. These elections will be held in seven phases from April 11th– May 19th. Amrutam also cares about social events that influence us daily. We have compiled some Frequently Asked Questions about the […]

Read more

10 Ayurvedic Strategies for this Pitta Season

Rashmi hates summer. She just can’t bear the hot, sharp, and penetrating sun rays of the season. Physically, she experiences exhaustion, acne, and hot flashes. Emotionally, Rashmi’s temperament becomes as mercurial as your thermometer reading. But she really looks forward to her swimming classes post work. In fact, the activity really helps her calm her […]

Read more

Ayurveda and Postpartum Depression?

Natasha works as a Teacher in an International School, while Amyra is an aspiring Ayurveda Practioner. Apart from their husbands, the two best friends have a lot in common. They share the same birthdays, have studied in the same schools and colleges, and their first-borns are girls. Moreover, they suffer from postpartum blues. Here’s a […]

Read more

7 Natural Solutions for Postpartum Depression

New mothers need time to recover after childbirth. They experience a lot of changes in their minds and bodies. These changes can also be severe in cases of C-section. But will that stop them from getting back to work? Not at all. If you are a new mother reading this, you need to know that […]

Read more

An Overview of the Polycystic Ovary Syndrome (PCOS)

Polycystic Ovary Syndrome is an endocrine disorder that affects women during their childbearing years i.e. ages 15-44. It is said that about 27 percent of women in this age group have PCOS. The symptoms include cysts in the ovaries, irregular periods, and high levels of male hormones. These symptoms affect a woman’s ovaries and ovulation. […]

Read more

Dealing with Postpartum Depression

  The birth of your bundle of joy can trigger a myriad of emotions, right from excitement and elation to fear and apprehension. But a lot of new mothers also end up experiencing depression post childbirth.   Some mothers with ‘baby blues’ go through mood swings, crying spells, and anxiety. They also find trouble sleeping […]

Read more

4 Practical Tips for your Skin Confidence Post-Holi

Holi is on a weekday this year, but will still won’t stop us from celebrating the festival of colors? Of course, not. This is one festival wherein we don’t mind getting tired and different hued. But once the celebrations are over, it is time to take on the ideal skin-care routines to nurture and protect […]

Read more

4 Ways to Make Natural, Homemade Colors this Holi

    It’s time to be a free spirit and play with colors because Holi is arriving! And, of course, the celebrations begin by getting all the basics ready at home. The first thing that tops the list of basics is certainly Holi colors. While you have numerous stores or shops in your vicinity that […]

Read more

4 Helpful Herbs for PMS related conditions

  Almost 75 percent of women experience some symptom of Pre-Menstrual Syndrome (PMS) that can get on their nerves. The symptoms include breast tenderness, fluid retention, bloating, tiredness, and headaches. Many women also experience mood swings, depression, irritability, and anxiety due to hormonal fluctuations. This is because of estrogenic dominance that ramps up PMS-related symptoms […]

Read more

5 Ways to Manage PMS Mood Swings

Premenstrual Syndrome (PMS) affects many women of childbearing age, especially a few days before menstruation. PMS symptoms, like mood swings, occur during the last phase of a women’s cycle- typically, 14 to 28 of a menstrual cycle. A lot of women experience uncontrollable mood swings, due to a roller coaster of emotions, all in one […]

Read more

5 Essential Tips to get Holi-ready this 2019

With Holi around the corner, it’s time to guard your skin with products to avoid the aftermath. After all, when playing with colors, we expose our skin to harmful chemicals. Even if you switch to organic colors, you are still baring yourself to harsh external factors. Let’s not forget the inevitable efforts it will take […]

Read more

Journaling: An Effective Act of Self-Care

  Life can be difficult in today’s stressful times. A lot of us strive to balance our rational and emotional sides as we make attempts to reach our goals. But in the process of doing that, we tend to neglect our emotional selves. We don’t realize the impact of this negligence until we crack or […]

Read more

7 Easy Ways to Take Better Care of You

Stop what are doing right now and take a moment to check on your inner child. Now is the time to ask her: ‘Are you okay?’ or ‘Do you want me to do something for you?’. Doing so could unfold areas of emotional self-care that you may have overlooked. After all, you deserve to make […]

Read more

Integrate Mindfulness into your Work

28-year-old Anaisha has found herself in a very tight spot. While she loves her job as an app developer, her current workload has increased tremendously. Anaisha also has a lengthy work commute. As a result of which, she feels she is zoning out on a regular basis. She is unable to recall what others tell […]

Read more

Top 5 Personal Hygiene Tips for Every Woman

Ralph Waldo Emerson once wrote, “The first wealth is health”. But a healthy body does not stop at being disease-free. Being healthy also means feeling fresh and comfortable all day long. One way to feel great every day is to maintain a good personal hygiene routine. Personal hygiene goes beyond keeping bad breath and body […]

Read more
Tridosha & Vata

क्या पहचान है त्रिदोष और वात प्रकृति वालों की। जानिए इस लेख में

क्या होता है त्रिदोष –

आयुर्वेद के प्राचीन ग्रन्थ ‘त्रिदोष-सिद्धांत’ के मुताबिक तन में जब वात, पित्त और कफ संतुलित या सम अवस्था में होते हैं, तब शरीर स्वस्थ रहता है । इसके विपरीत जब ये प्रकुपित होकर असन्तुलित या विषम हो जाते हैं, तो तन अस्वस्थ हो जाता है।

कैसे निर्मित होता है वातरोग

पृथ्वी और पानी मिल कर कफ बनाते हैं।

तेज से पित्त बनता है। वायु और आकाश से वात होता है। Read more

Indulge in Self-Love this Festive Season

आत्मप्रेम करने की ऋतु-बसंत

आत्मप्रेम करने की ऋतु-बसंत

जो महत्व सैनिकों शक्ति उपासकों के लिए अपने शस्त्रों और विजयादशमी का है, जो विद्वानों और गुरुभक्तों के लिए अपनी पुस्तकों, व्यास पूर्णिमा और गुरु पूर्णिमा का है, जो उद्योगपति, व्यापारियों के लिए अपने तराजू, बाट, बहीखातों और दीपावली का है, वही महत्व आत्मप्रेमियों के लिए वसंत पंचमी का है।

एक अनूठी आकर्षक ऋतु है वसंत की

न सिर्फ बुद्धि की अधिष्ठात्री, विद्या की देवी सरस्वती का आशीर्वाद लेने की, अपितु स्वयं के मन के मौसम को परख लेने की, रिश्तों को नवसंस्कार – नवप्राण देने की। गीत की, संगीत की, प्रकृति के जीत की, हल्की-हल्की शीत की, नर्म-नर्म प्रीत की। Read more

सप्तधातु किसे कहते हैं

सप्तधातु किसे कहते हैं –

जिससे शरीर का निर्माण या धारण होता है, इसी कारण से इन्हें ‘धातु’ कहा जाता है धा अर्थात = धारण करना। हैं -सप्‍त धातुओं का शरीर में बहुत महत्‍व है। Read more

Kuntal Care Hair Fall

बालों के लिए आयुर्वेदिक काढ़ा

बालों के लिए आयुर्वेदिक काढ़ा

आयुर्वेदिक जड़ीबूटियों को 16 गुने पानी में इतना उबाले कि वह उबल कर दोगुना रह जाये, फिर, इसे खूब गाढ़ा करके
रख ले और रोज सुबह शाम बालों की जड़ों में 2 से 3 माह तक लगातार लगाए

