Category: Amrutam Daily Lifestyle

Tridosha & Vata

क्या पहचान है त्रिदोष और वात प्रकृति वालों की। जानिए इस लेख में

क्या होता है त्रिदोष –

आयुर्वेद के प्राचीन ग्रन्थ ‘त्रिदोष-सिद्धांत’ के मुताबिक तन में जब वात, पित्त और कफ संतुलित या सम अवस्था में होते हैं, तब शरीर स्वस्थ रहता है । इसके विपरीत जब ये प्रकुपित होकर असन्तुलित या विषम हो जाते हैं, तो तन अस्वस्थ हो जाता है।

कैसे निर्मित होता है वातरोग

पृथ्वी और पानी मिल कर कफ बनाते हैं।

तेज से पित्त बनता है। वायु और आकाश से वात होता है। Read more

Indulge in Self-Love this Festive Season

आत्मप्रेम करने की ऋतु-बसंत

आत्मप्रेम करने की ऋतु-बसंत

जो महत्व सैनिकों शक्ति उपासकों के लिए अपने शस्त्रों और विजयादशमी का है, जो विद्वानों और गुरुभक्तों के लिए अपनी पुस्तकों, व्यास पूर्णिमा और गुरु पूर्णिमा का है, जो उद्योगपति, व्यापारियों के लिए अपने तराजू, बाट, बहीखातों और दीपावली का है, वही महत्व आत्मप्रेमियों के लिए वसंत पंचमी का है।

एक अनूठी आकर्षक ऋतु है वसंत की

 न सिर्फ बुद्धि की अधिष्ठात्री, विद्या की देवी सरस्वती का आशीर्वाद लेने की, अपितु स्वयं के मन के मौसम को परख लेने की, रिश्तों को नवसंस्कार – नवप्राण देने की। गीत की, संगीत की, प्रकृति के जीत की, हल्की-हल्की शीत की, नर्म-नर्म प्रीत की। Read more

सप्तधातु किसे कहते हैं

सप्तधातु किसे कहते हैं –

जिससे शरीर का निर्माण या धारण होता है, इसी कारण से इन्हें ‘धातु’ कहा जाता है धा अर्थात = धारण करना। हैं -सप्‍त धातुओं का शरीर में बहुत महत्‍व है। Read more

Kuntal Care Hair Fall

बालों के लिए आयुर्वेदिक काढ़ा

बालों के लिए आयुर्वेदिक काढ़ा

आयुर्वेदिक जड़ीबूटियों को 16 गुने पानी में इतना उबाले कि वह उबल कर दोगुना रह जाये, फिर, इसे खूब गाढ़ा करके
रख ले और रोज सुबह शाम बालों की जड़ों में 2 से 3 माह तक लगातार लगाए

खालित्य (गंजपन) का आयुर्वेदिक इलाज

आयुर्वेदिक दवाएँ तभी कारगर सिद्ध होतीं जब इनका उपयोग लम्बे समय तक किया जाए।
क्यों कि यह बीमारी को जड़ से बाहर निकालती हैं, इस वजह से इनके परिणाम (रिज़ल्ट) आने में कुछ समय लगता है। हर्बल दवाएँ त्रिदोषनाशक होती हैं।
इसके सेवन से शरीर के बहुत सारे विकार नष्ट होते हैं एवं बालों का झड़ना, टूटन, पतले होना, दोमुंहे होना, रूसी, बालों की गन्दगी आदि रोग हमेशा-हमेशा के लिए दूर हो जाते हैं ।

Read more

शीघ्रपतन किन 13 कारणों से होता है

शीघ्रपतन किन 13 कारणों से होता है

शीघ्रपतन के लक्षण –

सम्भोग के वक्त, समय से पहले वीर्य का
जल्दी निकल जाना शीघ्रपतन है। जब शिश्न प्रवेश (एंट्री)के साथ ही “एक्सिट” होने लगे या फिर, स्त्री अभी चरम पर न हो और व्यक्ति का स्खलन हो जाए तो यह शीघ्रपतन (Premature Ejaculation) है।

शीघ्रपतन के साइड इफ़ेक्ट

@ ऐसे में स्वयम से लाचार वअसंतुष्टि होना
@ ग्लानि, हीन-भावना,
@ नकारात्मक सोच या
@ अपने-आपको कोसना, कमजोर समझना,
@ शीघ्रपतन का स्थाई इलाज आयुर्वेद
में ही  मुमकिन है। Read more

पेल्विक कॅन्जेशन सिंड्रोम

महिलाओं की सेहत के लिए सबसे

विश्वसनीय है आयुर्वेदिक ओषधियाँ

■ पेड़ू में दर्द बना रहता है
■ मासिक धर्म की अनियमितता
■ नलों में सूजन
■ सफेद पानी की समस्या
■ चिड़चिड़ापन
■ खून व भूख की कमी

क्या होता पेड़ू का दर्द –

इसे पेल्विक कॅन्जेशन सिंड्रोम भी कहा जाता है। पेल्विक (पेड़ू) क्षेत्र में दर्द होने का एक प्रमुख कारण अंडाशय (ओवरी) से संबंधित है। ओवरी में कुछ ऐसी रक्त वाहिनियां (ब्लड वेसेल्स) होते हैं, जिनमें छोटे-छोटे वाल्व होते हैं जो रक्त के प्रवाह को सही दिशा में पहुंचाते हैं ताकि रक्त हृदय की नाडियों तक पहुंचता रहे।

Read more

कोलाइटिस – एक पेट की बीमारी

कब्ज से परेशान हैं या पेट साफ नहीं होता अथवा दस्त बंधकर नहीं आता, 

तो रोज रात को मुरब्बे, गुलकन्द से बना आयुर्वेद की इस औषधि का सेवन करें।
यह पुरानी से पुरानी कब्जियत और
आँतों की सूजन, पेट की जिद्दी बीमारियों को दूर करने सहायक है।

Read more

Brainkey Gold Malt studying

ब्राह्मी दिमाग के तन्तुओं को ऊर्जावान बनाती है

भूलने की बीमारी है
तो करें सबसे पुख्ता उपाय...
आयुर्वेद की यह ओषधि ब्रेन की कोशिकाओं को रिचार्ज करने में बहुत कारगर है।
इसमें मिलाई गई
ब्राह्मी दिमाग के तन्तुओं को
ऊर्जावान बनाती है। 
ब्राह्मी पढ़ने वाले बच्चों के लिए बहुत ही सर्वश्रेष्ठ ओषधि है।
जटामांसी का मिश्रण डिप्रेशन दूर कर नींद लाने विशेष उपयोगी है और रक्तचाप को सामान्य बनाने में बेजोड़ है।

शंखपुष्पी का अर्क बार-बार भूलने की आदत से निजात दिलाता है। Read more

घुटनो व जोड़ों का दर्द के लिए एक 100 फीसदी वात नाशक हर्बल सप्लीमेंट

लोगों को घुटनो व जोड़ों का दर्द,  सूजन, ग्रंथिशोथ (थायराइड) गर्दन की तकलीफ गठिया वाय आदि वातरोग अनेक कारणों से शरीर को बर्बाद कर रहा है। इन सब परेशानियों की वजह से मरीज चलने  फिरने में असहज महसूस करता है।  तत्काल लाभ के लिए लोग पेन किलर ओेषधियो के गुलाम बन जाते हैं और अंदर […]

Read more

क्या आप गलतुण्डिका के बारे में जानते हैं ?

क्या आप गलतुण्डिका के बारे में जानते हैं ?

गलतुण्डिका गले की एक बीमारी है, जिसे
सभी लोग टॉन्सिल्स के नाम से पहचानते हैं।
यह समस्या कम उम्र के बच्चों को या किसी को भी हो सकता है।
Healthy Amrutam

स्वस्थ्य तन-स्वच्छ वतन

स्वस्थ्य रहने के लिए – डिनर छोड़ें: 

ऐसी सोच बनाये कि,
रात्रि को भोजन नही करना है ?
जाने कितना नुकसान पहुंचाते हैं
हम तन-मन को।

सूर्यास्त के बाद डिनर करने से शरीर को बहुत नुकसान होते हैं, यह जानकर आप डर जाएंगे। Read more

प्रतिदिन अभ्यंग से होते होते हैं 10 लाभ

प्रतिदिन अभ्यंग से होते होते हैं 10 लाभ

आयुर्वेदिक अभ्यङ्ग है –9 तरह से लाभकारी

व्यायाम करने से पहले रोजाना अभ्यंग यानी मालिश करने से होते हैं अनेकों लाभ और हमारा स्वास्थ्य बना रहता है।

