Category: Amrutam medicines

Five Reasons Why You Must Use Brainkey Gold Malt

Mental immunity these days is quintessential. It is the foundation of emotional resilience. Just like a cold or flu can derail your health, the same way a small setback or disturbing thought can derail a person who is not mentally immune. When we condition our minds to not just expect external challenges but also tolerate […]

Read more

Ashwagandha – How Well Do You Know This Herb?

Ingredient: Ashwagandha Scientific Name: Withania somnifera Common Name: Indian Winter cherry, sometimes called Indian ginseng. Family: Solanaceae Parts Used: Root Description: Ashwagandha literally means ‘Ashwa-horse’ and ‘Gandha-smell’ in Sanskrit. It confers the strength and virility of a horse. It is a widely acclaimed Ayurvedic drug for people of all ages, that provides all sorts of […]

Read more

Ayurveda’s Elixir Formula For Healthy Life: Chyawanprash

Chyawanprash is a traditional Ayurvedic formulation, named after a rishi ‘Chyawan’, the first one to prepare the rasayana/tonic to regain his youth and vitality from his old age. The elixir formula has been preserved in Charak Samhita and that’s why we are able to recreate it even today. According to legends, Chyawanprash is known to […]

Read more

Beat The Heat With These Indoor Plants

According to Ayurveda, Summer is the Pitta season. Ruled by the sun, heat is powerful, bright, charismatic where the daytime is longer and lighter. Many of us look forward to summers, it can be too hot at the time. Too much heat can be problematic and can cause acne, itchiness, etc. You might have found […]

Read more

Don’t Ever Worry About Your Skin Again – Part II

Hope you read the detailed article about skin types and oily skin in Part I. Now, let us continue with some tips and excellent home remedies for Dry Skin. Ayurvedic Tips for Dry Skin Dry skin is due to Vata dosha primarily. It makes our hair thinner, drier; fingernails brittle. Cleansing & Moisturizing are essential […]

Read more

Don’t Ever Worry About Your Skin Again – Part I

Genetics define your skin and everyone has a different skin type. The appearance of one’s skin reflects the overall health of the body. Do you know the types of skin? There are four types of skin – Normal, Dry, Oily & Combination. Which one is yours? Knowing our skin is important. Let us understand the […]

Read more

Ginger & Its Amazing Health Benefits

Every morning your cup of tea must be incomplete if made without using a dash of ginger. We are used to the famed ‘Adrak-wali Chai’! Ginger is such a versatile ingredient used widely. It not only provides flavour & zest but also has amazing health benefits. Let’s know more about the healthiest food – Ginger […]

Read more

FEW TIPS TO HELP YOU RELIEVE MENSTRUAL CRAMPS

A Woman has to go through a throbbing pain and severe discomfort in the abdomen every month. At times the extreme pain hinders our daily activities. ‘PERIODS- Ugh that time of the month!” And the questions pops – “Why does this happen to me? What causes these painful periods? Why can’t I be a boy?” […]

Read more
Ayurvedic Medicine Amrutam

Ayurvedic / Home remedies for PCOS

Hormonal imbalance, irregular periods, abnormal menstrual cycles, weight gain, hair loss, facial hair, skin pigmentation – have you experienced any of these? These symptoms define a health condition that affects 10 million females in the world. You might have heard PCOS/PCOD. Polycystic Ovarian Syndrome (PCOS) or Polycystic Ovarian Disease (PCOD) is a common female health […]

Read more

Saffron (Kesar)

Ingredient: Saffron Scientific Name: Crocus sativus; Also known as Saffron crocus or Autumn crocus Common Name: Kesar, Kumkuma Family: Iridaceae Parts Used: Stigma, style, petals, flower pistils Description: Saffron is one of the most extravagant spices in the world. The plant is mainly cultivated and harvested by hand, which increases the labor. Did you know […]

Read more

Top 5 Personal Hygiene Tips for Every Woman

Ralph Waldo Emerson once wrote, “The first wealth is health”. But a healthy body does not stop at being disease-free. Being healthy also means feeling fresh and comfortable all day long. One way to feel great every day is to maintain a good personal hygiene routine. Personal hygiene goes beyond keeping bad breath and body […]

Read more

सप्तधातु किसे कहते हैं

सप्तधातु किसे कहते हैं –

जिससे शरीर का निर्माण या धारण होता है, इसी कारण से इन्हें ‘धातु’ कहा जाता है धा अर्थात = धारण करना। हैं -सप्‍त धातुओं का शरीर में बहुत महत्‍व है। Read more

शीघ्रपतन किन 13 कारणों से होता है

शीघ्रपतन किन 13 कारणों से होता है

शीघ्रपतन के लक्षण –

सम्भोग के वक्त, समय से पहले वीर्य का
जल्दी निकल जाना शीघ्रपतन है। जब शिश्न प्रवेश (एंट्री)के साथ ही “एक्सिट” होने लगे या फिर, स्त्री अभी चरम पर न हो और व्यक्ति का स्खलन हो जाए तो यह शीघ्रपतन (Premature Ejaculation) है।

शीघ्रपतन के साइड इफ़ेक्ट

@ ऐसे में स्वयम से लाचार वअसंतुष्टि होना
@ ग्लानि, हीन-भावना,
@ नकारात्मक सोच या
@ अपने-आपको कोसना, कमजोर समझना,
@ शीघ्रपतन का स्थाई इलाज आयुर्वेद
में ही मुमकिन है। Read more

पेल्विक कॅन्जेशन सिंड्रोम

महिलाओं की सेहत के लिए सबसे

विश्वसनीय है आयुर्वेदिक ओषधियाँ

■ पेड़ू में दर्द बना रहता है
■ मासिक धर्म की अनियमितता
■ नलों में सूजन
■ सफेद पानी की समस्या
■ चिड़चिड़ापन
■ खून व भूख की कमी

क्या होता पेड़ू का दर्द –

इसे पेल्विक कॅन्जेशन सिंड्रोम भी कहा जाता है। पेल्विक (पेड़ू) क्षेत्र में दर्द होने का एक प्रमुख कारण अंडाशय (ओवरी) से संबंधित है। ओवरी में कुछ ऐसी रक्त वाहिनियां (ब्लड वेसेल्स) होते हैं, जिनमें छोटे-छोटे वाल्व होते हैं जो रक्त के प्रवाह को सही दिशा में पहुंचाते हैं ताकि रक्त हृदय की नाडियों तक पहुंचता रहे।

Read more

कोलाइटिस – एक पेट की बीमारी

कब्ज से परेशान हैं या पेट साफ नहीं होता अथवा दस्त बंधकर नहीं आता,

तो रोज रात को मुरब्बे, गुलकन्द से बना आयुर्वेद की इस औषधि का सेवन करें।
यह पुरानी से पुरानी कब्जियत और
आँतों की सूजन, पेट की जिद्दी बीमारियों को दूर करने सहायक है।

Read more

Brainkey Gold Malt studying

ब्राह्मी दिमाग के तन्तुओं को ऊर्जावान बनाती है

भूलने की बीमारी है,
तो करें सबसे पुख्ता उपाय...
आयुर्वेद की यह ओषधि ब्रेन की कोशिकाओं को रिचार्ज करने में बहुत कारगर है।
इसमें मिलाई गई
ब्राह्मी दिमाग के तन्तुओं को
ऊर्जावान बनाती है।
ब्राह्मी पढ़ने वाले बच्चों के लिए बहुत ही सर्वश्रेष्ठ ओषधि है।
जटामांसी का मिश्रण डिप्रेशन दूर कर नींद लाने विशेष उपयोगी है और रक्तचाप को सामान्य बनाने में बेजोड़ है।

शंखपुष्पी का अर्क बार-बार भूलने की आदत से निजात दिलाता है। Read more

क्या आप गलतुण्डिका के बारे में जानते हैं ?