खालित्य (गंजपन) का आयुर्वेदिक इलाज

आयुर्वेदिक दवाएँ तभी कारगर सिद्ध होतीं जब इनका उपयोग लम्बे समय तक किया जाए।
क्यों कि यह बीमारी को जड़ से बाहर निकालती हैं, इस वजह से इनके परिणाम (रिज़ल्ट) आने में कुछ समय लगता है। हर्बल दवाएँ त्रिदोषनाशक होती हैं।
इसके सेवन से शरीर के बहुत सारे विकार नष्ट होते हैं एवं बालों का झड़ना, टूटन, पतले होना, दोमुंहे होना, रूसी, बालों की गन्दगी आदि रोग हमेशा-हमेशा के लिए दूर हो जाते हैं ।

Read more

शीघ्रपतन किन 13 कारणों से होता है

शीघ्रपतन किन 13 कारणों से होता है

शीघ्रपतन के लक्षण –

सम्भोग के वक्त, समय से पहले वीर्य का
जल्दी निकल जाना शीघ्रपतन है। जब शिश्न प्रवेश (एंट्री)के साथ ही “एक्सिट” होने लगे या फिर, स्त्री अभी चरम पर न हो और व्यक्ति का स्खलन हो जाए तो यह शीघ्रपतन (Premature Ejaculation) है।

शीघ्रपतन के साइड इफ़ेक्ट

@ ऐसे में स्वयम से लाचार वअसंतुष्टि होना
@ ग्लानि, हीन-भावना,
@ नकारात्मक सोच या
@ अपने-आपको कोसना, कमजोर समझना,
@ शीघ्रपतन का स्थाई इलाज आयुर्वेद
में ही मुमकिन है। Read more

पेल्विक कॅन्जेशन सिंड्रोम

महिलाओं की सेहत के लिए सबसे

विश्वसनीय है आयुर्वेदिक ओषधियाँ

■ पेड़ू में दर्द बना रहता है
■ मासिक धर्म की अनियमितता
■ नलों में सूजन
■ सफेद पानी की समस्या
■ चिड़चिड़ापन
■ खून व भूख की कमी

क्या होता पेड़ू का दर्द –

इसे पेल्विक कॅन्जेशन सिंड्रोम भी कहा जाता है। पेल्विक (पेड़ू) क्षेत्र में दर्द होने का एक प्रमुख कारण अंडाशय (ओवरी) से संबंधित है। ओवरी में कुछ ऐसी रक्त वाहिनियां (ब्लड वेसेल्स) होते हैं, जिनमें छोटे-छोटे वाल्व होते हैं जो रक्त के प्रवाह को सही दिशा में पहुंचाते हैं ताकि रक्त हृदय की नाडियों तक पहुंचता रहे।

Read more

कोलाइटिस – एक पेट की बीमारी

कब्ज से परेशान हैं या पेट साफ नहीं होता अथवा दस्त बंधकर नहीं आता,

तो रोज रात को मुरब्बे, गुलकन्द से बना आयुर्वेद की इस औषधि का सेवन करें।
यह पुरानी से पुरानी कब्जियत और
आँतों की सूजन, पेट की जिद्दी बीमारियों को दूर करने सहायक है।

Read more

Brainkey Gold Malt studying

ब्राह्मी दिमाग के तन्तुओं को ऊर्जावान बनाती है

भूलने की बीमारी है,
तो करें सबसे पुख्ता उपाय...
आयुर्वेद की यह ओषधि ब्रेन की कोशिकाओं को रिचार्ज करने में बहुत कारगर है।
इसमें मिलाई गई
ब्राह्मी दिमाग के तन्तुओं को
ऊर्जावान बनाती है।
ब्राह्मी पढ़ने वाले बच्चों के लिए बहुत ही सर्वश्रेष्ठ ओषधि है।
जटामांसी का मिश्रण डिप्रेशन दूर कर नींद लाने विशेष उपयोगी है और रक्तचाप को सामान्य बनाने में बेजोड़ है।

शंखपुष्पी का अर्क बार-बार भूलने की आदत से निजात दिलाता है। Read more

घुटनो व जोड़ों का दर्द के लिए एक 100 फीसदी वात नाशक हर्बल सप्लीमेंट

लोगों को घुटनो व जोड़ों का दर्द, सूजन, ग्रंथिशोथ (थायराइड) गर्दन की तकलीफ गठिया वाय आदि वातरोग अनेक कारणों से शरीर को बर्बाद कर रहा है। इन सब परेशानियों की वजह से मरीज चलने फिरने में असहज महसूस करता है। तत्काल लाभ के लिए लोग पेन किलर ओेषधियो के गुलाम बन जाते हैं और अंदर […]

Read more

क्या आप गलतुण्डिका के बारे में जानते हैं ?

क्या आप गलतुण्डिका के बारे में जानते हैं ?

गलतुण्डिका गले की एक बीमारी है, जिसे
सभी लोग टॉन्सिल्स के नाम से पहचानते हैं।
यह समस्या कम उम्र के बच्चों को या किसी को भी हो सकता है।
Healthy Amrutam

स्वस्थ्य तन-स्वच्छ वतन

स्वस्थ्य रहने के लिए – डिनर छोड़ें:

ऐसी सोच बनाये कि,
रात्रि को भोजन नही करना है ?
जाने कितना नुकसान पहुंचाते हैं
हम तन-मन को।

सूर्यास्त के बाद डिनर करने से शरीर को बहुत नुकसान होते हैं, यह जानकर आप डर जाएंगे। Read more

प्रतिदिन अभ्यंग से होते होते हैं 10 लाभ

प्रतिदिन अभ्यंग से होते होते हैं 10 लाभ

आयुर्वेदिक अभ्यङ्ग है –9 तरह से लाभकारी

व्यायाम करने से पहले रोजाना अभ्यंग यानी मालिश करने से होते हैं अनेकों लाभ और हमारा स्वास्थ्य बना रहता है।

【1】अभ्यंग (मालिश) शरीर और मन की ऊर्जा का संतुलन बनाता है,
【2】वातरोग के कारण त्वचा के रूखेपन को कम कर वात को नियंत्रित करता है।
【3】शरीर का तापमान नियंत्रित करता है।
【4】शरीर में रक्त प्रवाह और दूसरे द्रवों के प्रवाह में सुधार करता है।
【5】अभ्यंग त्वचा को चमकदार और मुलायम बनाता है।
【6】मालिश की लयबद्ध गति जोड़ों और मांसपेशियों की अकड़न-जकड़न को कम करती है।
【7】अभ्यङ्ग से त्वचा की सारी अशुद्धियाँ दूर हो जाती हैं, तब हमारा पाचन तंत्र ठीक हो जाता है।
【8】 पूरे शरीर में ऊर्जा और शक्ति का संचार होने लगता है।
【9】अभ्यङ्ग यानि मालिश से शरीर में रक्त परिसंचरण बढ़ता है और

