Category: Amrutam Mythology & Indian Culture

Chawanprash Amrutam

Hair Care Tips During Holi

Holi is a vibrant festival and everyone awaits to play Holi. It makes us happy and we don’t want it to end. The wait is over, Holi is here and let’s gear up for the celebrations. Well, I am not talking just about the colourful pranks that we shall throw on others; but to save […]

Read more

How To Make Natural Colours At Home?

Holi Hai! The most loved festival all over the country is here. Kids and adults are all equally excited to enjoy the colourful festival. I am sure your Holi preparations would have started. The most joyous part of the festival is playing with colours, eating sweets with your friends & family. Nowadays, everyone is aware […]

Read more

Holi – Role Of Ayurveda In The Festival Of Colours

Holi is around the corner, the vibrant, colourful festival that is celebrated by one and all. It brightens our lives adding joy and happiness, bringing everyone together. A Brief History on Holi: Holi also marks the onset of spring and is deeply connected to Hindu Mythology. ‘Holika’, a female demon and sister of King Hiranyakashyap […]

Read more

सप्तधातु किसे कहते हैं

सप्तधातु किसे कहते हैं –

जिससे शरीर का निर्माण या धारण होता है, इसी कारण से इन्हें ‘धातु’ कहा जाता है धा अर्थात = धारण करना। हैं -सप्‍त धातुओं का शरीर में बहुत महत्‍व है। Read more

शीघ्रपतन किन 13 कारणों से होता है

शीघ्रपतन किन 13 कारणों से होता है

शीघ्रपतन के लक्षण –

सम्भोग के वक्त, समय से पहले वीर्य का
जल्दी निकल जाना शीघ्रपतन है। जब शिश्न प्रवेश (एंट्री)के साथ ही “एक्सिट” होने लगे या फिर, स्त्री अभी चरम पर न हो और व्यक्ति का स्खलन हो जाए तो यह शीघ्रपतन (Premature Ejaculation) है।

शीघ्रपतन के साइड इफ़ेक्ट

@ ऐसे में स्वयम से लाचार वअसंतुष्टि होना
@ ग्लानि, हीन-भावना,
@ नकारात्मक सोच या
@ अपने-आपको कोसना, कमजोर समझना,
@ शीघ्रपतन का स्थाई इलाज आयुर्वेद
में ही मुमकिन है। Read more

पेल्विक कॅन्जेशन सिंड्रोम

महिलाओं की सेहत के लिए सबसे

विश्वसनीय है आयुर्वेदिक ओषधियाँ

■ पेड़ू में दर्द बना रहता है
■ मासिक धर्म की अनियमितता
■ नलों में सूजन
■ सफेद पानी की समस्या
■ चिड़चिड़ापन
■ खून व भूख की कमी

क्या होता पेड़ू का दर्द –

इसे पेल्विक कॅन्जेशन सिंड्रोम भी कहा जाता है। पेल्विक (पेड़ू) क्षेत्र में दर्द होने का एक प्रमुख कारण अंडाशय (ओवरी) से संबंधित है। ओवरी में कुछ ऐसी रक्त वाहिनियां (ब्लड वेसेल्स) होते हैं, जिनमें छोटे-छोटे वाल्व होते हैं जो रक्त के प्रवाह को सही दिशा में पहुंचाते हैं ताकि रक्त हृदय की नाडियों तक पहुंचता रहे।

Read more

कोलाइटिस – एक पेट की बीमारी

कब्ज से परेशान हैं या पेट साफ नहीं होता अथवा दस्त बंधकर नहीं आता,

तो रोज रात को मुरब्बे, गुलकन्द से बना आयुर्वेद की इस औषधि का सेवन करें।
यह पुरानी से पुरानी कब्जियत और
आँतों की सूजन, पेट की जिद्दी बीमारियों को दूर करने सहायक है।

Read more

प्रतिदिन अभ्यंग से होते होते हैं 10 लाभ

प्रतिदिन अभ्यंग से होते होते हैं 10 लाभ

आयुर्वेदिक अभ्यङ्ग है –9 तरह से लाभकारी

व्यायाम करने से पहले रोजाना अभ्यंग यानी मालिश करने से होते हैं अनेकों लाभ और हमारा स्वास्थ्य बना रहता है।

【1】अभ्यंग (मालिश) शरीर और मन की ऊर्जा का संतुलन बनाता है,
【2】वातरोग के कारण त्वचा के रूखेपन को कम कर वात को नियंत्रित करता है।
【3】शरीर का तापमान नियंत्रित करता है।
【4】शरीर में रक्त प्रवाह और दूसरे द्रवों के प्रवाह में सुधार करता है।
【5】अभ्यंग त्वचा को चमकदार और मुलायम बनाता है।
【6】मालिश की लयबद्ध गति जोड़ों और मांसपेशियों की अकड़न-जकड़न को कम करती है।
【7】अभ्यङ्ग से त्वचा की सारी अशुद्धियाँ दूर हो जाती हैं, तब हमारा पाचन तंत्र ठीक हो जाता है।
【8】 पूरे शरीर में ऊर्जा और शक्ति का संचार होने लगता है।
【9】अभ्यङ्ग यानि मालिश से शरीर में रक्त परिसंचरण बढ़ता है और

【10】शरीर के सभी विषैले तत्त्व बहार निकल जाते हैं।< Read more

B FERAL GOLD MALT

केवल पुरुषों के लिये | Ayurvedic Medicine for Men’s Sexual Health

केवल पुरुषों के लिए- 

एक सम्पूर्ण समाधान
 “आयुर्वेदिक शक्तिवर्धक कैप्सूल और माल्ट”
( पुरुषार्थ संबंधी रोगों में उपयोगी )
 आपकी  इम्युनिटी पावर
 बढ़ाने के लिए “अमृतम“बनाया है-
शुद्ध शिलाजीत, शुद्ध गुगल,केशर,
सहस्त्रवीर्या, कोंच के बीज,
वंग,तृवंग और स्वर्ण भस्म,अश्वगंधा,

Read more

Adhi Ayurveda

एक बहुत ही दुर्लभ जानकारी आधि और व्याधि के बारे में

1- आधि क्या है

बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि “आधि” और “व्याधि” दोनों अलग-अलग बीमारी है।
आयुर्वेद के अनुसार आधि-व्याधि
किसे कहते हैं। इस लेख में विस्तार से
बताया जा रहा है

आधि का अर्थ -आयुर्वेद ग्रंथों के अनुसार सारे मानसिक रोग,मस्तिष्क से सम्बंधित बीमारियों और मन तथा आत्मा के विकार “आधि“कहे जाते हैं । Read more

  • Sign up
Lost your password? Please enter your username or email address. You will receive a link to create a new password via email.
We do not share your personal details with anyone.
0
Amrutam Basket
Your cart is empty.
X