क्या आप गलतुण्डिका के बारे में जानते हैं ?

गलतुण्डिका गले की एक बीमारी है, जिसे
सभी लोग टॉन्सिल्स के नाम से पहचानते हैं।
यह समस्या कम उम्र के बच्चों को या किसी को भी हो सकता है।
Healthy Amrutam

स्वस्थ्य तन-स्वच्छ वतन

स्वस्थ्य रहने के लिए – डिनर छोड़ें:

ऐसी सोच बनाये कि,
रात्रि को भोजन नही करना है ?
जाने कितना नुकसान पहुंचाते हैं
हम तन-मन को।

सूर्यास्त के बाद डिनर करने से शरीर को बहुत नुकसान होते हैं, यह जानकर आप डर जाएंगे। Read more

प्रतिदिन अभ्यंग से होते होते हैं 10 लाभ

प्रतिदिन अभ्यंग से होते होते हैं 10 लाभ

आयुर्वेदिक अभ्यङ्ग है –9 तरह से लाभकारी

व्यायाम करने से पहले रोजाना अभ्यंग यानी मालिश करने से होते हैं अनेकों लाभ और हमारा स्वास्थ्य बना रहता है।

【1】अभ्यंग (मालिश) शरीर और मन की ऊर्जा का संतुलन बनाता है,
【2】वातरोग के कारण त्वचा के रूखेपन को कम कर वात को नियंत्रित करता है।
【3】शरीर का तापमान नियंत्रित करता है।
【4】शरीर में रक्त प्रवाह और दूसरे द्रवों के प्रवाह में सुधार करता है।
【5】अभ्यंग त्वचा को चमकदार और मुलायम बनाता है।
【6】मालिश की लयबद्ध गति जोड़ों और मांसपेशियों की अकड़न-जकड़न को कम करती है।
【7】अभ्यङ्ग से त्वचा की सारी अशुद्धियाँ दूर हो जाती हैं, तब हमारा पाचन तंत्र ठीक हो जाता है।
【8】 पूरे शरीर में ऊर्जा और शक्ति का संचार होने लगता है।
【9】अभ्यङ्ग यानि मालिश से शरीर में रक्त परिसंचरण बढ़ता है और

【10】शरीर के सभी विषैले तत्त्व बहार निकल जाते हैं।< Read more

endometriosis

क्‍या है एन्‍डोमीट्रीओसिस ? लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक इलाज

महिलाओं को दिनोदिन बढ़ रही हैं आधुनिक युग की बीमारियां और समस्‍याएं

वर्तमान में भागादौड़ी के इस भौतिक युग
की वजह से नित्य नये स्त्रीरोग उत्पन्न हो रहे हैं और महिलाओं को कई प्रकार की स्‍वास्‍‍थ्‍य समस्‍यायें भी पैदा हो रही हैं। इन सबका सर्वाधिक दुष्प्रभाव महिलाओं की सुन्दरता पर पड़ रहा है।

एन्‍डोमीट्रीओसिस (Endometriosis)

यानि गर्भाशय सम्बंधित ऐसा विकार है जिसमें नवयोवनाएँ पीरियड्स अर्थात मासिक धर्म के दौरान बहुत विचलित हो जाती हैं।
तथा यौन संबंध बनाते समय असहनीय दर्द होना जैसे प्रमुख लक्षण इस बीमारी के कारण दिखाई पड़ते हैं।
इसका आसानी से उपचार आयुर्वेदिक दवा द्वारा किया जा सकता है।< Read more

असरकारक योग से निर्मित ऑर्थोकी गोल्ड कैप्सूल 88 तरह के वात विकार (अर्थराइटिस) जड़ से मिटाता है

वात को मारे लात

हमारे प्रतिरोधी तन्त्र यानी इम्यून सिस्टम में
कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं, जिनकी कमी
से शरीर में संक्रमण होता रहता है जैसे
सर्दी-जुकाम, निमोनिया आदि भी यदि गम्भीर
रूप धारण कर ले, तो क्षयरोग, हड्डियों की टीबी एवं ग्रंथिशोथ (थायराइड) आदि अनेक वातरोग यानि अर्थराइटिस को जन्म देते हैं।

Read more

pollution-ayurveda

सर्दी में रहें सावधान | कैसे बचें प्रदुषण से ?

दुनियाभर में बढ़ रहा है —

दूषित जलवायु और प्रदूषण के कारण

बेशुमार बीमारियों का खतरा
शिकागो के प्रोफेसर माइकल ग्रीनस्टोन के
मुताबिक कोई भी व्यक्ति प्रदूषण की समस्याओं से बचने के लिये कुछ खास नहीं कर सकता।
प्रदूषण के दुष्प्रभाव का सबसे ज्यादा खतरा मानव के शरीर और स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। दुनियाभर में प्रदूषण की वजह से 45फीसदी लोग कई तरह के रोगों से पीड़ित हो रहे हैं।

Read more

Ayurveda

आयुर्वेदिक ओषधियों के अनगिनत फायदे | Uncountable Benefits of Ayurvedic Medicine

आयुर्वेद हमारे महान भारत की”राष्ट्रीय चिकित्सा पध्दति” है।
https://www.amrutam.co.in/treasureofbooks/

अच्छी हेल्थ यानि निरोग रहकर, शरीर को स्वस्थ्य-तन्दरुस्त बनाने के लिए यह आर्टिकल/आलेख अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसे सेव/सुरक्षित कर फुर्सत में पढ़ते रहें, तभी यह आलेख पूरी तरह समझ में आएगा, क्योंकि यह ब्लॉग बहुत बड़ा है। इस लेख में बहुत सी बीमारियों एवं इलाज की जानकारी दी जा रही है।
चमत्कारी आयुर्वेद और असरदार जड़ीबूटियों के बारे में जाने -इस आर्टिकल से

प्राकृतिक हर्ब्स स्वास्थ्य वर्द्धक
और पूर्णतः हानिरहित होते हैं और इनमें
बहुत सारी विशेषताएं होती हैं।

इसकेसाइड बेनेफिट” यानि अनगिनत लाभ हैं

“साइड इफ़ेक्ट” अर्थात दुष्प्रभाव न के बराबर या बिल्कुल नहीं होते! Read more

Orthokey Gold Capsules

वातविकार — करे हाहाकार। अर्थराइटिस की 100 फीसदी हर्बल मेडिसिन

अब कमरदर्द, ग्रंथिशोथ (थायराइड), गले में सूजन, जोड़ो व घुटनों की पीड़ा, टखनों की तकलीफ, पिंडरियों में खिंचाव, हाथ-पैरों कम्पन्न, सुन्नपन, शरीर की अकड़न, जकड़न के लिए अमृतम लाया है — “ऑर्थोकी गोल्ड कैप्सूल” जो दिलाएगा – ८८ प्रकार के वातविकारों (अर्थराइटिस) और जोड़ो व घुटनों के दर्द तथा शारीरिक पीड़ा से छुटकारा सदा-सदा के […]

Read more
COPD

बच्चों को बचाएं फेफड़ों की इस बीमारी से-सी ओ पी डी यानि क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिसीज़

बच्चों को बार-बार होने वाले कफ दोष/रोग सर्दी-खाँसी,जुकाम कफ दोष या रोग और निमोनिया, श्वांस नली की सूजन व इंफेक्शन का कारण फेफडों का संक्रमण हो सकता है।

चिकित्सा वैज्ञानिकों के मुताबिक दुनियाभर में 4 करोड़ से भी ज्यादा बच्चे इससे प्रभावित हैं