【10】शरीर के सभी विषैले तत्त्व बहार निकल जाते हैं।< Read more

Chawanprash Amrutam

अमृतम हर्बल च्यवनप्राश का सेवन कर इम्युनिटी पॉवर बढ़ाएं।

एक पुरानी आयुर्वेदिक कहावत है –

धन गया, तो कुछ नहीं गया

तन गया गया, तो सब कुछ गया।
शरीर सबसे कीमती धन है।
प्रतिदिन अपने स्वास्थ्य को बेहतरीन
बनाने पर ध्यान दो।

Read more

पीपल द्वारा सर्दी-खाँसी से पीछा छुड़ाएं

पीपल निमोनिया,फेफड़ों के इंफेक्शन दूर करती है। आयुर्वेद की एक अदभुत ओषधि है
जाने 14 फायदे

सर्दी जुखाम से तत्काल लाभ हेतु

Read more

endometriosis

क्‍या है एन्‍डोमीट्रीओसिस ? लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक इलाज

महिलाओं को दिनोदिन बढ़ रही हैं आधुनिक युग की बीमारियां और समस्‍याएं

वर्तमान में भागादौड़ी के इस भौतिक युग
की वजह से नित्य नये स्त्रीरोग उत्पन्न हो रहे हैं और महिलाओं को कई प्रकार की स्‍वास्‍‍थ्‍य समस्‍यायें भी पैदा हो रही हैं। इन सबका सर्वाधिक दुष्प्रभाव महिलाओं की सुन्दरता पर पड़ रहा है।

एन्‍डोमीट्रीओसिस (Endometriosis)

यानि गर्भाशय सम्बंधित ऐसा विकार है जिसमें नवयोवनाएँ पीरियड्स अर्थात मासिक धर्म के दौरान बहुत विचलित हो जाती हैं।
तथा यौन संबंध बनाते समय असहनीय दर्द होना जैसे प्रमुख लक्षण इस बीमारी के कारण दिखाई पड़ते हैं।
इसका आसानी से उपचार आयुर्वेदिक दवा द्वारा किया जा सकता है।< Read more

लम्बे घने बाल, बला की खूबसूरती बढ़ाते हैं कुन्तल केयर हर्बल हेयर स्पा

बालों को बलशाली बनाने और

बालों को सब प्रकार से अच्छा रखने के लिए बाल बढ़ाने वाला आयुर्वेदिक उपाय

बालों का झड़ना-टूटना बन्दतुरन्त
लम्बे घने बाल, बला की खूबसूरती बढ़ाते हैं
आयुर्वेदिक 100%
■ बालों को पोषण दे।
■ बालों का झड़ना-टूटना बन्द करे।

Read more

अमृतम च्यवनप्राश से होते हैं 13 फायदे

एक चम्मच अमृतम च्यवनप्राश खाएं
रोगप्रतिरोधक क्षमता और इम्यूनिटी बढ़ायें

अमृतम च्यवनप्राश एक सुरक्षित हर्बल टॉनिक है यह सभी उम्र वालों के लिए फायदेमन्द है।

अमृतम च्यवनप्राश भारत के सर्वाधिक प्राचीन आयुर्वेदिक स्वास्थ्य पूरकों में से एक है, जो एंटीएजिंग एवं शक्तिवर्धक ओषधि है। इसके सेवन से अपना बुढापा रोक सकते हैं। Read more

आलस्य और लापरवाही न करें

आयुर्वेद …के द्वारा ही असाध्य रोगों से बचा जा सकता है

आलस्य और लापरवाही न करें

तन में कोई न कोई विकार अपना आकार लेते

रहते हैं । लापरवाही एवं अज्ञानता के कारण ये रोग शरीर को अंदर ही अंदर खोखला करते रहते हैं। इसका दुष्परिणाम यह होता है कि व्यक्ति कम उम्र में। ही खतरनाक उदर रोग,
लिवर की समस्या, पेट की बीमारी, केन्सर थायराइड, नामर्दी, नपुंसकता, जैसी असाध्य बीमारियों का शिकार हो जाता है।
एक शोध के अनुसार देश में 60 फीसदी से ज्यादा महिलाओ का मासिक धर्म अनियमित हो चुका है, जिससे उनकी खूबसूरती

जवानी में ही नष्ट हो रही है। Read more

रोगों का रायता फैलने की 12 वजह

रोगों का रायता फैलने की 12 वजह

आयुर्वेद के प्राचीन शास्त्र “माधव निदान

के अनुसार रोगी में कब और कैसे
“रोगों का रायता” फेलने लगता है –
हमारी लापरवाही के कारण शरीर बीमारियों का अखाड़ा
और परेशानियों का पिटारा बन जाता है ।
नियमों के विपरीत चलने से शरीर में त्रिदोष उत्पन्न होता है, जिससे धीरे-धीरे रोगप्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है।
पाचनतंत्र कमजोर हो जाता है।

व्याधि से बर्बादी के और भी कारण हैं –

【1】प्रातः जल्दी सोकर न उठने से
【2】सुबह उठते ही पानी न पीने से
【3】रात में दही खाने से समय पर भोजन न करना,

【4】व्यायाम-कसरत न करना तथा Read more

क्या आपको आयुर्वेद की इस चमत्कारी ओषधि के बारे में मालूम है?

क्या आपको आयुर्वेद की इस चमत्कारी ओषधि के बारे में मालूम है?

यह औषधि केवल शक्तिवर्धक ही नहीं,
बल्कि यौन शक्ति को भी जागृत करने में सहायता करती है।
आप मानो या ना मानो
भारत की पुरानी देशी वियाग्रा में छुपा है वो गुण, जिसे पढ़कर आप भी हो जाएंगे हैरान..!
अमृतम के इस आर्टिकल में
आयुर्वेद के ग्रंथो में जो किस्से काफी अनसुने, पुराने या फिर रोचक अथवा अधूरे रह गये हैं, उन सब दुर्लभ जानकारियों से आपको अवगत कराया जाएगा
इस ब्लॉग में 5000 साल पुरानी उस आयुर्वेदिक शक्तिवर्धक ओषधि की
जानकारी प्रस्तुत है, जिसे सभी ने उपयोग,

तो किया किन्तु यह दवा किस हद तक चमत्कारी है तथा आपको कितना फायदा पहुंचा सकती है इसकी जानकारी लोगों को न के बराबर ही होगी। Read more

संकल्प में सहायक मकर संक्रान्ति

तन-मन को मजबूत करने वाला

महापर्व मकर संक्रांति,

जाने7 सात कारण

सूर्य एक राशि में एक माह रहते हैं और यह हर महीने राशि बदलते हैं। सूर्य का एक राशि से दूसरे राशि में जाना संक्रमणकाल या संक्रांति कहलाती है।
संक्रांति का अर्थ है –
प्रकृति में परिवर्तन का समय।
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मकर राशि बारह राशियों में दसवीं राशि होती है। सूर्य जिस राशि में प्रवेश करते हैं, उसे उस राशि की संक्रांति माना जाता है। उदाहरण के लिए यदि सूर्य मेष राशि में प्रवेश करते हैं तो मेष संक्रांति कहलाती है, धनु में प्रवेश करते हैं तो धनु संक्रांति कहलाती और हर साल
14 या 15 जनवरी को सूर्य मकर में प्रवेश करते हैं, तो इसे मकर संक्रांति के रूप में जाना जाता है।