【1】अभ्यंग (मालिश) शरीर और मन की ऊर्जा का संतुलन बनाता है,
【2】वातरोग के कारण त्वचा के रूखेपन को कम कर वात को नियंत्रित करता है।
 【3】शरीर का तापमान नियंत्रित करता है।
【4】शरीर में रक्त प्रवाह और दूसरे द्रवों के प्रवाह में सुधार करता है।
【5】अभ्यंग त्वचा को चमकदार और मुलायम बनाता है।
【6】मालिश की लयबद्ध गति जोड़ों और मांसपेशियों की अकड़न-जकड़न को कम करती है।
 【7】अभ्यङ्ग से त्वचा की सारी अशुद्धियाँ दूर हो जाती हैं, तब हमारा पाचन तंत्र ठीक हो जाता है।
【8】 पूरे शरीर में ऊर्जा और शक्ति का संचार होने लगता है।
 【9】अभ्यङ्ग यानि मालिश से शरीर में रक्त परिसंचरण बढ़ता है और

 【10】शरीर के सभी विषैले तत्त्व बहार निकल जाते हैं।< Read more

Chawanprash Amrutam

अमृतम हर्बल च्यवनप्राश का सेवन कर इम्युनिटी पॉवर बढ़ाएं।

एक पुरानी आयुर्वेदिक कहावत है –

धन गया, तो कुछ नहीं गया

तन गया गया, तो सब कुछ गया।
शरीर सबसे कीमती धन है।
प्रतिदिन अपने स्वास्थ्य को बेहतरीन
बनाने पर ध्यान दो।

Read more

पीपल द्वारा सर्दी-खाँसी से पीछा छुड़ाएं

पीपल निमोनिया,फेफड़ों के इंफेक्शन दूर करती है। आयुर्वेद की एक अदभुत ओषधि है
जाने 14 फायदे

सर्दी जुखाम से तत्काल लाभ हेतु

Read more

endometriosis

क्‍या है एन्‍डोमीट्रीओसिस ? लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक इलाज

महिलाओं को दिनोदिन बढ़ रही हैं आधुनिक युग की बीमारियां और समस्‍याएं

वर्तमान में भागादौड़ी के इस भौतिक युग
की वजह से नित्य नये स्त्रीरोग उत्पन्न हो रहे हैं और महिलाओं को कई प्रकार की स्‍वास्‍‍थ्‍य समस्‍यायें भी पैदा हो रही हैं। इन सबका सर्वाधिक दुष्प्रभाव महिलाओं की सुन्दरता पर पड़ रहा है।

एन्‍डोमीट्रीओसिस (Endometriosis)

यानि गर्भाशय सम्बंधित ऐसा विकार है जिसमें नवयोवनाएँ पीरियड्स अर्थात मासिक धर्म के दौरान बहुत विचलित हो जाती हैं।
तथा यौन संबंध बनाते समय असहनीय दर्द होना जैसे प्रमुख लक्षण इस बीमारी के कारण दिखाई पड़ते हैं।
इसका आसानी से उपचार आयुर्वेदिक दवा द्वारा किया जा सकता है।< Read more

लम्बे घने बाल, बला की खूबसूरती बढ़ाते हैं कुन्तल केयर हर्बल हेयर स्पा

बालों को बलशाली बनाने और

बालों को सब प्रकार से अच्छा रखने के लिए बाल बढ़ाने वाला आयुर्वेदिक उपाय

 बालों का झड़ना-टूटना बन्दतुरन्त
लम्बे घने बाल, बला की खूबसूरती बढ़ाते हैं
आयुर्वेदिक 100%
■ बालों को पोषण दे।
■ बालों का झड़ना-टूटना बन्द करे।

Read more

अमृतम च्यवनप्राश से होते हैं 13 फायदे

एक चम्मच अमृतम च्यवनप्राश खाएं
रोगप्रतिरोधक क्षमता और इम्यूनिटी बढ़ायें

अमृतम च्यवनप्राश एक सुरक्षित हर्बल टॉनिक है यह सभी उम्र वालों के लिए फायदेमन्द है।

अमृतम च्यवनप्राश भारत के सर्वाधिक प्राचीन आयुर्वेदिक स्वास्थ्य पूरकों में से एक है, जो एंटीएजिंग एवं शक्तिवर्धक ओषधि है। इसके सेवन से अपना बुढापा रोक सकते हैं। Read more

आलस्य और लापरवाही न करें

आयुर्वेद …के द्वारा ही असाध्य रोगों से बचा जा सकता है

आलस्य और लापरवाही न करें

तन में  कोई न कोई विकार अपना आकार लेते

रहते हैं । लापरवाही एवं अज्ञानता के कारण ये रोग शरीर को अंदर ही अंदर खोखला करते रहते हैं। इसका दुष्परिणाम यह होता है कि व्यक्ति कम उम्र में। ही खतरनाक उदर रोग,
लिवर की समस्या, पेट की बीमारी, केन्सर थायराइड, नामर्दी, नपुंसकता, जैसी असाध्य बीमारियों का शिकार हो जाता है।
एक शोध के अनुसार देश में 60 फीसदी से ज्यादा महिलाओ का मासिक धर्म अनियमित हो चुका है, जिससे उनकी खूबसूरती

जवानी में ही नष्ट हो रही है। Read more

रोगों का रायता फैलने की 12 वजह

रोगों का रायता फैलने की 12 वजह

आयुर्वेद के प्राचीन शास्त्र “माधव निदान

के अनुसार रोगी में कब और कैसे
“रोगों का रायता” फेलने लगता है –
हमारी लापरवाही के कारण शरीर बीमारियों का अखाड़ा
और परेशानियों का पिटारा बन जाता है ।
  नियमों के विपरीत चलने से शरीर में  त्रिदोष उत्पन्न होता है, जिससे धीरे-धीरे रोगप्रतिरोधक क्षमता कम होने लगती है।
पाचनतंत्र कमजोर हो जाता है।

व्याधि से बर्बादी के और भी कारण हैं –

【1】प्रातः जल्दी सोकर न उठने से
【2】सुबह उठते ही पानी न पीने से
【3】रात में दही खाने से समय पर भोजन न करना,

【4】व्यायाम-कसरत न करना तथा Read more

क्या आपको आयुर्वेद की इस चमत्कारी ओषधि के बारे में मालूम है?

क्या आपको आयुर्वेद की इस चमत्कारी ओषधि के बारे में मालूम है?

यह औषधि केवल शक्तिवर्धक ही नहीं,
बल्कि यौन शक्ति को भी जागृत करने में सहायता करती है।
आप मानो या ना मानो
भारत की पुरानी देशी वियाग्रा में छुपा है वो गुण, जिसे पढ़कर आप भी हो जाएंगे हैरान..!
अमृतम के इस आर्टिकल में
आयुर्वेद के ग्रंथो में जो किस्से काफी अनसुने, पुराने या फिर रोचक अथवा अधूरे रह गये हैं, उन सब दुर्लभ जानकारियों से आपको अवगत कराया जाएगा
इस ब्लॉग में 5000 साल पुरानी उस आयुर्वेदिक शक्तिवर्धक ओषधि की
जानकारी प्रस्तुत है, जिसे सभी ने उपयोग,

तो किया किन्तु यह दवा किस हद तक चमत्कारी है तथा आपको कितना फायदा  पहुंचा सकती है इसकी जानकारी लोगों को न के बराबर ही होगी। Read more

संकल्प में सहायक मकर संक्रान्ति

तन-मन को मजबूत करने वाला 

महापर्व मकर संक्रांति,

जाने  –7 सात कारण

सूर्य एक राशि में एक माह रहते हैं और यह  हर महीने राशि बदलते हैं। सूर्य का एक राशि से दूसरे राशि में जाना संक्रमणकाल या  संक्रांति कहलाती है।
संक्रांति का अर्थ है  –
प्रकृति में परिवर्तन का समय।     
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मकर राशि बारह राशियों में दसवीं राशि होती है। सूर्य जिस राशि में प्रवेश करते हैं, उसे उस राशि की संक्रांति माना जाता है। उदाहरण के लिए यदि सूर्य मेष राशि में प्रवेश करते हैं तो मेष संक्रांति कहलाती है, धनु में प्रवेश करते हैं तो धनु संक्रांति कहलाती और हर साल
14 या 15 जनवरी को सूर्य मकर में प्रवेश करते हैं, तो इसे मकर संक्रांति के रूप में जाना जाता है।

क्या है सूर्य का उत्तरायण होना —

इस दिन सूर्य पृथ्वी की परिक्रमा करने की दिशा बदलता है, थोड़ा उत्तर की ओर ढलता जाता है। इसलिए इस काल को उत्तरायण भी कहते हैं।

Read more

असरकारक योग से निर्मित ऑर्थोकी गोल्ड कैप्सूल 88 तरह के वात विकार (अर्थराइटिस) जड़ से मिटाता है

वात को मारे लात

हमारे प्रतिरोधी तन्त्र यानी इम्यून सिस्टम में
कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं, जिनकी कमी
से शरीर में संक्रमण होता रहता है जैसे
सर्दी-जुकाम, निमोनिया आदि भी यदि गम्भीर
रूप धारण कर ले, तो क्षयरोग, हड्डियों की टीबी एवं ग्रंथिशोथ (थायराइड) आदि अनेक वातरोग यानि अर्थराइटिस को जन्म देते हैं।