इस रोग के लक्षण

【】सीने में बलगम या जकड़न बनी रहना

【】श्वांस लेते समय सिटी बजना
【】तेजी से वजन का घटना Read more

फेस क्लीनअप 16 श्रृंगारों में से एक है

फेस क्लीनअप 16 श्रृंगारों में से एक है

प्रकृति से प्राप्त घटक-द्रव्यों जैसे —
केशर, चिरौंजी, खस-खस, बादाम, जैतून, एलोवेरा हल्दी, और शहद आदि 20 से ज्यादा ओषधियों एवं प्राकृतिक सौन्दर्य प्रसाधनों को एक निश्चित मात्रा में मिला कर जो लेप तैयार होता है, वही फेसक्लीनअप(उबटन) कहलाता है।इसका चलन बहुत पुराना है। Read more

Sex Power

सभी 8 प्रकार के गुप्त रोगों को मिटाने वाली 100% आयुर्वेदिक ओषधि

सर्दी में पाएं भरपूर जोश और जवानी

सभी 8 प्रकार के गुप्त रोगों को मिटाने वाली
How To Increase Sex Power
प्रतिस्पर्धा के इस भौतिक युग में भागम-भाग और तनाव भरा जीवन तथा अनियमित दिनचर्या एवं अनुचित आहार या अस्वाथ्यकर खानपान की वजह से अधिकांश पुरुषों व कम उम्र की युवा पीढ़ी में जवानी के आने के पहले◆ कामोत्तेजना में कमी,
◆ यौन कमजोरी (sexual weakness) या ◆ सीधा होने वाली अक्षमता (ईडी) (erectile dysfunction (ED)) रखने या बनाए रखने में असमर्थता (inability ), ◆ एक निर्माण (erection), की समस्या आजकल आम है।
एक सर्वे के मुताबिक देश-दुनिया में 29 फीसदी लोगों का वैवाहिक जीवन इससे प्रभावित हो रहा है। Read more
medical treatment of Cancer

What Ayurveda has always known about Cancer that Modern Science is discovering now?

We know that may sound obvious to some of you, but the truth is – it hasn’t been so obvious in the medical treatment of Cancer till now.

This year, Nobel prize for Medicine/Physiology 2018 has been awarded to two scientists James P Allison and Tasuku Honjo who discovered how to harness the body’s immune system to fight cancer.

Usually, when a person is diagnosed with Cancer, their immune system is already in a weak stage to fight its cells. Read more

Amrutam Brainkey Gold Malt

मस्तिष्क की संरचना एवं कार्य | Learn about the anatomy of the brain

क्या आप जानते हैं कि मानव माइंड इतना शार्प क्यों है।

दिमाग़ की परत दर परत खोलने वाला यह लेख जरूर पढ़ें-

ब्रेन को ब्यूटीफुल बनाने वाली बूटियाँ-

ब्रेन ही ब्यूटी है, ब्रेन को ओर ब्यूटीफुल
बनाने के लिए देशी बूटी-
ब्रह्मी,शंखपुष्पी,वच,
जटामांसी, शतावरी,
अश्वगंधा,इला, त्रिकटु,
दालचीनी, मोथा, मालकांगनी,
बादाम, अखरोट, तथा
मोक्ति,चांदी, एवं स्वर्ण भस्म
आदि ब्रेन की चाबी है।

Read more

Lozenge Malt

कहीं आप गले के इन 21 रोगों से पीड़ित तो नहीं हैं ? | सर्दी-खाँसी,जुकाम

सर्दी-खाँसी को गले की फाँसी कहा गया है कैसे मुक्ति पाएं -गले के 21 रोगों से कहीं आप गले के इन 21 रोगों से पीड़ित,तो नहीं हैं। यह त्रिदोष में से एक “कफ रोग” के अंदरूनी रूप से होने से होता है। ध्यान दें यदि आपके फेफड़े कमजोर हैं,तो निम्न रोग परेशान कर सकते हैं। […]

Read more
amrutam Brainkey Gold Malt

क्या आप दिमाग में तेज़ी लाना चाहते हो ? Ayurvedic Medicine for your Brain Power

दिमाग करें, तेज़-तेज़ी से Ayurvedic Medicine for your Brain Power

बुद्धि की अभिवृद्धि हेतु विलक्षण
एक असरदार आयुर्वेदिक योग

ब्रेन की गोल्ड माल्ट

(ब्राह्मी,शंखपुष्पी, बादाम,मुरब्बा युक्त)
निगेटिव सोच से उत्पन्न ‘अशान्ति का
अन्त” करने वाली एक हर्बल मेडिसिन

Read more

Brainkey Gold Malt to build your mental immunity

अवसाद की आहट-और आयुर्वेद | Depression and Ayurveda

अवसाद की आहट-और आयुर्वेद | Depression and Ayurveda

अब,अवसाद का अन्त…तुरन्त

“डिप्रेशन से डरें नहीं”
अवसाद की आयुर्वेदिक दवा
करे…डिप्रेशन का ऑपरेशन
(मस्तिष्क में जागरूकता बढ़ाये)

Read more

Hair Care Ayurveda

The Benefits of Ayurvedic Hair Care

The benefits of ayurvedic hair care a closer look at heat in the scalp and how ayurveda seeks to restore the balance. We all have different hair types according to our constitution. However, with our fast pace lifestyle and with the introduction of many chemicals and treatments in hair care, the pitta dosha will predominate […]

Read more
amrutam Brainkey Gold Malt

कैसे करें दिमाग में शांति की स्थापना | How to calm your mind ?

कैसे करें दिमाग में शांति की स्थापना | How to calm your mind ?

केवल पढ़ने वाले बच्चों, विद्यार्थियों,
स्टूडेंट के लिए महत्वपूर्ण
शार्प माइंड (sharp mind) बनाने
हेतु एक असरदार आयुर्वेदिक योग
और
मानसिक शांति हेतु 24 कैरेट गोल्ड
प्योर हर्बल मेडिसिन फार्मूला है।

Read more

शरीर में विटामिन्स, कैल्शियम , आवश्यक तत्वों तथा प्रोटीन की पूर्ति हेतु सप्पलीमेंट के रूप में। ताउम्र अमृतम द्वारा निर्मित "नारी सौंदर्य माल्ट" का सेवन करें । यह शरीर को सुंदर व खूबसूरत। बनाये रखता है । अधेड़ उम्र की महिलाओं में। गजब का सौंदर्य बढ़ाता है । मासिकधर्म नियमित करता है । जिन महिलाओं को माहवारी बहुत कम तथा समय पर नहीं आती, कम उम्र में माहवारी का रुकना मोनोपोज़ उनके लिए यह बहुत

महिलाओं और स्त्रियों के लिए- नारी सौन्दर्य माल्ट | Nari Sondarya Malt & Oil

महिलाओं और स्त्रियों के लिए- नारी सौन्दर्य माल्ट | Nari Sondarya Malt & Oil

“स्त्री रोगों का काम खत्म”
•~~~~~~~~~~~•

केवल नवयुवतियों, नवयौवनाओं,

महिलाओं और स्त्रियों के लिए

प्रदररोग,सभी स्त्री रोग नाशक
अदभुत आयुर्वेदिक ओषधि
!!अमृतम!!