क्या है सूर्य का उत्तरायण होना —

इस दिन सूर्य पृथ्वी की परिक्रमा करने की दिशा बदलता है, थोड़ा उत्तर की ओर ढलता जाता है। इसलिए इस काल को उत्तरायण भी कहते हैं।

Read more

असरकारक योग से निर्मित ऑर्थोकी गोल्ड कैप्सूल 88 तरह के वात विकार (अर्थराइटिस) जड़ से मिटाता है

वात को मारे लात

हमारे प्रतिरोधी तन्त्र यानी इम्यून सिस्टम में
कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं, जिनकी कमी
से शरीर में संक्रमण होता रहता है जैसे
सर्दी-जुकाम, निमोनिया आदि भी यदि गम्भीर
रूप धारण कर ले, तो क्षयरोग, हड्डियों की टीबी एवं ग्रंथिशोथ (थायराइड) आदि अनेक वातरोग यानि अर्थराइटिस को जन्म देते हैं।

Read more

थायराइड ग्रंथि में समस्‍या के संकेत

थायराइड ग्रंथि में समस्‍या के संकेत

■ थायराइड ग्रंथि एंडोक्राइन ग्रंथि है जो मानव शरीर के चयापचय (मेटाबॉलिज्‍म) अर्थात पाचन तन्त्र को नियंत्रित करती है।..
थाइराइड के लक्षण बहुत देर में पता चलते हैं।
गले और शरीर के किसी भी भाग में सूजन एवं हल्का दर्द होता रहता है।
■ व्यक्ति चिढ़-चिढ़ा हो जाता है।

■ आमतौर पर महिलाएं इस रोग का ज्यादा शिकार होती हैं।.. Read more

एकाग्रता कैसे बढ़ाएं

एकाग्रता बढ़ाकर दूर करें डिप्रेशन –

एकाग्रता बढ़ाने के लिए पहले आप खुद ही प्रयास करें, इसके लिए बहुत समय और मेहनत की ज़रुरत होती है। दिनभर में कम से कम 20 से 30 बार गहरी श्वांस नाभि केंद्र तक ले जाकर, धीरे-धीरे छोड़ें।
◆ उदासी के समय आनंद की बातें सोचें

◆ दुःखी होते समय पिछले सुख को अपने मानसपटल पर लाएं। Read more

Brainkey Gold Malt studying

बच्चों की एकाग्रता और याददास्त कैसे बढाएं

पढ़ने वाले बच्चों की मानसिक दुर्बलता और मनोविकार कैसे मिटाये –

पढ़ाई के लिए एकाग्रता बहुत जरूरी है।
एकाग्रता यदि न हो, तो विद्यार्थी जीवन नरक
बन सकता है।

बच्चों की एकाग्रता और याददास्त कैसे बढाएं

जल्दी और असरदार रूप से एकाग्रता बढ़ाने के लिए आयुर्वेद में ब्रेन की अवयवों को ठीक करने वाली ऐसी जड़ीबूटियों ब्राह्मी, स्मृतिसागर रस आदि के योग हैं, जो आसान तरीके से आपकी एकाग्रता एवं याददास्त में वृद्धि कर अवसाद यानी डिप्रेशन को मिटा सकते हैं।
एकाग्रता और दिमाग को धारदार बनाने एवं मन को खुश रखने के लिए पोषण

तत्वों का सेवन करें –

हमारे द्वारा किये गए भोजन से ही तन और मन दोनों का पोषण होता है। पोषक तत्वों से रहित अन्नादि के कारण शरीर व मानसिक शक्तियों को जागृत करने या देखभाल करने में असहज हो जाता है अथवा तन-मन का पोषण करने में असमर्थ होता है।

Read more

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट -10 | हड्डियों में सघनता कम होने से आता है हड्डियों में खोखलापन — ओस्टियोपोरोसिस’ (Osteoporosis)

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट -10

पिछले आर्टिकल पार्ट 9 में यक्ष्मा के बारे में बता चुके हैं। इस लेख पार्ट 10 में जाने –
अस्थिशूल, संधिशूल के बारे में —

जोड़ो का दर्द होना आजकल एक आम समस्या है। यह किसी उम्र वालों को कभी भी, किसी भी कारण से हो सकता है | जैसे बुढापा, पुरानी चोट , अप्राकृतिक जीवनचर्या और लापरवाह जीवन शैली की वजह इससे हड्डियों में खिचाव होने लगता है। Read more

बाल झड़ने के “14” कारण

बाल बहुत लम्बे हों, घने, चमकदार, खूबसूरत हों बड़े और लम्बे बाल, बला की आफत होते हैं। लम्बी जुल्फों के लिए कवियों औऱ शायरों ने अपने भाव प्रकट करते हुए बहुत कुछ लिखा
बलशाली बालों के लिए “33” बेहतरीन शायरियां
कुन्तल केयर के इस आर्टिकल में जानिए —
बालों के बारे में शायरों, कवियों के विचार
बाल लम्बे होंगे, तभी कोई शायर कह पायेगा कि –
【1】कम से कम अपने बाल,
तो बाँध लिया करो,
कमबख्त बेवजह मौसम
बदल दिया करते हैं।

वात का साथ कैसे होता है?

वात का साथ कैसे होता है?

हमारे प्रतिरोधी तन्त्र यानी इम्यून सिस्टम में
कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं, जिनकी कमी
से शरीर में संक्रमण होता रहता है, जैसे
सर्दी-जुकाम, निमोनिया भी यदि गम्भीर
रूप धारण कर ले, तो क्षयरोग, हड्डियों की टीबी एवं ग्रंथिशोथ (थायराइड) आदि अनेक वातरोग (अर्थराइटिस) को जन्म देते हैं।
लम्बे समय तक अर्थराइटिस बने रहने पर
शरीर में टूटन, सूजन, कम्पन्न, थायराइड, गठिया जैसी बीमारियां उत्पन्न होने लगती है, जो जटिल समस्याओं का समूह है।
वात से बिगड़ते हालात
वातविकार पुराना होने पर शरीर की हड्डियों

को गलाना शुरू कर देते हैं। जोड़ों में लचीलापन और लुब्रिकेंट कम या खत्म हो जाता है। Read more

मेदोवृद्धि यानि मोटापा और शरीर की कमजोरी दोनो तकलीफों से निजात दिलाने वाली एक विलक्षण हर्बल ओषधि

मोटापे के कारण जिन लोगों को कमजोरी आ जाती है। मेदोवृद्धि की वजह से जिनकी देह मोटी हो गई हो, परन्तु शरीर में बल या ताकत न बची हो।
— थोड़े से परिश्रम में श्वांस भर जाता हो।
— क्षुधा यानि भूख और तृषा यानि प्यास को
रोकने में अति कष्ट होता है,
— समय पर भोजन न मिलने पर विविध प्रकार के वायु व वात प्रकोप उपस्थित या उत्पन्न होते हैं, तो ऐसी अवस्था में