Read more

क्यों बढ़ रही हैं बीमारियां और वजन

एक सर्वे के मुताबिक – 50 फीसदी जनसंख्या “फिजिकली एक्टिविटी” के हिसाब से अनफिट है। देश की 53 फीसदी महिलाओं की शारीरिक क्रियाशीलता या फुर्ती (एक्टिविटी) आवश्यक स्तर से कम है। करीब 48 फीसदी पुरूष भी शारीरिक या मानसिक रूप से सक्रिय नहीं हैं।

स्वास्थ्य को लेकर अवलोकन/सर्वे करने वाला एप “हेल्थीफाई मी” के अनुसार 25 वर्ष से अधिक उम्र के लगभग 10 लाख भारतीय लोगों के स्वास्थ्य से जुड़ी आदतों पर फोकस किया। Read more

थायराइड ग्रंथि में समस्‍या के संकेत

थायराइड ग्रंथि में समस्‍या के संकेत

■ थायराइड ग्रंथि एंडोक्राइन ग्रंथि है जो मानव शरीर के चयापचय (मेटाबॉलिज्‍म) अर्थात पाचन तन्त्र को नियंत्रित करती है।..
थाइराइड के लक्षण बहुत देर में पता चलते हैं।
गले और शरीर के किसी भी भाग में सूजन एवं हल्का दर्द होता रहता है।
■ व्यक्ति चिढ़-चिढ़ा हो जाता है।

■ आमतौर पर महिलाएं इस रोग का ज्यादा शिकार होती हैं।.. Read more

एकाग्रता कैसे बढ़ाएं

एकाग्रता बढ़ाकर दूर करें डिप्रेशन –

एकाग्रता बढ़ाने के लिए पहले आप खुद ही प्रयास करें, इसके लिए बहुत समय और मेहनत की ज़रुरत होती है। दिनभर में कम से कम 20 से 30 बार गहरी श्वांस नाभि केंद्र तक ले जाकर, धीरे-धीरे छोड़ें।
◆ उदासी के समय आनंद की बातें सोचें

◆ दुःखी होते समय पिछले सुख को अपने मानसपटल पर लाएं। Read more

Brainkey Gold Malt studying

बच्चों की एकाग्रता और याददास्त कैसे बढाएं

पढ़ने वाले बच्चों की मानसिक दुर्बलता और मनोविकार कैसे मिटाये –

पढ़ाई के लिए एकाग्रता बहुत जरूरी है।
एकाग्रता यदि न हो, तो विद्यार्थी जीवन नरक
बन सकता है।

बच्चों की एकाग्रता और याददास्त कैसे बढाएं

जल्दी और असरदार रूप से एकाग्रता बढ़ाने के लिए आयुर्वेद में ब्रेन की अवयवों को ठीक करने वाली ऐसी जड़ीबूटियों ब्राह्मी, स्मृतिसागर रस आदि के योग हैं, जो आसान तरीके से आपकी एकाग्रता एवं याददास्त में वृद्धि कर अवसाद यानी डिप्रेशन को मिटा सकते हैं।
एकाग्रता और दिमाग को धारदार बनाने एवं मन को खुश रखने के लिए पोषण

तत्वों का सेवन करें –

हमारे द्वारा किये गए भोजन से ही तन और मन दोनों का पोषण होता है। पोषक तत्वों से रहित अन्नादि के कारण शरीर व मानसिक शक्तियों को जागृत करने या देखभाल करने में असहज हो जाता है अथवा तन-मन का पोषण करने में असमर्थ होता है।

Read more

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट -10 | हड्डियों में सघनता कम होने से आता है हड्डियों में खोखलापन — ओस्टियोपोरोसिस’ (Osteoporosis)

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट -10

पिछले आर्टिकल पार्ट 9 में यक्ष्मा के बारे में बता चुके हैं। इस लेख पार्ट 10 में जाने –
अस्थिशूल, संधिशूल के बारे में —

जोड़ो का दर्द होना आजकल एक आम समस्या है। यह किसी उम्र वालों को कभी भी, किसी भी कारण से हो सकता है | जैसे बुढापा, पुरानी चोट , अप्राकृतिक जीवनचर्या और लापरवाह जीवन शैली की वजह इससे हड्डियों में खिचाव होने लगता है। Read more

बाल झड़ने के “14” कारण

बाल बहुत लम्बे हों, घने, चमकदार, खूबसूरत हों बड़े और लम्बे बाल, बला की आफत होते हैं। लम्बी जुल्फों के लिए कवियों औऱ शायरों ने अपने भाव प्रकट करते हुए बहुत कुछ लिखा
बलशाली बालों के लिए “33” बेहतरीन शायरियां
कुन्तल केयर के इस आर्टिकल में जानिए —
बालों के बारे में शायरों, कवियों के विचार
बाल लम्बे होंगे, तभी कोई शायर  कह पायेगा कि –
【1】कम से कम अपने बाल,
          तो बाँध लिया करो,
          कमबख्त बेवजह मौसम
          बदल दिया करते हैं।

वात का साथ कैसे होता है?

वात का साथ कैसे होता है?

हमारे प्रतिरोधी तन्त्र  यानी इम्यून सिस्टम में
कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं, जिनकी कमी
से शरीर में संक्रमण होता रहता है, जैसे
सर्दी-जुकाम, निमोनिया भी यदि गम्भीर
रूप धारण कर ले, तो क्षयरोग, हड्डियों की टीबी एवं ग्रंथिशोथ (थायराइड) आदि अनेक वातरोग (अर्थराइटिस) को जन्म देते हैं।
लम्बे समय तक अर्थराइटिस बने रहने पर
 शरीर में टूटन, सूजन, कम्पन्न, थायराइड, गठिया जैसी बीमारियां उत्पन्न होने लगती है, जो जटिल समस्याओं का समूह है।
वात से बिगड़ते हालात
 वातविकार पुराना होने पर शरीर की हड्डियों

 को गलाना शुरू कर देते हैं। जोड़ों में लचीलापन और लुब्रिकेंट कम या खत्म हो जाता है। Read more

मेदोवृद्धि यानि मोटापा और शरीर की कमजोरी दोनो तकलीफों से निजात दिलाने वाली एक विलक्षण हर्बल ओषधि

मोटापे के कारण जिन लोगों को कमजोरी आ जाती है। मेदोवृद्धि की वजह से जिनकी देह मोटी हो गई हो, परन्तु शरीर में बल या ताकत न बची हो।
—  थोड़े से परिश्रम में श्वांस भर जाता हो।
—  क्षुधा यानि भूख और तृषा यानि प्यास को
रोकने में अति कष्ट होता है,
—  समय पर भोजन न मिलने पर विविध प्रकार के वायु व वात प्रकोप उपस्थित या उत्पन्न होते हैं, तो ऐसी अवस्था में

एक गिलास गर्म पानी में घोलकर दिन में 3 से 4 बार 5 माह तक सेवन करें। Read more

मालिश से होते हैं 14 फायदे और हड्डियां होती हैं मजबूत।

प्रतिदिन तन का अभ्यङ्ग करना अत्यंत
लाभकारी कर्म है। मालिश से शरीर 
मस्त-मलंग और मजबूत होता है।
2000 वर्ष पुराने आयुर्वेद के पुराणों
में उल्लेख है कि — 
अभ्यंगमाचरेंनित्यं स जराश्रमवाताहा। दृष्टिप्रसाद पुष्टयामु स्वप्न सुत्वक्चदाढ़र्य कृत। शिरः श्रवणपादेषु तं विशेषेण शिलयेत।
अर्थात —

प्रतिदिन तेल मालिश करने से वायुविकार, बुढ़ापा, थकावट नहीं होती है। दृष्टि कि स्वच्छता, यानि आंखों की रोशनी बढ़ती है। Read more

Kayakey

काया की मसाज ऑयल से पाचनतंत्र होता है मजबूत

आयुर्वेद के संस्कृत ग्रंथों के मुताबिक

जिन्हें अपना पाचनतंत्र (मेटाबोलिज्म)
हमेशा ठीक रखने की चाहत हो, उन्हें प्रतिदिन काया की मसाज़ ऑयल से मालिश जरूर करना चाहिए
अभ्यंग-तेल मालिश से शरीर की
पाचन प्रणाली (Digestive system)
सुधरती है, क्योंकि अभ्यङ्ग से ब्लड सर्कुलेशन सुचारू होता है।
मालिश से लाभ
इसके लिए शास्त्रों में लिखा है कि
अथ जातान्न पानेच्छो 
मरुतध्नैः सुगन्धिभिः। 
यथर्तुसंर्स्पश 
सुखैस्तैलैरभ्यंग माचरेत।
उदर को ठीक रखने, पाचनतंत्र को मजबूत बनाने और कुछ भी खाया पिया समय
पर पचाने या अन्नपान कि इच्छा करने वाला पुरुष यदि यह चाहता है कि पेट में मन्दाग्नि और अजीर्ण न हो तो ऋतु के अनुसार सुख देने वाले वायुनाशक सुगन्धित तेलों से शरीर

की मालिश (अभ्यङ्ग) बहुत आवश्यक है। Read more

च्यवनप्राश अवलेह नाम कैसे पड़ा?