नारी सौन्दर्य माल्ट

“महीने की चिन्ता-मन से मिटाये”

पच्चीस औषध का परचम-

इसमें आँवला, सेव,हरड़
मुरब्बा,गुलकन्द,अशोक छाल,
दशमूल,लोध्र,त्रिफला,त्रिकटु,
त्रिसुगन्ध,पीपल सौंठ,लौंग,
मुलेठी,अंजीर,मुनक्का,
शतावर,गिलोय, बादाम,
प्रदरांतक लौह आदि 25 से
अधिक मुरब्बे,मेवा-मसाले
एवं हर्बल ओषधियों की

तासीर रची-बसी है। Read more

treasure of books

पुस्तकों की पूँजी | Treasure of Books

पुस्तकों की पूँजी | Treasure of Books

आयुर्वेद हमारे महान भारत की

राष्ट्रीय चिकित्सा पध्दति” है।

अमृतम पुस्तकालय (लाइब्रेरी) में
उपलब्ध हजारों अनेको ग्रंथो में
आयुर्वेद का अपार ज्ञान भरा पड़ा है।
आयुर्वेद के इन्ही प्राचीन ग्रंथो से
अमृतम आयुर्वेदिक ओषधियों” का

निर्माण किया जाता है। Read more

Stop Hairfall in 21 Days

झड़ते बालों को रोके 21 दिनों में | Stop Hairfall in 21 days

झड़ते बालों को रोके 21 दिनों में | Stop Hairfall in 21 days

झड़ते बालों को रोके 21 दिनों में

बाल रफ हों या डैंड्रफ हो

बालों की हर समस्या का हल,

बाल को बल व
स्मूद बालों के लिए

कुन्तल केयर हेयर हर्बल बास्केट

आयुर्वेद के “21
प्राचीन ग्रंथों से ढूढ़ा

21 तरह के केशरोगों

को 21 दिन में
जड़ से मिटाने वाला

शुद्ध हर्बल फार्मूला । Read more

amrutam Brainkey Gold Malt

ब्रेन की गोल्ड माल्ट के 19 चमत्कारी लाभ | 19 Magical Gains of Brainkey Gold Malt

हमारा शरीर-हमारी तक़दीर ब्रेनकी गोल्ड माल्ट – Brainkey Gold Malt हमारी तकदीर बदल सकता है । क्योंकि तकदीर बदलने के लिए तजवीर या नित्य नवीन खोज, नई सोच की जरूरत है । नया आईडिया ही अब- इंडिया या भारत के बाहर आपको पहचान दिला सकता है । कैसे मिले सफलता – इसके लिए बहुत तेज़-तर्रार […]

Read more
Kuntal Care Malt

अमृतम ओषधियों के शुद्ध काढ़े से बना – कुन्तल केयर हर्बल हेयर माल्ट

प्रदूषण रहित बालों में बला का आकर्षण भी स्त्रियों के लिए आभूषण से कम नहीं है । 23 जगत विख्यात केश-उपचारक केश वर्द्धक जड़ी बूटियों से निर्मित !!अमृतम!! कुन्तल केयर हर्बल हेयर शेम्पो अनेक केश विकारों में उपयोगी अमृतम ओषधियों के शुद्ध काढ़े से बना जो बालों को बनाए मुलायम,लम्बे-घना असरकारक आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों एवं प्राकृतिक […]

Read more

ज्वर के प्रकार – आयुर्वेद अनुसार

ज्वरयति शरीराणि रति ज्वरः

अर्थात-
ज्वरः शरीर को जर्जर कर देता है ।
।।अमृतम।।
सभी तरह के ज्वरः,
मलेरिया, वायरस में
बहुत ही उपयोगी है ।
अमृतम आयुर्वेद के प्रमुख
ग्रंथ भैषज्य रत्नावली,
आयुर्वेद निघण्टु में
आठ प्रकार के ज्वर बताये गए हैं-

Read more

Kuntal Care

क्या है शिकाकाई

केश हेतु पेश है
5 दवाओं का अनूठा संग्रह
भारतीय ग्रंथों की गाथा
डॉ रामशंकर शुक्ल “रसाल
द्वारा सम्पादित
2000 अधिक पृष्ठों का
भाषा शब्द कोष के अनुसार
कुन्तल

Read more

Kuntal Care Amrutam

कुन्तल केयर

कुन्तल केयर माल्ट

ब्राह्मी,बालछड़, भृंगराज, मेहंदी, तथा
मेवा,मुरब्बे,प्राकृतिक मसालों से बना

दुनिया का पहला हेयर हर्बल

जो झड़ते,टूटते बालों की सम्पूर्ण
आयुर्वेदिक चिकित्सा है ।

Read more

अमृतम गोल्ड माल्ट | Amrutam Gold Malt | An Ayurvedic Jam

अमृतम गोल्ड माल्ट 400 ग्राम कीमत 1125 रुपये सभी असाध्य व पुराने जीर्ण-शीर्ण रोगों में विशेष उपयोगी एक अद्भुत शक्तिदायक आयुर्वेदिक टॉनिक है — मात्रा– 20 वर्ष से 70 साल तक की उम्र वालों को 2 चम्मच गर्म गुनगुने दूध से सुबह खाली पेट, दुपहर में खाने पहले 2 चम्मच रात में खाने के एक […]

Read more
Keyliv Malt with other malts

कीलिव माल्ट फ़ॉर टोटल केयर ऑफ लिवर

“कीलिव माल्ट फ़ॉर टोटल केयर ऑफ लिवर” वर्ष ऋतु में उपयोगी विशिष्ट अमृतम हर्बल ओषधियाँ- बरसात के दिनों में जल बहुत दूषित हो जाता है । इस पानी के पीने से विशेष रूप से पेट की खराबी, उदर रोग, भूख न लगना तथा पीलिया-जैसी बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है । इस व्याधि से […]

Read more
Amrutam Cumin Benefits1-07

जीरे के फायदे | Benefits of Jeera (Cumin Seeds)

दाल में तड़का हो या फिर सब्जी की बात हो हमारे दिमाग मे जीरा का नाम सबसे पहले आता है। यह एक मसाला रूप जाना जाता है। भारतीय खाने मे इसका बहुत इस्तेमाल किया जाता है। या यूँ कहिए इसके बिना भारतीय खाना अधूरा है। यह एपियेशी जाति का पुष्पीय पौधा है। यह पूर्वी भूमध्य सागर से लेकर भारत तक के क्षेत्र में फैला है। इस के प्रत्येक फल में स्थित एक बीज वाले बीजों को सूखाकर बनाया जाता है। जीरा का संस्कृत नाम जीरक है। Read more

Amrutam Gold Malt

हदय रोगोँ में लाभकारी | अमृतम गोल्ड माल्ट

हृदयाघात (हार्टअटैक) से बचने के,बस
*10* अमृतम उपाय ।
आयुर्वेद का महामंत्र है-
असतो मा सद्गमय
तमसो मा ज्योतिर्गमय
मृत्युर्मा ‘अमृतम’गमय ।।
अर्थात -हम अन्धकार से प्रकाश
की और चलें । फिर कहा गया-
“सर्वे भवन्तु सुखिनः”
अर्थात-सब सुखी रहें, स्वस्थ्य रहें,मस्त-तंदरुस्त रहें । इस हेतु अमृतम आयुर्वेद में अनेक योगों का वर्णन है ।
जैसे जून की भीषण गर्मी में भी अर्जुन को हृदय हेतु हितकारी बताया है ।
1- आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथ “
भावप्रकाश निघंटु”
के अनुसार “अर्जुनछाल” में एंटीऑक्सीडेंट होता हैं जो कोलेस्ट्रॉल कम कर ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में भी सहायक हैं ।

Read more

Amrutam Gold Malt

गिलोई युक्त अमृतम गोल्ड माल्ट

अमृतम गोल्ड माल्ट से लाभ – यह 100 तरह के रोगों का नाशक है । इसमें है , सभी संक्रमण, वायरस, व अनेक रोगों से लड़ने की ताकत । 40 से अधिक बेहतरीन त्रिदोष नाशक औषधीय गुणों का मिश्रण । आयुर्वेद के अनुसार वात-पित्त-कफ त्रिदोष ही सर्व रोगों का कारण है । अधिकांश मनुष्य इसी […]