एक गिलास गर्म पानी में घोलकर दिन में 3 से 4 बार 5 माह तक सेवन करें। Read more

मालिश से होते हैं 14 फायदे और हड्डियां होती हैं मजबूत।

प्रतिदिन तन का अभ्यङ्ग करना अत्यंत
लाभकारी कर्म है। मालिश से शरीर
मस्त-मलंग और मजबूत होता है।
2000 वर्ष पुराने आयुर्वेद के पुराणों
में उल्लेख है कि —
अभ्यंगमाचरेंनित्यं स जराश्रमवाताहा। दृष्टिप्रसाद पुष्टयामु स्वप्न सुत्वक्चदाढ़र्य कृत। शिरः श्रवणपादेषु तं विशेषेण शिलयेत।
अर्थात —

प्रतिदिन तेल मालिश करने से वायुविकार, बुढ़ापा, थकावट नहीं होती है। दृष्टि कि स्वच्छता, यानि आंखों की रोशनी बढ़ती है। Read more

Kayakey

काया की मसाज ऑयल से पाचनतंत्र होता है मजबूत

आयुर्वेद के संस्कृत ग्रंथों के मुताबिक

जिन्हें अपना पाचनतंत्र (मेटाबोलिज्म)
हमेशा ठीक रखने की चाहत हो, उन्हें प्रतिदिन काया की मसाज़ ऑयल से मालिश जरूर करना चाहिए
अभ्यंग-तेल मालिश से शरीर की
पाचन प्रणाली (Digestive system)
सुधरती है, क्योंकि अभ्यङ्ग से ब्लड सर्कुलेशन सुचारू होता है।
मालिश से लाभ
इसके लिए शास्त्रों में लिखा है कि
अथ जातान्न पानेच्छो
मरुतध्नैः सुगन्धिभिः।
यथर्तुसंर्स्पश
सुखैस्तैलैरभ्यंग माचरेत।
उदर को ठीक रखने, पाचनतंत्र को मजबूत बनाने और कुछ भी खाया पिया समय
पर पचाने या अन्नपान कि इच्छा करने वाला पुरुष यदि यह चाहता है कि पेट में मन्दाग्नि और अजीर्ण न हो तो ऋतु के अनुसार सुख देने वाले वायुनाशक सुगन्धित तेलों से शरीर

की मालिश (अभ्यङ्ग) बहुत आवश्यक है। Read more

च्यवनप्राश अवलेह नाम कैसे पड़ा?

आयुर्वेद की बहुत प्राचीन 5 किताबों जैसे

{{१}} “रसतन्त्र सार व सिद्धप्रयोग संग्रह
{{२}} चरक सहिंता
{{३}} शारंगधर सहिंता
{{४}} भावप्रकाश
{{५}} आयुर्वेद सिद्ध संग्रह
{{६}} आयुर्वेद सार संग्रह
{{७}} अर्क प्रकाश

आदि शास्त्रों के मुताबिक
च्यवनप्राश का सेवन से तन के सभी विकार,
और अनेकों ज्ञात-अज्ञात आधि-व्याधियों
का नाश हो जाता है और बुढ़ापे के लक्षण नष्ट हो सकते हैं। खोई हुई जवानी पुनः पा सकते हैं बशर्ते यह आयुर्वेद की 5000 वर्ष पुरानी प्राचीन पद्धति से बना हो। Read more

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 9

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 9

पिछले आर्टिकल पार्ट 8 में बताया था- अपतानक (धनुर्वात) Tetanus मांसपेशियों की तकलीफ और

सूजन,क्या है?

इस लेख पार्ट 9 में जाने –
यक्ष्मा रोग ट्यूबरक्लोसिस यानि टी बी के लक्षण ओर उपचार

यक्ष्मा क्या है –

क्षय रोग (टी.बी) एक संक्रामक बीमारी है जो प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने की वजह से होता है

एक गंभीर, संक्रामक और बैक्टीरिया से होने वाली बीमारी जो मुख्‍य रूप से फेफड़ों को प्रभावित करती है और जानलेवा हो सकती है
यक्ष्मा, तपेदिक, क्षयरोग या एमटीबी
माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस नामक बैक्टीरिया के कारण होता है टीबी रोग। Read more

Mastiksha Ka Astitva

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 8

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 8

पिछले आर्टिकल्स पार्ट 7 में 5 प्रकार के लकवा, पक्षाघात या पैरालिसिस के विषय में बताया गया था
इस लेख पार्ट 8 में जाने
अपतानक (धनुर्वात) Tetanus मांसपेशियों की तकलीफ और सूजन,क्या है?
जबड़े और गर्दन की मांसपेशियों (Muscle) में संकुचन का कारण बनता है, विशेष रूप से यह सांस लेने में अवरोध उत्पन्न कर सकता है,
पूरे शरीर में – तंत्रिका तंत्र के द्वारा शरीर के विभिन्न अंगों का नियंत्रण और Organ व वातावरण में सामंजस्य स्थापित होता है, उसे तन्त्रिका तन्त्र कहते हैं।
हमेशा उच्च रक्तचाप बने रहना,
अंगों का ठीक काम न करना,
बहुत पसीना आना,
बुखार रहना आदि समस्या
तन्त्रिका तन्त्र की कमजोरी से होता है।

Read more

for liver health amrutam

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 7

पिछले लेख पार्ट 6 में हमने
तन-मन में रोगों के तीन स्थान के
बारे में लिखा था, जिसमें शेष 2 की
जानकारी देना थी अब

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 7

इस आर्टिकल्स में आयुर्वेद ग्रंथों के मुताबिक
5 प्रकार के लकवा,
पक्षाघात या पैरालिसिस के विषय में जानेंगे

शरीर में दूसरे प्रकार होने वाले रोग और स्थान — Read more

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 6 अति दुर्लभ ज्ञान

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 6

पिछले लेख पार्ट 5 में हमने तीन तरह के रोगों के बारे में लिखा था, अब जाने रोगों के स्थान शरीर में इन तीन स्थानों पर रोग पैदा होते हैं
तीन रोग स्थान
तन-मन में रोगों के तीन स्थान बतलाए हैं

पहला रोग स्थान

सबसे पहले शरीर की सप्त धातुओं में रोग उत्पन्न होते हैं। इन सात धातु के नाम निम्न प्रकार हैं

【1】रस
【2】रक्त या खून (blood)
【3】माँस
【4】मेद यानि चर्बी Read more

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 5

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 5
पिछले आर्टिकल पार्ट 4 में
4 तरह की अग्नि से पैदा होने वाले रोग के बारे में बताया था।
“इस आलेख में जानिए रोग के प्रकार”
रोग तीन तरह के होते हैं

【1】निज रोग —

त्रिदोषों यानि वात, पित्त व कफ के बिगड़ने
से शरीर में जो रोग होते हैं वे “निज रोग” कहे
जाते हैं। निज रोग से पीड़ित व्यक्ति कभी

पूरी तरह स्वस्थ्य नहीं रहता। Read more

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 4

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 4

पिछले आर्टिकल में तेरह तरह के वेग रोकने
से भयंकर बीमारियां होती हैं। अब आगे

द्विदोषज रोग क्या होते हैं

आयुर्वेद शास्त्रों के अनुसार जो रोग

वात,पित्त और कफ इन तीन दोषों में से किन्हीं दो दोषों से युक्त कोई बीमारी हो, उसे द्विदोषज रोग कहा जाता है। Read more