आयुर्वेद की बहुत प्राचीन 5 किताबों जैसे

{{१}} “रसतन्त्र सार व सिद्धप्रयोग संग्रह
{{२}} चरक सहिंता
{{३}} शारंगधर सहिंता
{{४}} भावप्रकाश
{{५}} आयुर्वेद सिद्ध संग्रह
{{६}} आयुर्वेद सार संग्रह
{{७}} अर्क प्रकाश

आदि शास्त्रों के मुताबिक
च्यवनप्राश का सेवन से तन के सभी विकार,
और अनेकों ज्ञात-अज्ञात आधि-व्याधियों
का नाश हो जाता है और बुढ़ापे के लक्षण नष्ट हो सकते हैं। खोई हुई जवानी पुनः पा सकते हैं बशर्ते यह आयुर्वेद की 5000 वर्ष पुरानी प्राचीन पद्धति से बना हो। Read more

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 9

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 9

पिछले आर्टिकल पार्ट 8 में बताया था- अपतानक (धनुर्वात) Tetanus मांसपेशियों की तकलीफ और 

सूजन,क्या है?

इस लेख पार्ट 9 में जाने –
यक्ष्मा रोग ट्यूबरक्लोसिस यानि टी बी के लक्षण ओर उपचार

यक्ष्मा क्या है –

क्षय रोग (टी.बी) एक संक्रामक बीमारी है जो  प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने की वजह से होता है

एक गंभीर, संक्रामक और बैक्टीरिया से होने वाली बीमारी जो मुख्‍य रूप से फेफड़ों को प्रभावित करती है और जानलेवा हो सकती है
यक्ष्मा, तपेदिक, क्षयरोग या एमटीबी
माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस नामक बैक्टीरिया के कारण होता है टीबी रोग। Read more

Mastiksha Ka Astitva

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 8

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 8

पिछले आर्टिकल्स पार्ट 7 में 5 प्रकार के लकवा, पक्षाघात या पैरालिसिस के विषय में बताया गया था
इस लेख पार्ट 8 में जाने
अपतानक (धनुर्वात) Tetanus मांसपेशियों की तकलीफ और सूजन,क्या है?
जबड़े और गर्दन की मांसपेशियों (Muscle) में संकुचन का कारण बनता है, विशेष रूप से  यह सांस लेने में अवरोध उत्पन्न कर सकता है,
पूरे शरीर में –  तंत्रिका तंत्र के द्वारा शरीर के विभिन्न अंगों का नियंत्रण और Organ व वातावरण में सामंजस्य स्थापित होता है, उसे तन्त्रिका तन्त्र कहते हैं।
हमेशा उच्च रक्तचाप बने रहना,
अंगों का ठीक काम न करना,
बहुत पसीना आना,
बुखार रहना आदि समस्या
तन्त्रिका तन्त्र की कमजोरी से होता है।

Read more

for liver health amrutam

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 7

पिछले लेख पार्ट 6 में हमने
तन-मन में रोगों के तीन स्थान के
बारे में लिखा था, जिसमें शेष 2 की
जानकारी देना थी अब

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 7

इस आर्टिकल्स में आयुर्वेद ग्रंथों के मुताबिक
5 प्रकार के लकवा, 
पक्षाघात या पैरालिसिस के विषय में जानेंगे

शरीर में दूसरे प्रकार होने वाले रोग और स्थान — Read more

Brainkey Gold Malt

Rasayana chikitsa

Rasayana chikitsa is a branch of ayurvedic treatment that has a strengthening and rejuvenating action on the body. Possessing such qualities, it is something that is a somewhat attraction in this modern age due to the fact that it essentially has an ‘anti-ageing’ effect. Rasayana chikitsa is most beneficial after the body has been on […]

Read more

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 6 अति दुर्लभ ज्ञान

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 6

पिछले लेख पार्ट 5 में हमने तीन तरह के रोगों के बारे में लिखा था, अब जाने रोगों के स्थान शरीर में इन तीन स्थानों पर रोग पैदा होते हैं
तीन रोग स्थान
तन-मन में रोगों के तीन स्थान बतलाए हैं

पहला रोग स्थान

सबसे पहले शरीर की सप्त धातुओं में रोग उत्पन्न होते हैं। इन सात धातु के नाम निम्न प्रकार हैं

【1】रस
【2】रक्त या खून (blood)
【3】माँस
【4】मेद यानि चर्बी Read more

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 5

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 5
पिछले आर्टिकल पार्ट 4 में
4 तरह की अग्नि से पैदा होने वाले रोग के बारे में बताया था।
“इस आलेख में जानिए रोग के प्रकार”
रोग तीन तरह के होते हैं

【1】निज रोग —

त्रिदोषों यानि वात, पित्त व कफ के बिगड़ने
से शरीर में जो रोग होते हैं वे “निज रोग” कहे
जाते हैं। निज रोग से पीड़ित व्यक्ति कभी

पूरी तरह स्वस्थ्य नहीं रहता। Read more

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 4

जाने – प्राचीन आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 4

पिछले आर्टिकल में तेरह तरह के वेग रोकने
से भयंकर बीमारियां होती हैं। अब आगे

द्विदोषज रोग क्या होते हैं

आयुर्वेद शास्त्रों के अनुसार जो रोग

वात,पित्त और कफ इन तीन दोषों में से किन्हीं दो दोषों से युक्त कोई बीमारी हो, उसे द्विदोषज रोग कहा जाता है। Read more

Lices ayurvedic medicine

बालों में गन्दगी के कारण पड़ते हैं लीख व जुएँ

सिर में जुएं और लीख पड़ना

क्यों और कैसे पड़ते हैं जुएँ।
इसके लक्षण, कारण और प्राकृतिक उपचार कारण एवं 100% हर्बल चिकित्सा
 
बोरिंगखारे और प्रदूषित पानी से बाल

धोने पर सिर में लीखजुएं पड़ जाते हैं। Read more

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 3

आयुर्वेद ग्रंथों में 8 प्रकार के मूत्र के विषय

में बताया है- 

 आठ मूत्र
【1】गाय का मूत्र, 【2】बकरी का मूत्र
【3】भेड़ का मूत्र, 【4】भैंस का मूत्र,
【5】हथिनी का मूत्र,

【6】ऊंटनी व 【7】घोड़ी का मूत्र और Read more

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट – 2

क्या आपको “पंचलवण” के बारे में

मालूम है, ये पांच तरह के नमक अजीर्ण, वायुगोला, शूल (पेट दर्द) और उदर रोगों को मिटाते हैं।

पित्तनाशक रस – त्रिदोषों में से एक पित्तदोष,
जो पेट व उदर विकार और ज्वर/फीवर/
बुखार, डेंगू आदि रोग उत्पन्न करता है।
दुबलापन, कमजोरी, चिड़चिड़ापन,
मधुमेह पाचनतंत्र (मेटाबोलिज्म) की
खराबी अस्त-व्यस्त पाचन प्रणाली (Digestive system) और पेट की बीमारियां, एसीडिटी, अफरा आदि

अनेक आधि-व्याधि का कारण पित्त दोष है। Read more

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट

जाने – आयुर्वेद के बारे में पार्ट -1

धन्वन्तरि कृत “आयुर्वेदिक निघण्टु”
लेखक प्रेमकुमार शर्मा
(भारतीय जड़ी-बूटी तथा ओषधियों के शोधकर्ता) के अनुसार
आयुर्वेद उसे कहते हैं, जो आयु और स्वास्थ्य
का हित-अहित बताकर रोग मुक्त होकर जीवन

का ज्ञान उपलब्ध कराए। Read more

ठण्ड के मौसम में मालिश से 28 फायदे

सर्दियों में रूखी त्वचा के लिए वरदान

कुम-कुमादि, बादाम (आलमंड), 
जैतून (ऑलिव) और चंदनादि
प्राकृतिक खुशबूदार तेलों से निर्मित
चिप-चिपाहट रहित 100% आयुर्वेदिक तेल
पूरे परिवार और बच्चों की

मालिश और अभ्यङ्ग के लिए गुणकारी है। Read more

“अमृतम क्विज” बताओ, तो जाने — अमृतम आयुर्वेद ज्ञान प्रतिस्पर्धा (कॉम्पटीशन)

क्या आप जानते हैं?