Read more
एक दवा से 100 रोग सफ़ा  एक असरकारक अमृत युक्तओषधि हर रोग को हटाने वाली हरड़ हरड़ (हरीतकी) के मुरब्बे से निर्मित  अमृतम गोल्ड माल्ट रोज-रोज होने वाले रोग और  मन के मलिन विकार मिटाकर तन की तासीर  को तेजी से  तंदरुस्त बनाने में सहायक है  ।  अमृतम गोल्ड माल्ट  में अंदरूनी रूप से आकार ले रहा, कोई  भी  अनहोनी करने वाला रोग-विकार  मिटाने की क्षमता है ।  शरीर को दे अपार ऊर्जा- अमृतम गोल्ड माल्ट  यह एक शक्तिदाता हर्बल ओषधि है । इसे नियमित 2 से 3 तक  लिया जावे, तो तन-मन प्रसन्न रहता है । 1. जीवनीय शक्ति से लबालब हो जाता है । 2. ऊर्जा-उमंग, उत्साह की वृद्धि होती  है। 3. बार-बार होने वाले रोगों को  आने से रोकता है । 4. सभी विकार-हाहाकार कर तन  से निकल जाते हैं 5. कभी भी कोई रोग नहीं सताता। 6. शरीर की टूटन, जकड़न-अकड़न  मिटाता है । 7. त्रिदोष नाशक होने से वात-पित्त-कफ को समकर शरीर रोगरहित करता है । 8. बीमारी के पश्चात की कमजोरी दूर  करने में सहायक है । 9. अमृतम गोल्ड माल्ट का सेवन मौसमी (सीजन) बदलते समय होने वाले रोगों  से रक्षा करता है  । 10. मेदरोग, मोटापा को नियंत्रित करने  में सहायक है । 11. दिमाग में अंदर से आवाज सुनाई देना,  12. चिड़चिड़ापन, बात-बात पर क्रोध आना एवम गुस्सा होना।  13. हमेशा कब्ज रहना, पूरी तरह एक बार में पेट साफ न होना आदि उदर रोग ठीक कर पखाना समय पर लाता है । इसके सेवन से तन-मन प्रसन्न तथा शक्ति, स्फूर्ति आती है,   काम में मन लगने लगता है  । 14. थकावट, आलस्य, बहुत ज्यादा  नींद आना, हांफना जैसे सामान्य रोग मिटाता है । 15. सेक्स की इच्छा बढ़ाता है । 16. महिलाओं का मासिक धर्म समय पर लाकर, श्वेत प्रदर, सफेद पानी एवम व्हाइट डिस्चार्ज आदि विकारों को दूरकर सुंदरता दायक है । 17. दुबले-पतले शरीर वालों को ताकतवर है । 18. भूख व खून बढ़ाता है । 19. बच्चों की लंबाई, एवम बल-बुद्धि वृद्धि दायक है । 20. लंबे समय से बीमार या बार-बार रोगों से पीड़ित रोगियों में जीवनीय शक्ति वृद्धिकारक है । 21. किसी अज्ञात रोगों के कारण बालों का झड़ना, रूसी (डेंड्रफ), खुजली, रूखापन मिटाने में सहायक है । 22. आँतो की खराबी, रूखापन, चिकनाहट दूर करे । 23.  यकृत (लिवर) एवम गुर्दों की रक्षा करता है । 24. कमजोर शरीर व हड्डियों को ताकत देकर मजबूत बनाता है । 25. पेट की कड़क नाडियों को मुलायम बनाकर उदर के सभी रोगों  का नाश करता है । अमृतम गोल्ड माल्ट असरकारक ओषधि के साथ-साथ  एक ऐसा अदभुत हर्बल सप्लीमेंट है, जो रोगों के रास्ते रोककर सभी नाड़ी-तंतुओं को क्रियाशील कर देता है । जैसा वेदों ने सुझाया,अमृतम ने बनाया-- भारतीय वेद का एक भाग आयुर्वेद को  समर्पित है, इसमें आयु के रहस्मयी भेद होने के कारण इसे आयुर्वेद कहते हैं । अमृतम आयुर्वेद  का मन्त्र है कि- ॐ असतो मा सदगमय तमसो मा ज्योतिर्गमय मृत्योर्मा 'अमृतम' गमय  ॐ शाँति:शान्ति:शान्ति ।। अर्थात - हे ईश्वर, हमें अंधकार से  प्रकाश की ओर ,  और मृत्यु से अमृत की ओर ले चलो । हम सदा स्वस्थ्य, प्रसन्न व रोगरहित रहते, जीते हुए 120 वर्ष की पूर्णायु व्यतीत कर सकें । सब संभव है- रुद्री में यह मन्त्र बार-बार आता है-       ।।"शिवः संकल्पमस्तु"।। हम संकल्प करले कि, स्वस्थ रहने के लिये केवल प्राकृतिक चिकित्सा ही लेना है । अमृतम आयुर्वेद ओषधियों का ही सेवन  करना है   । दृढ़ संकल्प के सहारे हम सदा स्वस्थ व मस्त रह सकते हैं । पृथ्वी ने हमें बहुत कुछ दिया है । सम्पूर्ण जीव-जगत को  स्वस्थ-तंदरुस्त बनाये रखने एवम प्रसन्नता हेतु प्रकृति ने  अमृतम ओषधियाँ जड़ी-बूटियाँ,  मेवा-मसाले, अनाज, अन्न,  पके फल आदि प्रभावकारी  फूल-पत्ती प्रदत्त की ।  धरती माँ का यह परोपकार  प्रणाम करने योग्य है ।  अमृतम जड़ी-बूटियों के बिना  हम रोगों से पीछा नहीं छुड़ा सकते । लाइलाज, असाध्य व्याधियों को केवल आयुर्वेद दवाओं से ही ठीक किया जा  सकता है । यदि कम उम्र या बचपन से ही  इसका उपयोग करें, तो  पचपन में भी जवान बने रहोगे  एवम  ताउम्र कभी रोग होंगे नहीं । क्या करें- वर्तमान समय में प्रकृति द्वारा प्रदान  की गई जड़ी-बूटियों आदि की जानकारी  बहुत ही कम लोगों को है ।   बाजार में महंगी मिलती हैं । विश्वास भी नहीं हो पाता,  फिर साफ करने, कूटने, उबालने  तथा काढ़ा आदि चूर्ण बनाने का झंझट अलग । इन सबके लिए समय चाहिये ।  फिर परिणाम मिले या नहीं ।क्या भरोसा ।  इसलिये ही इन सब  परेशानियों से बचाने हेतु  करीब  40 से 45  मुरब्बे, मसाले,  जड़ी-बूटियों के योग (मिश्रण)  से एक ऐसा असरकारक योग  निर्मित किया, जो 100 से अधिक साध्य-असाध्य, अज्ञात रोगों को जड़ से दूर करने में सहायक है ।  शरीर का पोषण करने में यह चमत्कारी है । सभी विटामिन्स, केल्शियम सहित  आवश्यक पोषक तत्वों की  पूर्ति कर शरीर को  पूरी तरह हष्ट-पुष्ट  बनाता  है ।  एक योग-अनेक रोग नाशक - अमृतम गोल्ड माल्ट  का उपयोग कई तरीके से किया जा सकता है।  उपभोग कैसे करें- 1- सुबह नाश्ते (ब्रेक फ़ास्ट)  के समय   ब्राउन ब्रेड के साथ चाय से 2- दिन में पराठा, रोटी में लगाकर पानी या दूध के साथ रोल बनाकर जीवन भर लिया जा सकता है । 3-  जिनको  हमेेशा सर्दी,  खाँसी, जुकाम रहता हो, प्रदूषण या प्रदूषित खानपान के कारण बार-बार होने वाली एलर्जी, निमोनिया, नाक से लगातार पानी बहना, गले की खराश, सर्दी या अन्य कारण से  कण्ठ, गले या छाती में दर्द  रहता हो, तो 2 चम्मच  'अमृतम गोल्ड माल्ट'  एक कप गर्म पानी में अच्छी तरह मिलाकर 'ग्रीन टी' की तरह एक माह तक सुबह खाली पेट तथा दिन में  2 से 3 बार लेवें ।  उपरोक्त सभी जानी-अनजानी बीमारियों  को धीरे-धीरे दूर करने के लिए 2  माह तक  अमृतम गोल्ड माल्ट लेवें।  और भी अन्य  बीमारियों में इसका सेवन कैसे करना है । इसकी संक्षिप्त जानकारी नीचे दी जा रही है ।  सेवन विधि - बच्चों को सदैव निरोगी बनाये रखने के लिए  3 से  7 साल के बच्चों या बच्चियों को आधा-आधा चम्मच सुबह-शाम  दूध में मिलाकर या ब्रेड-रोटी में  लगाकर गुनगुने दूध से देवें  ।  7  साल से 15 साल तक के बच्चों  को 1-1 चम्मच सुबह-शाम  गुनगुने  दूध से ।  15 वर्ष से 25 वर्ष तक वालों को 2-2  चम्मच 2 बार गुनगुने दूध से । युवाओं के लिये-  25  वर्ष से अधिक आयु वाले  स्त्री  या पुरुष दोनों 2-2 चम्मच  सुबह- शाम  एवम रात में सोते समय गर्म दूध से  दिन में  3 बार तक ले सकते हैं  ।  सेक्स की संतुष्टि  के लिए 3 माह तक 2-2 चम्मच  3 बार सुबह खाली पेट, दुपहर में एवम रात में सोते समय गर्म दूध से । साथ में बी. फेराल कैप्सूल लेवें ।   मोटापा मिटाये-   एक कप  लगभग 200 मिलीलीटर गर्म पानी में  दो चम्मच  अमृतम गोल्ड  माल्ट  मिलाकर लगातार 5 सेे 6 माह तक  लेवें ।  यह भूख बढ़ाने वाली क्षतिग्रस्त ग्रंथियों की मरम्मत कर ऊर्जा में वृद्धि करता है । अनावश्यक  भूख  या चर्बी बढ़ने से रोकता है । इसके सेवन से कमजोरी,  चक्कर आना, बेडोल शरीर ठीक हो जाता है । हेल्थ बनाने में सहायक- जिनका शरीर बहुत ही दुबला-पतला, कमजोर  हो, हेल्थ नहीं बनती उन्हें  अमृतम गोल्ड माल्ट  परांठे में लगाकर खाये । साथ ही साथ गर्म दूध पीना चाहिये । 3 या 4 माह के नियमित सेवन से 7 से 8 किलो वजन बढ़ जाता है ।  