Lices ayurvedic medicine

बालों में गन्दगी के कारण पड़ते हैं लीख व जुएँ

सिर में जुएं और लीख पड़ना

क्यों और कैसे पड़ते हैं जुएँ।
इसके लक्षण, कारण और प्राकृतिक उपचार कारण एवं 100% हर्बल चिकित्सा
बोरिंगखारे और प्रदूषित पानी से बाल

धोने पर सिर में लीखजुएं पड़ जाते हैं। Read more

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 3

आयुर्वेद ग्रंथों में 8 प्रकार के मूत्र के विषय

में बताया है-

आठ मूत्र
【1】गाय का मूत्र, 【2】बकरी का मूत्र
【3】भेड़ का मूत्र, 【4】भैंस का मूत्र,
【5】हथिनी का मूत्र,

【6】ऊंटनी व 【7】घोड़ी का मूत्र और Read more

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 2

क्या आपको “पंचलवण” के बारे में

मालूम है, ये पांच तरह के नमक अजीर्ण, वायुगोला, शूल (पेट दर्द) और उदर रोगों को मिटाते हैं।

पित्तनाशक रस – त्रिदोषों में से एक पित्तदोष,
जो पेट व उदर विकार और ज्वर/फीवर/
बुखार, डेंगू आदि रोग उत्पन्न करता है।
दुबलापन, कमजोरी, चिड़चिड़ापन,
मधुमेह पाचनतंत्र (मेटाबोलिज्म) की
खराबी अस्त-व्यस्त पाचन प्रणाली (Digestive system) और पेट की बीमारियां, एसीडिटी, अफरा आदि

अनेक आधि-व्याधि का कारण पित्त दोष है। Read more

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट -1

धन्वन्तरि कृत “आयुर्वेदिक निघण्टु”
लेखक प्रेमकुमार शर्मा
(भारतीय जड़ी-बूटी तथा ओषधियों के शोधकर्ता) के अनुसार
आयुर्वेद उसे कहते हैं, जो आयु और स्वास्थ्य
का हित-अहित बताकर रोग मुक्त होकर जीवन

का ज्ञान उपलब्ध कराए। Read more

ठण्ड के मौसम में मालिश से 28 फायदे

सर्दियों में रूखी त्वचा के लिए वरदान

कुम-कुमादि, बादाम (आलमंड),
जैतून (ऑलिव) और चंदनादि
प्राकृतिक खुशबूदार तेलों से निर्मित
चिप-चिपाहट रहित 100% आयुर्वेदिक तेल
पूरे परिवार और बच्चों की

मालिश और अभ्यङ्ग के लिए गुणकारी है। Read more

“अमृतम क्विज” बताओ, तो जाने — अमृतम आयुर्वेद ज्ञान प्रतिस्पर्धा (कॉम्पटीशन)

क्या आप जानते हैं?

आयुवेद की एक बूटी का नाम
कलियुग आलय,
भूतवास और कलिद्रुम भी है।
यह बालो का झड़ना तुरन्त रोकती है।
बालों के लिए अत्यन्त हितकर है।

इस बूटी का नाम बताएं (फेसबुक पोस्ट पर कमेंट करें ) Read more

Rediscovering Ayurveda with Justine Miller

थायराइड का 100% हर्बल कैप्सूल

ऑर्थोकी गोल्ड कैप्सूल

आयुर्वेदिक 100%
थायराइड की सर्वश्रेष्ठ ओषधि

अंडरएक्टिव थायरॉयड (ग्रंथिशोथ) शरीर में परेशानियों की वजह बनता है। समय रहते
पहले से ही यदि इसका इलाज नहीं किया जाए, तो निम्नलिखित जटिलताओं और समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। Read more

सर्दी के मौसम में जोड़ों का दर्द

सर्दी के दिनों में दर्द से राहत आजकल ज्यादातर लोगों विशेषकर बुजुर्गों को जोड़ों के दर्द की शिकायत है। सर्दियों के मौसम में यह परेशानी और भी बढ़ जाती है। जिस कारण पूरी जीवनचर्या (लाइफस्टाइल) अस्त-व्यस्त हो जाती है। कहीं आना-जाना भी मुश्किल हो जाता है यह समस्या एक उम्र के बाद जोड़ों में लुब्रीकेशन […]

Read more

अमृतम च्यवनप्राश – उम्ररोधी (एंटीएजिंग) एक प्राचीन हर्बल मेडिसिन

एक उम्ररोधी (एंटीएजिंग) हर्बल ओषधि

2500 वर्ष पुराने आयुर्वेदिक ग्रन्थ
चरक सहिंता” – के अनुसार प्राचीन पद्धति और 72 से अधिक जड़ीबूटियों, रस-रसायनों से बना
“अमृतम च्यवनप्राश” केवल 2 या 3 महीने तक ऑनलाइन उपलब्ध है।
अमृतम का असली च्यवनप्राश जिसे बनाया है 5000 साल पुराने आयुर्वेदिक फार्मूले के मुताबिक |
शुद्ध घरेलू तरीके से निर्मित यह उम्ररोधी (एंटीएजिंग) च्यवनप्राश उन लोगों एवं परिवार को ज्यादा पसन्द आएगा जो

ओरिजनल की तलाश में हैंRead more

च्यवनप्राश का इतिहास औऱ फायदे

आयुर्वेद की सर्वश्रेष्ठ ओषधि

अमृतम च्यवनप्राश पूरी दुनिया में सर्वाधिक
विक्रय होने वाला आयुर्वेदिक उत्पाद है और सबसे अधिक गुणकारी व चमत्कारी भी है ।
अमृतम च्यवनप्राश में उम्ररोधी (एंटीएजिंग) तत्व मौजूद हैं, इसमें आंवला होता है,
जो विटामिन ‘सी’ (C) का बेहतरीन
स्त्रोत है, इसे सुखाने या जलाने के बावजूद इसमें मौजूद विटामिन सी की मात्रा कम नहीं होती। जिसे सबसे ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट माना जाता है।

72 ओषधियों से निर्मित

अमृतम च्यवनप्राश में शरीर को तंदरुस्त बनाने

वाली करीब 72 प्रकार की जड़ी-बूटियां के मिश्रण से इसका निर्माण किया जाता हैं। Read more

Ayurveda liver

लिवर की समस्या इसका स्थाई समाधान भी है आयुर्वेद में

लिवर के स्पर्श दोष यानि इंस्फेक्शन

कहीं आपका लिवर खराब तो नहीं है
कैसे करें – खराब लिवर की पहचान।
कहीं आप यकृत रोग से पीड़ित, तो नहीं हैं?
दिनोदिन आपका लिवर खराब तो नहीं
हो रहा, इन बातों के प्रति आपको सचेत
रहना बेहद जरूरी है, क्योंकि अगर आपका लिवर फंक्सन ठीक से काम नहीं कर रहा है, तो आपको बहुत सी बीमारियों का सामना
करना पड़ सकता है। इनसे बचने के लिए यह जानना जरूरी है कि आपका लिवर ठीक

ढंग से कार्य कर रहा है या नहीं। Read more

Ayurveda & Universe

यत पिंडे-तत ब्रह्माण्डे | Universe & Ayurveda

यत पिंडे-तत ब्रह्माण्डे

अर्थात सभी धर्म ग्रंथो में लिखा है कि
जो भी कुछ मनुष्य के पिण्ड यानी शरीर में है, बिल्कुल वैसा ही सब कुछ इस ब्राह्मांड में है। संपूर्ण ब्रह्मांड में जो भी है वह द्रव्य एवं ऊर्जा (Matter and energy) का संगम है।
वही हमारे शरीर में भी है।
Orthokey Basket