आयुवेद की एक बूटी का नाम
कलियुग आलय,
भूतवास और कलिद्रुम भी है।
यह बालो का झड़ना तुरन्त रोकती है। 
बालों के लिए अत्यन्त हितकर है।
 

इस बूटी का नाम बताएं (फेसबुक पोस्ट पर कमेंट करें ) Read more

Rediscovering Ayurveda with Justine Miller

थायराइड का 100% हर्बल कैप्सूल

ऑर्थोकी गोल्ड कैप्सूल 

आयुर्वेदिक 100%
थायराइड की सर्वश्रेष्ठ ओषधि

अंडरएक्टिव थायरॉयड (ग्रंथिशोथ) शरीर में परेशानियों की वजह बनता है। समय रहते
पहले से ही यदि इसका इलाज नहीं किया जाए, तो निम्नलिखित जटिलताओं और समस्याओं  का सामना करना पड़ सकता है। Read more

सर्दी के मौसम में जोड़ों का दर्द

सर्दी के दिनों में दर्द से राहत आजकल ज्यादातर लोगों विशेषकर बुजुर्गों को जोड़ों के दर्द की शिकायत है। सर्दियों के मौसम में यह परेशानी और भी बढ़ जाती है। जिस कारण पूरी जीवनचर्या (लाइफस्टाइल)  अस्त-व्यस्त हो जाती है। कहीं आना-जाना भी मुश्किल हो जाता है यह समस्या एक उम्र के बाद जोड़ों में लुब्रीकेशन […]

Read more

अमृतम च्यवनप्राश – उम्ररोधी (एंटीएजिंग) एक प्राचीन हर्बल मेडिसिन

एक उम्ररोधी (एंटीएजिंग) हर्बल ओषधि

2500 वर्ष पुराने आयुर्वेदिक ग्रन्थ
चरक सहिंता” – के अनुसार प्राचीन पद्धति और 72 से अधिक जड़ीबूटियों, रस-रसायनों से बना
“अमृतम च्यवनप्राश” केवल 2 या 3 महीने तक ऑनलाइन उपलब्ध है।
 अमृतम का असली च्यवनप्राश जिसे बनाया है 5000 साल पुराने आयुर्वेदिक फार्मूले के मुताबिक |
शुद्ध घरेलू तरीके से निर्मित यह उम्ररोधी (एंटीएजिंग) च्यवनप्राश उन लोगों एवं परिवार को ज्यादा पसन्द आएगा जो

ओरिजनल की तलाश में हैंRead more

च्यवनप्राश का इतिहास औऱ फायदे

आयुर्वेद की सर्वश्रेष्ठ ओषधि 

अमृतम च्यवनप्राश पूरी दुनिया में सर्वाधिक
विक्रय होने वाला आयुर्वेदिक उत्पाद है और सबसे अधिक गुणकारी व चमत्कारी भी है ।
अमृतम च्यवनप्राश में उम्ररोधी (एंटीएजिंग) तत्व मौजूद हैं,  इसमें आंवला होता है,
जो विटामिन ‘सी’ (C) का बेहतरीन
स्त्रोत है, इसे सुखाने या जलाने के बावजूद इसमें मौजूद विटामिन सी की मात्रा कम नहीं होती। जिसे सबसे ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट माना जाता है।

72 ओषधियों से निर्मित

अमृतम च्यवनप्राश में शरीर को तंदरुस्त बनाने

वाली करीब 72 प्रकार की जड़ी-बूटियां के मिश्रण से इसका निर्माण किया जाता हैं। Read more

Ayurveda liver

लिवर की समस्या इसका स्थाई समाधान भी है आयुर्वेद में

लिवर के स्पर्श दोष यानि इंस्फेक्शन

कहीं आपका लिवर खराब तो नहीं है
कैसे करें – खराब लिवर की पहचान।
कहीं आप यकृत रोग से पीड़ित, तो नहीं हैं?
दिनोदिन आपका लिवर खराब तो नहीं
हो रहा, इन बातों के प्रति आपको सचेत
रहना बेहद जरूरी है, क्योंकि अगर आपका लिवर फंक्सन ठीक से काम नहीं कर रहा है, तो आपको बहुत सी बीमारियों का सामना
करना पड़ सकता है। इनसे बचने के लिए यह जानना जरूरी है कि आपका लिवर ठीक

ढंग से कार्य कर रहा है या नहीं। Read more

Ayurveda & Universe

यत पिंडे-तत ब्रह्माण्डे | Universe & Ayurveda

यत पिंडे-तत ब्रह्माण्डे

अर्थात सभी धर्म ग्रंथो में लिखा है कि
जो भी कुछ मनुष्य के पिण्ड यानी शरीर में है, बिल्कुल वैसा ही सब कुछ इस ब्राह्मांड में है। संपूर्ण ब्रह्मांड में जो भी है वह द्रव्य एवं ऊर्जा (Matter and energy) का संगम है।
वही हमारे शरीर में भी है।
Orthokey Basket

ठण्ड के दिनों आपको मेन्टेन करने वाली हर्बल कैप्सूल

सर्दियों में रहें सावधान, अन्यथा

■ ग्रंथिशोथ (,थायराइड),
■ गर्दन, पीठ व कमर में दर्द,
■ हाथ-पैरों की टूटन और सूजन
■ ज्यादा सर्दी लगना,
■ ठण्ड के कारण होने वाली जकड़न-अकड़न
■ शरीर का ठंडापन, शिथिलता
जैसी समस्याओं से परेशान हो सकते हैं। Read more

Ayurveda Health

आयुर्वेद की त्रिदोष नाशक दवाएँ — सभी संक्रमण, वायरस, और अनेक रोगों से लड़ने की ताकत है : आयुर्वेद में

क्या आप बहुत से रोगों से पीड़ित हैं, 

तो आयुर्वेद से पाएं निदान

मानव शरीर में मौजूद एंजाइम रक्षक का काम करते हुए बाहर से आए किसी भी बेकार पदार्थ को शरीर से बाहर निकाल देता है।
 5000 से अधिक पुराने इतिहास में, 
इसने लोगों की तन-मन औऱ धन यानि 
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक 
विकास में बहुत योगदान दिया है। 

आयुर्वेदिक पद्धति पुरानी है, बेकार नहीं। Read more

Ayurvedic Benefits of drinking water

100 वर्ष तक निरोग रहने के लिए अपनाएं ये तरीका

स्वस्थ्य जीवन और तन्दरूस्ती के लिए 

यह नियम अपनाएं, तो निरोग रहकर

100 साल तक जी सकते हैं।

【】सुबह उठ कर खाली पेट अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए। आयुर्वेद के हिसाब से सुबह जागने के समय जठराग्नि यानि उदर में गर्मी होती है, इसलिए यदि सादा पानी पियें,तो और भी लाभकारी होता है।

सुबह उठते ही पानी पीने के फायदे –
प्रातः खाली पेट 2 से 3 गिलास पानी पेट और शरीर के अंदर की सभी प्रक्रियाओं को सक्रिय कर इम्यून सिस्टम (रोग प्रतिरोधी क्षमता) को मजबूत बनाता है |
kuf ka prakop

कफ का प्रकोप

कफ का प्रकोप—

जब व्यक्ति में कफ का प्रकोप बढ़ जाता है,
तब उसमें 【】हास्य, 【】शोक,

【】मूढ़ता, 【】रति, 【】तृष्णा

जगती है । Read more

Stay young with amrutam

वात विकार (अर्थराइटिस) की “24” (चौबीस) बीमारियों का कारण है

वात विकार (अर्थराइटिस) की  24″ (चौबीस) बीमारियों का कारण है —

वायु विकार यानि गैस की समस्या”

वायु का प्रकोप-

आयुर्वेद ग्रंथों के अनुसार उदर में बहुत समय तक गैस यानि वायु के बनने से वात की बीमारियां (अर्थराइटिस प्रोब्लम) उत्पन्न हो सकती हैं

● वात से रात खराब हो जाती है
●● नींद पूरी होती
●●● चिड़चिड़ाहट,गुस्सा,क्रोध उत्पन्न होता है। Read more

ayurveda eating habits

आयुर्वेद के मुताबिक “खाने के नियम”

पित्त दोष के कारण होने वाले 20 रोग

जाने इस आर्टिकल्स में

प्राचीन मान्यताओं न मानने वाले लोग अक्सर बीमार देखे जाते हैं। नियम विरुद्ध भोजन से अनेक तरह के विकार और पित्त दोष उत्पन्न
हो जाते हैं। पित्त की व्रद्धि शरीर में
बहुत सी परेशानियां खड़ी कर देती है।
यदि हमेशा स्वस्थ्य रहना चाहते हैं, तो
आयुर्वेद के नीचे लिखे सिंद्धात अपनाकर

तन को क्षतिग्रस्त होने से बचा सकते हैं – Read more

Sex & Ayurveda

सेक्स लाइफ को रखे बरकरार

सेक्स लाइफ को रखे बरकरार

पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन जितना अधिक होता है, उनकी सेक्स लाइफ उतनी बेहतर होती है।
यह न सिर्फ कामेच्छा बढ़ाता है, बल्कि पुरुषों को प्रोस्टेट कैंसर,  हृदय रोग जैसी कई

बीमारियों से बचाता है।

जानिए, किस तरह शरीर में इस सेक्स हार्मोन को बढ़ाया जा सकता है।
हार्मोन्स असंतुलन कई वजहों से
होता है जैसे कि,
{{}} अनियमित जीवनशैली,
{{}} कुपोषण,
{{}} समय से भोजन ना करना,
{{}} ज्यादा तनाव लेना या चिन्ता करना,

{{}} व्यायाम ना करना, आदि।

Read more

Ulcerative colitis

जिओ माल्ट कोलाइटिस : पेट की एक खतरनाक बीमारी जाने – इस रोग के 5 लक्षण

कोलाइटिस :