एनर्जी व फुर्ती के लिये -  अमृतम गोल्ड माल्ट 2 या 3 चम्मच 200 से 300 ML दूध में मिलाकर ठंडाई  बनाकर 3-4 बार पियें, तो शरीर शक्ति-स्फूर्तिदायक हो जाता है ।  जिनका काम में मन नहीं लगता  । उनके लिये भी बहुत लाभकारी उपाय है । हर प्रकार की एनर्जी-फुर्ती के लिए यह अचूक फार्मूला है । मात्र 7 दिन के सेवन से  तुरन्त राहत महसूस  होने लगती है  । परहेज एवम सावधानी- आयुर्वेद की भाषा में परहेज को  "पथ्य-अपथ्य" कहा गया है  ।  @ रात में दही या दही से बने पदार्थ   का सेवन न करें  ।  @ रात में फल, जूस न लेवें । @ ज्यादा तला भोजन, @  अरहर(तुअर) की दाल  सुबह उठते ही 3 या 4 गिलास करीब 1  लीटर सदा जल ग्रहण करें  ।  अमृतम गोल्ड माल्ट  पूर्णतः हानिरहित हर्बल  उत्पाद है । रोगनाशक ओषधि के रूप में  यह एक अद्भुत हर्बल  सप्लीमेंट है । यह उदर की अदृश्य व्याधियों को मिटाकर पेट साफ कर,  समय पर दस्त लाता है  । आयुर्वेद के अनुसार  दुरुस्त पेट सुस्त शरीर को ऊर्जा से भर देता है । स्वस्थ जीवन का यही सूत्र है । रोग का संयोग - रंज-राग के रंग में रमा तथा भोग- रोग  से घिरा व्यक्ति, संसार का कोई भी भोग,-भोग नहीं  पाता । हर भोग के लिये स्वस्थ व सुन्दर शरीर आवश्यक है । कभी-कभी,  तो योग्य लोग (चिकित्सा क्षेत्र के जानकार)  या योग भी, रोग नहीं मिटा पाते ।   संसार  में जीने के लिये  रोग-रहित जीवन,  भोग और सम-भोग  जरूरी है । हमारी लापरवाही और लगातार बार-बार होने वाली बीमारियों के कारण कोई  होशियारी काम नहीं आती।  लोगों को होने वाले रोगों के नाम- पुरुष हो या नारी, बीमारी से  कोई नही बच सकता । जीवन छोटे-छोटे रोगों से प्रारंभ होकर  अंत में  मन अशान्त हो, आखिर में  तन शांत हो जाता है ।  जब सब कुछ खाक हुआ, तो  केवल राख बचती है । रोगों का रायता जब फैलता है, तो 1. आलस्य, 2. बेचैनी,  3. घबराहट, 4. भय-भ्रम,  5. चिन्ता 6. कमजोरी  7. रक्तचाप कम या ज्यादा,  8. कपकपाहट, 9. कम्पन्न,  10. धड़कन बढ़ना, 11. दुर्बलता, 12. हेल्थ नहीं बनना,  13. सिर, सीना व तलवों में जलन, 14. आँखों के सामने अंधेरा छाना, 15. अवसाद, 16. हीन भावना आना,  17. हकलाना, 18. आत्मविश्वास की कमी,  19. बोलने में हिचकिचाहट होना,  20.सुंदरता, 21. खूबसूरती घटते जाना,  22. झुर्रियां, दाग,  23. शरीर का शिथिल होना  और इन सबके कारण  24. ह्रदय रोग,  25.मधुमेह-प्रमेह आदि विकार  प्राकृतिक नियम विरुद्ध  जीवन-शैली के कारण होते हैं ।  रोग कभी 2 या 4 दिन में नही पनपते ।   इनके प्रति बेरूखी ठीक नहीं रहती ।  अन्यथा फिर  कहना पड़ेगा कि-  "बेरुखी में सनम, हो गए हम खत्म"  रोगों का कारण; हमारा उदर महासागर है । इसमें असंख्य रहस्य भरे पड़े हैं । इससे हरेक का  बहुत वास्ता है रोगों का रास्ता  यहीं से खुलता है ।   पेट की पीड़ा से परेशानी का प्रारंभ होता है  ।  ज्यादा अटपटा खाने या समय पर न खाने  से पेट रोगों  का पिटारा बन जाता है । पेट को भोजन लेट मिला, या अधिक मिला कि खिला चेहरा मुरझा जाता है  । इसीलिए ही कहते थे- "कम खाओ-गम खाओ" कुछ का कहना ये भी है कि - "पहले पेट पूजा"-  फिर काम दूजा" पेट पूजा के साथ-साथ योगा, ध्यान, प्रार्थना व पूजा करना भी लाभदायक होता है -  हम "पापी पेट" लिए ही इतनी भागदौड़   कर रहे हैं  । अमृतम आयुर्वेद का नियम  है -      समय पर खाना जरूरी है,   कि,  तुरन्त पच जाए।   खाना पचा कि तन-मन   रचा-रचा खूबसूरत और  शरीर हल्का हो जाता है ।  पर   बीमारी पुरानी औऱ लाइलाज हुई,  कि  पल का भी भरोसा नहीं रहता ।    यूनानी कहावत है-  विकारों से तन तबाह,  विचारों से मन ।  रोग से सिर्फ जाता हैं,  मिलता कुछ नहीं ।   दुनिया में कुछ लोग,  समय पर रोग के रहस्य को  न पकड़  पाने के कारण कम  उम्र में ही चल बसते हैं ।   फिर....  "किशोर कुमार"का यह गीत याद आता है-      मैं शायर बदनाम,      मैं चला, मैं चला ।      संसार चला-चली का मेला है,  जिनका उदर  (पेट)   मैला (मल), कब्ज-रोगरहित है  । वही   पूर्ण-प्रसन्न जीवन जी पाते हैं   !!   क्यों होती है बार - बार बीमारी::--    1-  पेट का बहुत लंबे समय तक या  बार-बार खराब रहना,  रोगों के रमने का कारण है । 2. लगातार कब्ज बने रहना ।  3. उदर  कब्ज के कब्जे में रहना ।  4.  एक बार में पेट साफ नहीं होना । 5.  भोजन न पचना ।  6. भूख न लगना  7. अम्लपित्त (एसिडिटी) 8. गैस का न निकलना (वायु-विकार) 9. मानसिक व्यग्रता 10. बार-बार ज्वर , मलेरिया । 11. जीवनीय शक्ति में कमी । आदि के कारण रोग जड़ें जमाना शुरू कर देते हैं । धीरे-धीरे इसका असर हमारे  लिवर (यकृत) तथा गुर्दे (किडनी)  पर होने लगता है  ।  बदहजमी, अम्लपित्त (एसिडिटी),  उबकाई सी आना,  गैस बनने की शिकायत शुरू हो जाती है  । इसके बाद ही  "तन का तना"  कमजोर होने लगता है ।  आंते भोजन पचाना कम कर देती हैं  ।  पेट में सूक्ष्म कृमि (कीड़े)  उत्पन्न होने लगते हैं ।  इस कारण तेजी से त्वचारोग तन  पर पकड़ बनाकर सारी शक्ति-ऊर्जा  क्षीण कर नाडियों में सही तरीके से  रक्त का संचार न होकर  अवरुद्ध हो जाता है ।  फिर...और.. फिर ..: डर-डर कर, दर-दर,  डॉक्टर के दर पर  भटकते -भटकते  सब कुछ बर्बाद कर बैठते हैं ।  कोरे कागज की तरह जीवन  व्यर्थ में ही व्यतीत हो जाता है  ।  और .. अंत में  यही गुनगुनाते 'जाने चले जाते हैं कहाँ, कि-  मेरा जीवन कोरा कागज, कोरा ही रह गया । क्यों असरकारक है- अमृतम गोल्ड माल्ट  में विशेष रूप से हरड़ का मुरब्बा मिलाया गया है ।  तन के हरेक रोग हरने, हटाने के कारण  इसे हरड़  या हरीतकी कहते हैं । हरड़ के विषय पर हम पिछले कई लेख (ब्लॉग) दे चुके हैं ।  अमृतम हरड़ (हरीतकी) मुरब्बा के बारे में भावप्रकाश नामक  ग्रंथ में श्लोक है कि- हरति/मलानइतिहरितकी । अर्थात-हरड़ -पेट की गंदगी और रोगों  का  हरण करती है  । हरस्य भवने जाता  हरिता च स्वभावत:।  ‎हरते सर्वरोगानश्च  ततः प्रोक्ता हरीतकी ।।म.नि.  हरड़ (हरीतकी) के अन्य नाम-  ‎हर,हर्रे,हरीतकी,अमृतम,अमृत, हरड़, बालहरितकी, हरीतकी गाछ, नर्रा,  हरड़े, हिमज,आदि कई नामों से जाने  वाली हरड़  रत्न रूपी तन का पतन  रोककर,  बिना जतन  के ठीक  करने  की क्षमता रखती है । महर्षि चरक की चरक संहिता के अनुसार अमृतम हरड़  के  बारे में बताया कि -  "विजयासर्वरोगेषुहरीतकी"   अर्थात  हरीतकी  (हरड़)  मुरब्बा एक   अमृतम ओषधि है,    जो सभी रोगों पर विजयी है  ।      हरड़- हारे का सहारा है  ।  । अमृतम गोल्ड माल्ट  शिथिल  व कमजोर नाडियों को हर्बल्स सप्लीमेंट, ऊर्जा का प्राकृतिक स्त्रोत होने से शरीर को हर-बल दायक है । इसे सेव मुरब्बा, आँवला मुरब्बा, हरड़ मुरब्बा और गुलकन्द के मिश्रण से तैयार किया है ।  आयुर्वेद की अति  प्राचीन अवलेहम पध्दति से निर्मित किया जाता है ।  इस कारण यह बहुत ही असरकारक, आयुवर्द्धक, शक्तिवर्द्धक, ओषधि है । आयुर्वेद का अमृत अमृतम गोल्ड माल्ट रोग मिटाये-स्वस्थ्य बनाये- * पोष्टिक, स्वादिष्ट, पाचक * शरीर को ऊर्जावान बनाये  * थकान आलस्य मिटाये * रक्त, भूख वृद्धि में सहायक * चर्बी व मोटापा घटाने में सहायक * बेचेनी से बचाये अमृतम रहस्य जानने हेतु लॉगिन करें amrutam.co.in औऱ हाँ... लाइक, शेयर करना न भूलें स्वस्थ जीवन का आधार-अमृतम