ठण्ड के दिनों आपको मेन्टेन करने वाली हर्बल कैप्सूल

सर्दियों में रहें सावधान, अन्यथा

■ ग्रंथिशोथ (,थायराइड),
■ गर्दन, पीठ व कमर में दर्द,
■ हाथ-पैरों की टूटन और सूजन
■ ज्यादा सर्दी लगना,
■ ठण्ड के कारण होने वाली जकड़न-अकड़न
■ शरीर का ठंडापन, शिथिलता
जैसी समस्याओं से परेशान हो सकते हैं। Read more

Ayurveda Health

आयुर्वेद की त्रिदोष नाशक दवाएँ — सभी संक्रमण, वायरस, और अनेक रोगों से लड़ने की ताकत है : आयुर्वेद में

क्या आप बहुत से रोगों से पीड़ित हैं,

तो आयुर्वेद से पाएं निदान

मानव शरीर में मौजूद एंजाइम रक्षक का काम करते हुए बाहर से आए किसी भी बेकार पदार्थ को शरीर से बाहर निकाल देता है।
5000 से अधिक पुराने इतिहास में,
इसने लोगों की तन-मन औऱ धन यानि
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक
विकास में बहुत योगदान दिया है।

आयुर्वेदिक पद्धति पुरानी है, बेकार नहीं। Read more

Ayurvedic Benefits of drinking water

100 वर्ष तक निरोग रहने के लिए अपनाएं ये तरीका

स्वस्थ्य जीवन और तन्दरूस्ती के लिए

यह नियम अपनाएं, तो निरोग रहकर

100 साल तक जी सकते हैं।

【】सुबह उठ कर खाली पेट अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए। आयुर्वेद के हिसाब से सुबह जागने के समय जठराग्नि यानि उदर में गर्मी होती है, इसलिए यदि सादा पानी पियें,तो और भी लाभकारी होता है।

सुबह उठते ही पानी पीने के फायदे –
प्रातः खाली पेट 2 से 3 गिलास पानी पेट और शरीर के अंदर की सभी प्रक्रियाओं को सक्रिय कर इम्यून सिस्टम (रोग प्रतिरोधी क्षमता) को मजबूत बनाता है |
kuf ka prakop

कफ का प्रकोप

कफ का प्रकोप—

जब व्यक्ति में कफ का प्रकोप बढ़ जाता है,
तब उसमें 【】हास्य, 【】शोक,

【】मूढ़ता, 【】रति, 【】तृष्णा

जगती है । Read more

Stay young with amrutam

वात विकार (अर्थराइटिस) की “24” (चौबीस) बीमारियों का कारण है

वात विकार (अर्थराइटिस) की 24″ (चौबीस) बीमारियों का कारण है —

वायु विकार यानि गैस की समस्या”

वायु का प्रकोप-

आयुर्वेद ग्रंथों के अनुसार उदर में बहुत समय तक गैस यानि वायु के बनने से वात की बीमारियां (अर्थराइटिस प्रोब्लम) उत्पन्न हो सकती हैं

● वात से रात खराब हो जाती है
●● नींद पूरी होती
●●● चिड़चिड़ाहट,गुस्सा,क्रोध उत्पन्न होता है। Read more

ayurveda eating habits

आयुर्वेद के मुताबिक “खाने के नियम”

पित्त दोष के कारण होने वाले 20 रोग

जाने इस आर्टिकल्स में

प्राचीन मान्यताओं न मानने वाले लोग अक्सर बीमार देखे जाते हैं। नियम विरुद्ध भोजन से अनेक तरह के विकार और पित्त दोष उत्पन्न
हो जाते हैं। पित्त की व्रद्धि शरीर में
बहुत सी परेशानियां खड़ी कर देती है।
यदि हमेशा स्वस्थ्य रहना चाहते हैं, तो
आयुर्वेद के नीचे लिखे सिंद्धात अपनाकर

तन को क्षतिग्रस्त होने से बचा सकते हैं – Read more

Rediscovering Ayurveda with Disha

Rediscovering Ayurveda with Disha Deshpande

Disha is a Yoga teacher and also a passionate traveller.

She has also worked as a music journalist previously with Rolling Stones India, it was during those days she came across a Yoga course and she felt I HAVE to go here! I HAVE to know what Yoga can do for me”. And, since that first experience, Disha has been passionately practicing yoga and travelling as well.

Disha also designed a series of workshops about Yoga and Art, which combines creativity and therapeutic benefits of yoga.

To know more about such workshops and follow disha here (@swastiastu.yoga)

Let’s learn more about Disha’s journey here.

How did you start your journey as Ayurveda Practitioner? (Tell us your story)

Read more

Sex & Ayurveda

सेक्स लाइफ को रखे बरकरार

सेक्स लाइफ को रखे बरकरार

पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन जितना अधिक होता है, उनकी सेक्स लाइफ उतनी बेहतर होती है।
यह न सिर्फ कामेच्छा बढ़ाता है, बल्कि पुरुषों को प्रोस्टेट कैंसर, हृदय रोग जैसी कई

बीमारियों से बचाता है।

जानिए, किस तरह शरीर में इस सेक्स हार्मोन को बढ़ाया जा सकता है।
हार्मोन्स असंतुलन कई वजहों से
होता है जैसे कि,
{{}} अनियमित जीवनशैली,
{{}} कुपोषण,
{{}} समय से भोजन ना करना,
{{}} ज्यादा तनाव लेना या चिन्ता करना,

{{}} व्यायाम ना करना, आदि।

Read more

Ulcerative colitis

जिओ माल्ट कोलाइटिस : पेट की एक खतरनाक बीमारी जाने – इस रोग के 5 लक्षण

कोलाइटिस :

पेट की एक खतरनाक बीमारी
जाने – इस रोग के 5 लक्षण

आंत की सूजन, जलन या दूसरी तरह की तमाम बीमारियों को कोलाइटिस कहते हैं। Read more

ayurveda-and-piles

बवासीर (पाइल्स) 13 तकलीफों को ठीक करें

बवासीर (पाइल्स) 13 तकलीफों को ठीक करें, समझदारी से शल्यचिकित्सा (ऑपरेशन) से बचने का आसान तरीका। क्यों होता है बवासीर : १- पुराना कब्ज, २- मल का कड़ा होना, ३- आँतों की खुश्की, ४- आँतों का क्षतिग्रस्त होना ५- पेट की खराबी, ६- पित्त का प्रकोप आदि कारण है -बवासीर होने का पाइल्स को ठीक […]

Read more
Brainkey Gold Malt

ब्रेन का मुख्य हिस्सा है – हिप्पोकैंपस

हिप्पोकैम्पस मानव तथा अन्य स्तनधारियों के मस्तिष्क का एक प्रमुख घटक है। 

यह दीर्घकालीन स्मृति व स्थानिक दिशा, निर्देशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

मस्तिष्क के एक ख़ास हिस्से “हिप्पोकैंपस“पर किए गए ताज़ा शोध के मुताबिक डिप्रेशन (अवसाद) दूर करने के लिए दी जाने वाली आयुर्वेदिक दवाओं जैसे — 


Read more

Anatomy of Brain Amrutam

इम्यून तंत्र क्या है?