पेट की एक खतरनाक बीमारी
जाने – इस रोग के 5 लक्षण

आंत की सूजन, जलन या दूसरी तरह की तमाम बीमारियों को कोलाइटिस  कहते हैं। Read more

ayurveda-and-piles

बवासीर (पाइल्स) 13 तकलीफों को ठीक करें

बवासीर (पाइल्स) 13 तकलीफों को ठीक करें, समझदारी से शल्यचिकित्सा (ऑपरेशन) से बचने का आसान तरीका। क्यों होता है बवासीर : १- पुराना कब्ज, २- मल का कड़ा होना, ३- आँतों की खुश्की, ४- आँतों का क्षतिग्रस्त होना ५- पेट की खराबी, ६- पित्त का प्रकोप आदि कारण है -बवासीर होने का पाइल्स को ठीक करने के लिए […]

Read more
Brainkey Gold Malt

ब्रेन का मुख्य हिस्सा है – हिप्पोकैंपस

हिप्पोकैम्पस मानव तथा अन्य स्तनधारियों के मस्तिष्क का एक प्रमुख घटक है। 

यह दीर्घकालीन स्मृति व स्थानिक दिशा, निर्देशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

मस्तिष्क के एक ख़ास हिस्से “हिप्पोकैंपस“पर किए गए ताज़ा शोध के मुताबिक डिप्रेशन (अवसाद) दूर करने के लिए दी जाने वाली आयुर्वेदिक दवाओं जैसे — 


Read more

Anatomy of Brain Amrutam

इम्यून तंत्र क्या है?

केवल पुरुषों हेतु उपयोगी आर्टिकल
बढ़ती उम्र में शुक्राणुओं/स्पर्म की मात्रा कम होने लगती है।
  40 के पार पुरुषों की प्रजनन कोशिकाओं की
क्षमता जवान पुरुषों की तुलना में लगभग 45-50 फीसदी कम हो जाती है।


Read more

Orthokey Gold

सर्दियों के समय 10 प्रकार के अचानक होने वाले दर्द, अकड़न-जकड़न का शर्तिया आयुर्वेदिक इलाज

सर्दियों के समय 10 प्रकार के अचानक होने वाले दर्द,
अकड़न-जकड़न का शर्तिया आयुर्वेदिक इलाज

【1】चलते-फिरते, उठते-बैठते,
 【2】नहाते-धोते समय
【3】ज्यादा झुककर खड़े होने के कारण,
 【4】तकिए के उपयोग से,
【5】कुर्सी पर ठीक से न बैठने से
【6】सुबह उठने के समय
【7】बार-बार मोंच आना
【8】अचानक कभी गर्दन में,
 【9】कभी कमर में, जोड़ों में दर्द
【10】कभी अकड़न,जकड़न,कम्पन्न होना

अगर ये समस्या रोज-रोज होती हैं,
तोसावधान हो जाएं, क्योंकि आपको वात-विकार हो सकता है।


Read more

Zeo Malt

क्या आप पेट की इन “17”बीमारियों से परेशान हैं।

दो चम्मच हर्बल माल्ट खाएँ,
तो मिलेगी पेट की परेशानियों से मुक्ति
एक सर्वे के मुताबिक देश-दुनिया
में लगभग 51% लोग पेट की बीमारियों
और उदर रोगों से पीड़ित पीड़ित हैं।

करीब 22 से 28 फीसदी लोग रोज
पेट साफ करने वाली दवाओं का इस्तेमाल करते हैं,
जिससे उनकी आंतो और पेट में
अनेक विकार उत्पन्न हो जाते है।


Read more

Ayurvedic Face Clean Up

केशर, चिरौंजी, खस-खस युक्त फेस क्लीनअप

【】चेहरे की सुन्दरता अंदर का विश्वास जगाती है
【】कम उम्र में खूबसूरती ही सब कुछ है।
【】सौन्दर्य से मनोबल में वृद्धि होती है।
आयुर्वेदिक 100%फेस क्लीनअप से खूबसूरती
का अनुभव और एहसास किया जा सकता है।
ठण्ड के दिनों में चेहरे पर आकर्षण व त्वचा में निखार लाने और
तन  को सुन्दर बनाने के लिए फेस क्लीनअप एक विलक्षण ओषधि है।


Read more

Hair Spa for new years-06

बालों की जड़ों को मजबूती के लिए पूर्णतः तेल रहित-कुन्तल केयर हर्बल हेयर बास्केट

क्या आपको डेन्ड्रफ,रूसी युक्त स्किन, बालों में खुजली, इचिंग रैशेस आपको परेशान करते हैं आयुर्वेद में इसकी 100 फीसदी चिकित्सा है।कुन्तल केयर हर्बल हेयर बास्केट पूर्णतः तेल रहित क्योंकि अब बालों में तेल लगाने का जमाना गयापेश है बिना तेल वाला  एक नया हर्बल योगयह 100% आयुर्वेदिक है। Order Kuntal Care Hair Spa here!  【】शिकाकाई, 【】भृङ्गराज, 【】बालछड़, 【】बिभीतकी की खूबियों से लबालब […]

Read more

ब्राह्मी: बूटी ब्रह्मण: इयं ब्राह्मी।

ब्राह्मी
बूटी ब्रह्मण: इयं ब्राह्मी।
अर्थात-यह ब्रह्म या बुद्धि से संबंधित है यानी बुद्धिवर्धक है।

आयुर्वेद के अनुसार ब्राह्मी बाबू जमीन के अंदर या नीचे उत्पन्न होती हैं। जिन ओषधियों की जड़ उपयोग में विशेष
लाभकारी होती हैं उन्हें जड़ी कहा गया है।
जैसे – सौंठ, अदरक, भूमि आँवला, हल्दी।

जड़ी और बूटी’ दोनों अलग-अलग शब्द हैं

जड़ी का अर्थ है


Read more

Sexual Energy Winters

ठण्ड के दिनों में जोश और जवानी को जारी रखने हेतु एक हर्बल योग

अद्वितीय हर्बल योग
बी फेराल माल्ट और कैप्सूल
नशीले पदार्थो से मुक्त अदभुत
पेटेंट आयुर्वेदिक औषधि है।


Read more

Winter Hair Care Amrutam

बाल उगाने का 1 नैचुरल उपाय

【】बालों का झड़ना,
【】टूटना,पतला होना, बन्द करे।
【】रूसी (डेन्ड्रफ), खुजली, 
【】दोमुंहापन मिटाने वाला औऱ 
【】केशों को दुबारा उगाने का 1 नेचुरल तरीका: ये इतना आसान है
कि आपको विश्वास नहीं होगा!


Read more

5 गुप्तरोगों या (STD) के बारे में जाने–

“पांच” खतरनाक गुप्तरोग, जो  तबाह कर सकते हैं?

 5 गुप्तरोगों या (STD)  के बारे में जाने–

यौन संचारित रोग यानी एसटीडीज रोगों के बारे आयुर्वेद की पुरानी किताबों में यह जानकारी सैकड़ों वर्षों से है।
इनमें 【1】 उपदंश (Syphilis), 
एक प्रकार का गुप्त रोग है जो मुख्यतः लैंगिक संपर्क यानी सेक्स रिलेशन के द्वारा फैलता है।


Read more

crohns

आंतों से जुड़े गंभीर विकार- “क्रोंस डिजीज”

आंतों से जुड़े गंभीर विकार- “क्रोंस डिजीज” यानि पाचन तंत्र की परत को प्रभावित करने वाला पुराना रोग जिसमें पाचन तंत्र और आंतों में सूजन आ जाती है।

स्वास्थ्य रक्षक किताबों के मुताबिक

पेट साफ करने वाली दस्तावर मेडिसिन एवं प्रतिदिन कब्ज दूर करने वाले चूर्ण, टेबलेट व गोली के सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। क्यों की रोज-रोज कब्ज मिटाने वाली दवाओं से होती हैं कई बीमारियां और ऑटोइम्यून डिजीज


Read more

क्या आपको मालूम है — करीब 200 वर्ष पूर्व के आसपास डेंगू के बारे में पता चला था

डेंगू की आयुर्वेदिक दवा डेंगू संक्रमण एक “हड्डी तोड़ बुखार” है। चिकित्सा वैज्ञानिकों के अनुसार यह एक संक्रमण है। डेंगू फीवर वायरस के कारण तेजी से फेल रहा है। करीब 200 वर्ष पूर्व के आसपास डेंगू के बारे में पता चला थाडेंगू 1835 से पहले मच्छर के काटने से उत्पन्न हुआ ऐसा मानते हैं। हालांकि […]

Read more
B Feral Gold Malt

बल, वीर्य, बुद्धि की वृद्धि करने वाला – बी.फेराल गोल्ड माल्ट

“चालीस” के बाद,दे शरीर को खादकेवल पुरुषों के लिए बल, वीर्य, बुद्धि की वृद्धि करने वाला शक्तिदायक हर्बल टॉनिक 100% आयुर्वेदिक – बी.फेराल गोल्ड माल्ट10 दिन में जवानी का एहसास कराए। बी. फेरल गोल्ड माल्ट आर्डर करने के लिए यहाँ क्लिक करें ढलती उम्र वालों के लिए विशेष उपयोगी सेक्स क्या है, और बहुत कुछ अधिक जानकारी […]