एक असरकारक अमृत युक्तओषधि: अमृतम गोल्ड माल्ट

एक दवा से 100 रोग सफ़ा एक असरकारक अमृत युक्तओषधि हर रोग को हटाने वाली हरड़ हरड़ (हरीतकी) के मुरब्बे से निर्मित अमृतम गोल्ड माल्ट रोज-रोज होने वाले रोग और मन के मलिन विकार मिटाकर तन की तासीर को तेजी से तंदरुस्त बनाने में सहायक है । अमृतम गोल्ड माल्ट में अंदरूनी रूप से आकार […]

Read more

“सेव मुरब्बा” युक्त अमृतम गोल्ड माल्ट

“सेव मुरब्बा” के गुण सहित सम्पूर्ण जानकारी
सेव एक प्राकृतिक फल है इसको
संस्कृत में सिम्बितिका, सिंचितिका
हिमाचल प्रदेश में यह सेव कहलाता है ।

Read more

Amrutam Gold Malt

पीपर, पीपरामूल, से निर्मित अमृतम गोल्ड माल्ट

में हैं- पिपर पीपरामूल, छोटी पीपल
के औषधीय गुण
प्राचीनकाल से
पीपल वृक्ष के लिए शास्त्रों में उल्लेख है कि
सर्व रक्षतिति पिपरा:” पग-,पग पाया जाने वाला, पल-पल जीवन देने के कारण पीपल गुणों का भंडार है ।
परमात्मा प्रदत्त पीपल इसलिये पूज्यनीय है ।

Read more

NARI SONDARYA MALT- COMPLETE CARE FOR WOMEN’S HEALTH AND BEAUTY

सोमरोग एक खतरनाक स्त्री रोग

महिलाओं के शरीर को जर्जर करने वाला-
सोम रोग
क्या है सोम रोग- “अमृतम मासिक पत्रिका” के अनुसार स्त्री की योनि से जब निर्मल, शीतल, गंधरहित, साफ, सफेद और पीड़ारहित सफेद पानी लगातार बहुत ज्यादा बहता रहता है, तब महिला सफेद पानी के वेग को रोक नहीं पाती इसे
अमृतम आयुर्वेद में सोमरोग कहा गया है ।
शरीर में विटामिन्स, कैल्शियम , आवश्यक तत्वों तथा प्रोटीन की पूर्ति हेतु सप्पलीमेंट के रूप में। ताउम्र अमृतम द्वारा निर्मित "नारी सौंदर्य माल्ट" का सेवन करें । यह शरीर को सुंदर व खूबसूरत। बनाये रखता है । अधेड़ उम्र की महिलाओं में। गजब का सौंदर्य बढ़ाता है । मासिकधर्म नियमित करता है । जिन महिलाओं को माहवारी बहुत कम तथा समय पर नहीं आती, कम उम्र में माहवारी का रुकना मोनोपोज़ उनके लिए यह बहुत