केवल पुरुषों हेतु उपयोगी आर्टिकल
बढ़ती उम्र में शुक्राणुओं/स्पर्म की मात्रा कम होने लगती है।
40 के पार पुरुषों की प्रजनन कोशिकाओं की
क्षमता जवान पुरुषों की तुलना में लगभग 45-50 फीसदी कम हो जाती है।


Read more

Orthokey Gold

सर्दियों के समय 10 प्रकार के अचानक होने वाले दर्द, अकड़न-जकड़न का शर्तिया आयुर्वेदिक इलाज

सर्दियों के समय 10 प्रकार के अचानक होने वाले दर्द,
अकड़न-जकड़न का शर्तिया आयुर्वेदिक इलाज

【1】चलते-फिरते, उठते-बैठते,
【2】नहाते-धोते समय
【3】ज्यादा झुककर खड़े होने के कारण,
【4】तकिए के उपयोग से,
【5】कुर्सी पर ठीक से न बैठने से
【6】सुबह उठने के समय
【7】बार-बार मोंच आना
【8】अचानक कभी गर्दन में,
【9】कभी कमर में, जोड़ों में दर्द
【10】कभी अकड़न,जकड़न,कम्पन्न होना

अगर ये समस्या रोज-रोज होती हैं,
तोसावधान हो जाएं, क्योंकि आपको वात-विकार हो सकता है।


Read more

Zeo Malt

क्या आप पेट की इन “17”बीमारियों से परेशान हैं।

दो चम्मच हर्बल माल्ट खाएँ,
तो मिलेगी पेट की परेशानियों से मुक्ति
एक सर्वे के मुताबिक देश-दुनिया
में लगभग 51% लोग पेट की बीमारियों
और उदर रोगों से पीड़ित पीड़ित हैं।

करीब 22 से 28 फीसदी लोग रोज
पेट साफ करने वाली दवाओं का इस्तेमाल करते हैं,
जिससे उनकी आंतो और पेट में
अनेक विकार उत्पन्न हो जाते है।


Read more

Ayurvedic Face Clean Up

केशर, चिरौंजी, खस-खस युक्त फेस क्लीनअप

【】चेहरे की सुन्दरता अंदर का विश्वास जगाती है
【】कम उम्र में खूबसूरती ही सब कुछ है।
【】सौन्दर्य से मनोबल में वृद्धि होती है।
आयुर्वेदिक 100%फेस क्लीनअप से खूबसूरती
का अनुभव और एहसास किया जा सकता है।
ठण्ड के दिनों में चेहरे पर आकर्षण व त्वचा में निखार लाने और
तन को सुन्दर बनाने के लिए फेस क्लीनअप एक विलक्षण ओषधि है।


Read more

Hair Spa for new years-06

बालों की जड़ों को मजबूती के लिए पूर्णतः तेल रहित-कुन्तल केयर हर्बल हेयर बास्केट

क्या आपको डेन्ड्रफ,रूसी युक्त स्किन, बालों में खुजली, इचिंग रैशेस आपको परेशान करते हैं आयुर्वेद में इसकी 100 फीसदी चिकित्सा है।कुन्तल केयर हर्बल हेयर बास्केट पूर्णतः तेल रहित क्योंकि अब बालों में तेल लगाने का जमाना गयापेश है बिना तेल वाला एक नया हर्बल योगयह 100% आयुर्वेदिक है। Order Kuntal Care Hair Spa here! 【】शिकाकाई, […]

Read more

ब्राह्मी: बूटी ब्रह्मण: इयं ब्राह्मी।

ब्राह्मी
बूटी ब्रह्मण: इयं ब्राह्मी।
अर्थात-यह ब्रह्म या बुद्धि से संबंधित है यानी बुद्धिवर्धक है।

आयुर्वेद के अनुसार ब्राह्मी बाबू जमीन के अंदर या नीचे उत्पन्न होती हैं। जिन ओषधियों की जड़ उपयोग में विशेष
लाभकारी होती हैं उन्हें जड़ी कहा गया है।
जैसे – सौंठ, अदरक, भूमि आँवला, हल्दी।

जड़ी और बूटी’ दोनों अलग-अलग शब्द हैं

जड़ी का अर्थ है


Read more

Sexual Energy Winters

ठण्ड के दिनों में जोश और जवानी को जारी रखने हेतु एक हर्बल योग

अद्वितीय हर्बल योग
बी फेराल माल्ट और कैप्सूल
नशीले पदार्थो से मुक्त अदभुत
पेटेंट आयुर्वेदिक औषधि है।


Read more

Winter Hair Care Amrutam

बाल उगाने का 1 नैचुरल उपाय

【】बालों का झड़ना,
【】टूटना,पतला होना, बन्द करे।
【】रूसी (डेन्ड्रफ), खुजली,
【】दोमुंहापन मिटाने वाला औऱ
【】केशों को दुबारा उगाने का 1 नेचुरल तरीका: ये इतना आसान है
कि आपको विश्वास नहीं होगा!


Read more

5 गुप्तरोगों या (STD) के बारे में जाने–

“पांच” खतरनाक गुप्तरोग, जो तबाह कर सकते हैं?

5 गुप्तरोगों या (STD) के बारे में जाने–

यौन संचारित रोग यानी एसटीडीज रोगों के बारे आयुर्वेद की पुरानी किताबों में यह जानकारी सैकड़ों वर्षों से है।
इनमें 【1】 उपदंश (Syphilis),
एक प्रकार का गुप्त रोग है जो मुख्यतः लैंगिक संपर्क यानी सेक्स रिलेशन के द्वारा फैलता है।


Read more

crohns

आंतों से जुड़े गंभीर विकार- “क्रोंस डिजीज”

आंतों से जुड़े गंभीर विकार- “क्रोंस डिजीज” यानि पाचन तंत्र की परत को प्रभावित करने वाला पुराना रोग जिसमें पाचन तंत्र और आंतों में सूजन आ जाती है।

स्वास्थ्य रक्षक किताबों के मुताबिक

पेट साफ करने वाली दस्तावर मेडिसिन एवं प्रतिदिन कब्ज दूर करने वाले चूर्ण, टेबलेट व गोली के सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। क्यों की रोज-रोज कब्ज मिटाने वाली दवाओं से होती हैं कई बीमारियां और ऑटोइम्यून डिजीज


Read more

क्या आपको मालूम है — करीब 200 वर्ष पूर्व के आसपास डेंगू के बारे में पता चला था

डेंगू की आयुर्वेदिक दवा डेंगू संक्रमण एक “हड्डी तोड़ बुखार” है। चिकित्सा वैज्ञानिकों के अनुसार यह एक संक्रमण है। डेंगू फीवर वायरस के कारण तेजी से फेल रहा है। करीब 200 वर्ष पूर्व के आसपास डेंगू के बारे में पता चला थाडेंगू 1835 से पहले मच्छर के काटने से उत्पन्न हुआ ऐसा मानते हैं। हालांकि […]

Read more
0
Amrutam Basket
Your cart is empty.
X