Read more
Ayurvedic Medicine Amrutam

100% आयुर्वेदिक दवाएँ- जड़ से रोग मिटाये

आयुर्वेदिक दवाएं  पुरानी से पुरानी बीमारियों को जड़मूल से दूर करती हैं। यह त्रिदोषनाशक होती हैं। आयुर्वेदिक पद्धति पुरानी है, बेकार नहीं। स्वास्थ्य की सौगात से भरे आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथों की परंपरा के अनुसार आप वात-पित्त-कफ यानि त्रिदोष की विषमताओं से बच कर अधिभौतिक, आधिदैविक और आध्यात्मिक इन तीन पापों से उत्पन्न अनेक ज्ञात-अज्ञात बीमारियों […]

Read more
Rediscovering Ayurveda with Justine Miller

आयुर्वेदिक दवाएँ तभी कारगर सिद्ध होतीं जब इनका उपयोग लम्बे समय तक किया जाए।

खालित्य (गंजपन) का आयुर्वेदिक इलाज खालित्य (गंजपन) का आयुर्वेदिक इलाज आयुर्वेदिक दवाएँ तभी कारगरसिद्ध होतीं जबइनका उपयोग लम्बे समय तक किया जाए। क्यों कि यह बीमारी को जड़ से बाहर निकालती हैं,इस वजह सेइनके परिणाम (रिज़ल्ट) आने में कुछ समय लगता है।हर्बल दवाएँ त्रिदोषनाशक होती हैं। इसके सेवन से शरीर के बहुत सारे विकार नष्ट […]

Read more
pollution-ayurveda

सर्दी में रहें सावधान | कैसे बचें प्रदुषण से ?

दुनियाभर में बढ़ रहा है —

दूषित जलवायु और प्रदूषण के कारण

बेशुमार बीमारियों का खतरा
शिकागो के प्रोफेसर माइकल ग्रीनस्टोन के
मुताबिक कोई भी व्यक्ति प्रदूषण की समस्याओं से बचने के लिये कुछ खास नहीं कर सकता।
प्रदूषण के दुष्प्रभाव का सबसे ज्यादा खतरा मानव के शरीर और स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। दुनियाभर में प्रदूषण की वजह से 45फीसदी लोग कई तरह के रोगों से पीड़ित हो रहे हैं।

Read more

Amrutam Face Clean Up

अब,व्यूटी पार्लर जाने की जरुरत नहीं -अमृतम फेस क्लीनअप अपनायें | 100% आयुर्वेदिक

फेस क्लीनअप आयुर्वेदिक 100%

होने वाले फायदे —

उम्र बढ़ने के कारण चेहरे के दाग-धब्बे,निशानों को किसी जादू की तरह आपके चेहरे से हटाने में सहायक है।
ठंड के दिनों में चेहरे का रूखापन दूर करे।

त्वचा Read more

Jar

ज्वर/बुखार/फीवर के कारण और लक्षण

क्या आप जानते हैं कि ज्वर या बुखार (फीवर) हरेक प्राणी को होता है,किन्तु केवल मनुष्य ही उसे सहन कर पाता है।
शेष प्राणी अक्सर प्राण त्याग देते हैं।

क्यों होता है ज्वरः

शरीर के दोषों के कुपित होने से मनुष्य के तन का ताप सामान्य से अधिक हो जाता है, दाह, व्याकुलता के लक्षण प्रकट होने लगते हैं, तो उसे ज्वर कहते हैं।

ज्वर यानि फीवर कोई रोग नहीं बल्कि एक लक्षण (सिम्टम्) है जो यह एहसास कराता है कि ,तन के ताप को  नियंत्रित (कंट्रोल) करने वाली प्रणाली ने शरीर का वांछित ताप (सेट-प्वाइंट) १-२ डिग्री सल्सियस बढा दिया है। Read more

Nari Sondarya

महिलाओं का हर महीने पीड़ादायक कष्ट “कष्टार्तव” से राहत देने वाली एक आयुर्वेदिक ओषधि

महिलाओं का हर महीने पीड़ादायक कष्ट “कष्टार्तव” से राहत देने वाली एक आयुर्वेदिक ओषधि

नारी सौन्दर्य माल्ट
100% आयुर्वेदिक ओषधि है, जो बिना किसी
नुकसान के नई उम्र की युवतियों को सौन्दर्य
प्रदान करता है और विवाहित स्त्रियों की सुंदरता एवं आकर्षण बढ़ाने  के लिए यह विलक्षण हर्बल मेडिसिन है।

नांरी सौन्दर्य माल्ट
प्रदर से पीड़ित स्त्रियों के लिए
विशेष उपयोगी देशी दवा है Read more

kuntalcare basket s banner3

बालों को लम्बे, घना, काला, मुलायम बनाने के लिए आयुर्वेदिक दवा

झड़ते-टूटते बालों का सहारा

●● बालों को लम्बे,

घना, काला, मुलायम बनाने के लिए

[1]  कुन्तल केयर हर्बल हेयर स्पा/

[2]  कुन्तल केयर हर्बल हेयर ऑयल/

[3]  कुन्तल केयर हर्बल शेम्पो और 

[4]  कुन्तल केयर हर्बल हेयर माल्ट kuntalcare basket s banner3

का उपयोग करें Read more

Flower

क्यों आता है गंजपन?

क्यों आता है गंजपन?

बाल झड़ने,टूटने , पतले होने और बाल खराब होकर गंजापन (खालित्य) के आने की वह  9 वजह क्या है?  और

17″ ओषधियाँ बालों को बढ़ाने वाली

जानिए इस आर्टिकल से
खारे-बोरिंग और प्रदूषित पानी से बाल धोने
पर सिर की त्वचा क्षतिग्रस्त हो जाती है,
जिसकी वजह से
{1} बालों में रूसी (डेन्ड्रफ) का बढ़ना।
{2} खुजली (इचिंग), गन्दगी हो जाती है।
{3} बालों में कीड़े लग जाते हैं।
{4} संक्रमण होने लगता है।
{5} बाल दोमुंहे (spilt ends) होकर झड़ते हैं।
{6} बाल कड़क,रूखे व भूरे हो जाते हैं।
{7} बालों की चमक खत्म हो जाती है। Read more

Ayurveda

आयुर्वेदिक ओषधियों के अनगिनत फायदे | Uncountable Benefits of Ayurvedic Medicine

आयुर्वेद हमारे महान भारत की”राष्ट्रीय चिकित्सा पध्दति” है।
https://www.amrutam.co.in/treasureofbooks/

अच्छी हेल्थ यानि निरोग रहकर, शरीर को स्वस्थ्य-तन्दरुस्त बनाने के लिए यह आर्टिकल/आलेख अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसे सेव/सुरक्षित कर फुर्सत में पढ़ते रहें, तभी यह आलेख पूरी तरह समझ में आएगा, क्योंकि यह ब्लॉग बहुत बड़ा है। इस लेख में बहुत सी बीमारियों एवं इलाज की जानकारी दी जा रही है।
चमत्कारी आयुर्वेद और असरदार जड़ीबूटियों के बारे में जाने -इस आर्टिकल से

प्राकृतिक हर्ब्स  स्वास्थ्य वर्द्धक
और पूर्णतः हानिरहित होते हैं और इनमें
बहुत सारी विशेषताएं होती हैं।

इसके “साइड बेनेफिट” यानि अनगिनत लाभ हैं

“साइड इफ़ेक्ट” अर्थात दुष्प्रभाव न के बराबर या बिल्कुल नहीं होते! Read more

Orthokey Gold Capsules

वातविकार — करे हाहाकार। अर्थराइटिस की 100 फीसदी हर्बल मेडिसिन

अब कमरदर्द, ग्रंथिशोथ (थायराइड), गले में सूजन, जोड़ो व घुटनों की पीड़ा, टखनों की तकलीफ, पिंडरियों में खिंचाव, हाथ-पैरों कम्पन्न, सुन्नपन, शरीर की अकड़न, जकड़न के लिए अमृतम लाया है —  “ऑर्थोकी गोल्ड कैप्सूल”   जो दिलाएगा – ८८ प्रकार के वातविकारों (अर्थराइटिस) और जोड़ो व घुटनों के दर्द तथा शारीरिक पीड़ा से छुटकारा सदा-सदा के […]

Read more
1 से 2 गोली दिन में 2 या 3 बार लेवें आयुर्वेद शास्त्रों जैसे - < चरक सहिंता < सुश्रुत सहिंता < वनोषधि विज्ञान