Read more

गुग्गुल- एक अद्भुत प्राकृतिक हर्ब

अमृतम गुग्गुल एक अद्भुत प्राकृतिक हर्ब गुग्गल को पेड़ों का पसीना भी कहते हैं । यह पुराने वृक्ष के ताने से गाड़ा रस तरल पदार्थ के रूप में बहता रहता है । इसी चिपचिपे पानी को इकट्ठा कर सुखा लेते हैं । गुग्गल को शुध्द कैसे करें ओषधि हेतु उपयोग करने से पहले इसे त्रिफला […]

Read more

20 प्रकार की योनि के लक्षण

महिलाओं को सफेद पानी की परेशानी को ही अमृतम आयुर्वेद में प्रदररोग कहते हैं ।
अंग्रेजी में इसे Leuccorrhea लिकोरिया तथा white discharge व्हाइट डिस्चार्ज भी कहा जाता है ।
प्रदररोग गर्भाशय का विकार है । इस रोग से पीड़ित महिला को गर्भवती होने में रुकावट होती है ।
सोमरोग शरीर के धातु संबंधी निर्बलता का रोग है ।

Read more

The Ayurvedic Cure for Leucorrhea

अमृतम केपिछले लेख (blog) में 4 प्रकार के प्रदर रोग के बारे में बताया गया । श्वेतप्रदर (shwet pradar) Leucorrhea के रोग को जड़ से मिटा देगा – “नारी सौन्दर्य माल्ट” संसार मे शायद ही कोई स्त्री हो, जो प्रदररोग से पीड़ित न हो । महिलाएं इस रोग को मामूली समझती हैं, इसलिए लाज शर्म […]

Read more

How to apply hair oil according to Ayurveda?

Ayurvedic ways of applying Hair Oil

Did you read our article about how to wash your hair?

In this article, we will guide you through the process of applying hair oil and its ancient Ayurvedic benefits.

A simple task like applying hair oil can involve a lot of intricacies. According to Ayurvedic texts, applying oil to your scalp and hair helps in strengthening your hair and improving their quality.

In Sanskrit, the process of applying oil to one’s hair and scalp is known as Murdha Taila. Murdha Taila (applying oil to your hair) helps them grow thicker, shinier and softer. It also helps in stimulating the sense organs and reducing facial wrinkles. Read more

अमृतम हरड़ हरीतकी

हरति/मलानइतिहरितकी । अर्थात-हरड़ रोगों पेट की गंदगी का हरण करती है । ‎हरस्य भवने जाता हरिता च स्वभावत:। ‎हरते सर्वरोगानश्च ततः प्रोक्ता हरीतकी।।। म.नि. ‎हर,हर्रे,हरीतकी,अमृतम,अमृत, हरड़, बालहरितकी, हरीतकी गाछ, नर्रा, हरड़े, हिमज, आदि कई नामों से जाने वाली हरड़ तन को बिना जतन ठीक करने की क्षमता रखती है । ‎रसायनिक संगठन– पके हरड़ में […]

Read more

अमृतम हरड़ पार्ट- 3

हरड़ में 5 प्रकार के रस होते हैं

मज्जा में मधुर रस (मीठा), इसकी नाड़ियों में

खट्टा रस, ठूंठ (वृन्त) में कड़वा रस, छाल में

कटु रस और गुठली में कसैला रस होता है ।

हरड़ में पाँच तरह के रस होने से तन को पतन सेबचाती है । यह अमृतम ओषधि है ।

हरड़ की पहचान

जो हरड़ नई,चिकनी,घनी,

गोल, तथा भारी हो और जल में डालने

पर डूब. जाए वह हरड़ उत्तम व

गुणकारक होती है । Read more

हरड़ पार्ट 2

पिछले लेख से आगे–— भाषाभेद से नामभेद – हरड़ को हिंदी में हर्र, हर्रे । बंगला औऱ मराठी में हर्त्तकी । कोंकण में कोशाल। । गुजराती में हरड़े, कन्नड़ में आणिलय तेलगु में करक्वाप तमिल में कड़के द्रविड़ में कलरा फारसी में हलेले, कलाजिरे, जवीअस्कर अरबी में अहलीलज लेटिन में terminalia chebula black murobalans (टर्मिनलिया […]

Read more

गुलकन्द से बना जिओ माल्ट

अनेक रोग नाशक जिओ माल्ट

Zeo Maltगैस, ऑफर, खट्टी डकारें, अम्लपित्त (एसिडिटी) बेचैनी, हमेशा पेट में मरोड़ होना,ऐंठन, पेट दर्द, अजीर्ण, जी मिचलाना, खाने की इच्छा नहीं होना, अपचन, हिचकी आदि रोगों का जड़ मूल से नाश 7 दिनों में ही कर देता है । Read more

Orthokey Gold Malt for HeaOrthokey Gold Malt for Healthy Joints Ayurvedic Medicinelthy Joints

ऑर्थोकी गोल्ड कैप्सूल एवम माल्ट

अस्थि या हड्डियों के क्षय क्षीण तथा कमजोर होने पर तन निम्न व्याधियों से घिर जाता है ।

जैसे-मन उदास रहना । किसी से ज्यादा बोलचाल की इच्छा नहीं रहती । कोई न कोई शंका, डर भय बना रहता है । किसी भी काम में मन नहीं लगता,वीर्य पतला ओर कम होकर सेक्स के प्रति अरुचि हो जाती है । शरीर दुबला व कमजोर होने लगता है । शरीर का संज्ञान नहीं रहता,स्वतः ही मल-मूत्र निकल जाता है ।

शरीर काँपता है , वमन (उल्टी) जैसा मन

रहता है । Read more

Kuntal Care malt

Kuntal Care Malt- Herbal Remedy for Haircare

Kuntal Care Malt- Herbal Remedy for Haircare Kuntal Care Malt is a herbal remedy for hair care. It is a natural therapy for preventing hair loss. The key ingredients of Kuntal Care Malt are Bhringaraj, Sariva, Jatamansi, Dhatri loh and Chandi Bhasm. Kuntal Care Malt is very beneficial for smooth, silky and healthy hair, it […]

Read more

Suffering from stomach problems? Try Zeo Malt to get instant relief from Indigestion

A very common stomach related problem is dyspepsia, which we all know as indigestion. It is generally described as an uncomfortable pain in our stomach or chest occurring usually after you have eaten something. In medicinal language, other common symptoms of indigestion include a sensation of feeling full and heavy (that generally happens when you […]

Read more

अमृतम गोल्ड माल्ट – ताकत,तंदरुस्ती औऱ ऊर्जा-उमंग एवम तन,-मन की शक्ति हेतु अद्भुत असरकारक आयुर्वेदिक औषधि

अमृतम गोल्ड माल्ट शरीर को शीघ्र शक्ति प्रदान करता है ।एथेलीट, खिलाड़ी, पर्वतारोही, गोताखोर, फैक्टरियों के श्रमिकों, मजदूरों, मेहनतकश लोगों, किसान, कर्मचारियों, कमजोरी से पीड़ित कामकाजी ,घरेलू या गर्भवती महिलाओं, बच्चों,विकलांगों, रोग से असहाय रोगियों को रोग होने अथवा नहीं होने पर भी *अमृतम गोल्ड माल्ट* बिना किसी सलाह के जीवन भर लिया जा सकता […]

Read more
  • Sign up
Lost your password? Please enter your username or email address. You will receive a link to create a new password via email.
We do not share your personal details with anyone.
0
Amrutam Basket
Your cart is empty.
X