आयुर्वेद अपनाएं- ब्रेन की गोल्ड माल्ट

डिप्रेशन और दिमागी तनाव से पीड़ित बच्चे

इस भ्रम में न रहें कि अवसाद/डिप्रेशन सिर्फ
अधिक उम्र वालों को होता है. “वर्तमान दौर में बच्चे भी इससे पीड़ित हैं
स्कूलों में प्रतिस्पर्धा के चलते अच्छी पढाई न कर पाना, मंदबुद्धि होना, याददास्त की कमजोरी, बार-बार भूलना, पति-पत्नी के झगड़े, आपस संबंध ठीक न होना आदि से भी बच्चे डिप्रेशन में आ जाते हैं।

★ क्यों होता है डिप्रेशन?
★ क्या कारण है डिप्रेशन का?
★ डिप्रेशन के लक्षण क्या हैं? Read more

COPD

बच्चों को बचाएं फेफड़ों की इस बीमारी से-सी ओ पी डी यानि क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसीज़

बच्चों को बार-बार होने वाले कफ दोष/रोग सर्दी-खाँसी,जुकाम कफ दोष या रोग और निमोनिया, श्वांस नली की सूजन व इंफेक्शन का कारण फेफडों का संक्रमण हो सकता है।

चिकित्सा वैज्ञानिकों के मुताबिक दुनियाभर में 4 करोड़ से भी ज्यादा बच्चे इससे प्रभावित हैं

इस रोग के लक्षण

【】सीने में बलगम या जकड़न बनी रहना

【】श्वांस लेते समय सिटी बजना
【】तेजी से वजन का घटना Read more

फेस क्लीनअप 16 श्रृंगारों में से एक है

फेस क्लीनअप 16 श्रृंगारों में से एक है

प्रकृति से प्राप्त घटक-द्रव्यों जैसे —
केशर, चिरौंजी, खस-खस, बादाम, जैतून, एलोवेरा हल्दी, और शहद आदि 20 से ज्यादा ओषधियों एवं  प्राकृतिक सौन्दर्य प्रसाधनों को एक निश्चित मात्रा में मिला कर जो लेप तैयार होता है, वही फेसक्लीनअप(उबटन) कहलाता है।इसका चलन बहुत  पुराना है। Read more

Kesar benefits face clean up

“फेस क्लीनअप” में केशर के फायदे

फेस क्लीनअप में केशर के फायदे
केशर आयुर्वेद की कई  विभिन्न औषधियों और चिकित्सकीय प्रयोग में सदियों पूर्व से उपयोग की जा रही है।

Read more

Zeo

पेट की तकलीफों का 100% आयुर्वेदिक इलाज-जिओ माल्ट

भोजन पचाने में मददगार 

पेट की तकलीफों का 

100% आयुर्वेदिक इलाज

खाना, खाने का मतलब केवल पेट भरने से नहीं होता। भोजन अच्छी तरह से हजम हो जाए। किसी तरह का कोई अपचन न हो, पेट में कोई तकलीफ न हो यह बहुत जरूरी है। Read more

Sex Power

सभी 8 प्रकार के गुप्त रोगों को मिटाने वाली 100% आयुर्वेदिक ओषधि

सर्दी में पाएं भरपूर जोश और जवानी

सभी 8 प्रकार के गुप्त रोगों को मिटाने वाली
How To Increase Sex Power
प्रतिस्पर्धा के  इस भौतिक युग में भागम-भाग  और तनाव भरा जीवन तथा अनियमित दिनचर्या एवं  अनुचित आहार या अस्वाथ्यकर खानपान की वजह से अधिकांश पुरुषों व कम उम्र की युवा पीढ़ी में जवानी के आने के पहले◆ कामोत्तेजना में कमी,
◆ यौन कमजोरी (sexual weakness) या ◆ सीधा होने वाली अक्षमता (ईडी) (erectile dysfunction (ED)) रखने या बनाए रखने में असमर्थता (inability ), ◆ एक निर्माण (erection), की समस्या आजकल आम है।
 एक सर्वे के मुताबिक देश-दुनिया में 29 फीसदी लोगों का वैवाहिक जीवन इससे प्रभावित हो रहा है। Read more
Amrutam Face Clean Up

प्राचीन घरेलू पद्धति से बना कम्प्लीट !!अमृतम!! फेस क्लीनअप 

प्राचीन घरेलू पद्धति से बना कम्प्लीट

!!अमृतम!!

फेस क्लीनअप 

100% आयुर्वेदिक हर्बल लिक्यूड लेप

अमृतमफेस क्लीनअप प्राकृतिक रूप से चमकदार या  शाइनिंग त्वचा पाने का एक बहुत ही आसान तरीका है|

अमृतम “फेस क्लीनअप आपकी त्वचा से धूल, गंदगी और बेजान त्वचा को हटाकर तथा चेहरे की क्षतिग्रस्त कोशिकाओं की मरम्मत करके उसमे नई जान और ताज़गी डालने में सहायता करता है| Read more

Hair Care

केशों की देखभाल

कुन्तल केयर हर्बल हेयर माल्ट

100% आयुर्वेदिक से करें —
बालों की देखभाल व्यक्ति के केशों की
प्रकृति पर निर्भर करती है। सभी केश
समान नहीं होते।

Read more

Amrutam Face Clean Up

एक प्राकृतिक हर्बल फेस क्लीनअप 100% आयुर्वेदिक

जीवन का आधार
अर्थात
स्वास्थ्य ही सुन्दरता है।
सुन्दरता के लिए आदिकाल से अनेकों प्रकार के सौन्दर्य प्रसाधन के प्रयोग किये जा रहे हैं, लेकिन क्या आप जानते है?
हजारों वर्षों से इसके लिए प्राकृतिक वस्तुओं,
जड़ीबूटियों  का उपयोग ही फायदेमंद है।
दुनिया ने खुद को खूबसरत बनाने की चाह ने
Face Clean Up

100% आयुर्वेदिक लेप- !!अमृतम !! फेस क्लीनअप

!!अमृतम !!

फेस क्लीनअप 

100% आयुर्वेदिक हर्बल लिक्यूड लेप
कम से कम उत्पादों के साथ बनाये  

Read more

Kuntal Care Malt tree background (2)

बालों की अंदरूनी चिकित्सा

बालों के बारे में दुर्लभ जानकारी है –  इस लेख में। बालों का झड़ना, टूटना,  पतले होना कैसे रोकें– जो महिलाएं बालों के झड़ने, टूटने, पतले होने, रूसी से परेशान हैं, तो बालों की  इस विकराल व्याधि से बचने के लिये नीचे लिखे उपायों पर नज़र डालें।  बालों को झड़ता देखकर घबराएं नहीं,  आयुर्वेद में […]

Read more
Kuntal Care Hair Spa

!! सिर की जड़ों को दे ताकत !! सभी के लिए एक ही ओषधि और एक में सबका इलाज

बालों के लिए वरदान
सभी के लिए एक-
एक में सब
सबके बालों को मजबूत और 
समृद्ध बनाने की तैयारी
आयुर्वेदिक ग्रन्थ”
【1】भैषज्य रत्नाकर
【2】चरक सहिंता

【3】भावप्रकाश Read more

महिलाओं के लिए एक 100% हर्बल सप्लीमेंट

महिलाओं के लिए एक 100% हर्बल सप्लीमेंट

 खूबसूरती व आकर्षण वृद्धिकारक ओषधि
प्राचीन ग्रन्थ ‘भैषज्यरत्नावली‘, ‘भावप्रकाश’,आयुर्वेदिक निघण्टु‘ के अनुसार ” 

Read more

AMRUTAM GOLD MALT

 खून बढ़ाने/एनिमिया की हर्बल दवा- अमृतम गोल्ड माल्ट

 खून बढ़ाने/एनिमिया की हर्बल दवा

 

हमारे शरीर में लाल और श्वेत दो रक्त कोशिकाएं होती हैं, लाल रक्त कोशिकाएँ कम होने से शरीर में खून की कमी हो जाती है जिसे एनीमिया कहते हैं। Read more

Piles

बवासीर की बीमारी से बच सकते हैं – जानिए कैसे

बवासीर” — खराब करे तकदीर

बवासीर की तकलीफ के कारण हम मन से कोई काम नहीं कर पाते, इस वजह से भाग्यशाली लोगों की भी तकदीर खराब हो जाती है। पाइल्स की बीमारी से रोगी
दुर्भाग्य का शिकार हो जाता है।
 
एक अदभुत ओषधि तेल का उपयोग 
करें और कब्ज न होने दें, तो

बवासीर की बीमारी से बच सकते हैं :– Read more

Kuntal Care Hair Spa

आयुर्वेद का अदभुत अनुसंधान

एक एंटीवेक्टेरियाल, एंटीएलर्जिक, एंटीबायटिक बालों को तेजी से बढ़ाने वाला हर्बल हेयर स्पा 100% आयुर्वेदिक   आयुर्वेद का अदभुत अनुसंधान जिनके पास समाधान होता है वे बाल उगाने कभी चेलेंज नहीं करते है। मुख्य समस्या है बालों का झड़ना उसके पीछे कारण है,  जड़ों की कमजोरी। अंदरूनी रोग। जब तक उन्हें दूर नहीं करेंगे तब […]

Read more
0
Amrutam Basket
Your cart is empty.
X