Category: Amrutam Mythology & Indian Culture

B FERAL GOLD MALT

केवल पुरुषों के लिये | Ayurvedic Medicine for Men’s Sexual Health

केवल पुरुषों के लिए- 

एक सम्पूर्ण समाधान
 “आयुर्वेदिक शक्तिवर्धक कैप्सूल और माल्ट”
( पुरुषार्थ संबंधी रोगों में उपयोगी )
 आपकी  इम्युनिटी पावर
 बढ़ाने के लिए “अमृतम“बनाया है-
शुद्ध शिलाजीत, शुद्ध गुगल,केशर,
सहस्त्रवीर्या, कोंच के बीज,
वंग,तृवंग और स्वर्ण भस्म,अश्वगंधा,

Read more

Adhi Ayurveda

एक बहुत ही दुर्लभ जानकारी आधि और व्याधि के बारे में

1- आधि क्या है

बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि “आधि” और “व्याधि” दोनों अलग-अलग बीमारी है।
आयुर्वेद के अनुसार आधि-व्याधि 
किसे कहते हैं। इस लेख में विस्तार से 
बताया जा रहा है

आधि का अर्थ -आयुर्वेद ग्रंथों के अनुसार  सारे मानसिक रोग,मस्तिष्क से सम्बंधित बीमारियों और मन तथा आत्मा के विकार “आधि“कहे जाते हैं । Read more

Kuntal Care Malt

बालों को बचाने के लिये – 4 उपाय, 4 दवाएँ

बालों की केयर और हेयर फॉल कम करेंगे ये- “4 उपाय, 4  दवाएँ”

मजबूत बालों के लिए-
आयुर्वेद नियमों के अनुसार कब लगाना चाहिए बालों में तेल-
और जाने-

(अदभुत “22” जानकारी इस लेख में)

बालों की देखभाल बच्चों की तरह करना आवश्यक है,तभी बाल स्वस्थ्य,सुन्दर और मजबूत बने रह सकते हैं। बालों की सुरक्षा के लिये हमें प्राचीन परम्पराओं की तरफ लौटना जरूरी है। दादा-दादी,नाना-नानी के नुस्खे, आयुर्वेद योग,
त्रिफला,
भृङ्गराज,
शिकाकाई,
बालछड़
आदि जड़ीबूटियों का तेल तथा देशी काढ़ा बालों को टूटने,झड़ने से बचाने के लिए बहुत

उपयोगी और लाभकारी चिकित्सा है। Read more

treasure of books

पुस्तकों की पूँजी | Treasure of Books

पुस्तकों की पूँजी | Treasure of Books

आयुर्वेद हमारे महान भारत की

राष्ट्रीय चिकित्सा पध्दति” है।

अमृतम पुस्तकालय (लाइब्रेरी) में
उपलब्ध हजारों अनेको ग्रंथो में
आयुर्वेद का अपार ज्ञान भरा पड़ा है।
आयुर्वेद के इन्ही प्राचीन ग्रंथो से
अमृतम आयुर्वेदिक ओषधियों” का

निर्माण किया जाता है। Read more

Guru Purnima | Amrutam

गुरु पूर्णिमा पर्व | अमृतम

गुरु पूर्णिमा पर्व पर पूर्ण ब्रह्मांड के प्राणियों को परम प्रकाश, परमात्मा प्राप्त हो। ॐ के ॐ-कार के नाद से उत्पन्न, उत्सव हो या उपासना, ऊपर वाले के प्रति उन्मुख होने प्रक्रिया है। आज गुरु उत्सव है। गुरु पूर्णिमा है। उत्साही शिष्यों के लिए आज का दिन उदासी, उत्कंठा, उष्णता, उन्माद, उत्तेजना त्यागकर उत्तरार्द्ध (पिछला समय) भूलकर मन […]

Read more

अमृतम की कहानी- समुद्र-मंथन | The Story behind Amrutam

क्या है अमृत

पहले इसको समझना जरूरी है –
प्राचीन वेद-पुराण और भारतीय धर्मशास्त्रों में
अमृत उत्पत्ति के बारे में बताया गया है कि

Read more

हमारा श्रम-संघर्ष है हमारी पूजा | Hard-work is a form of prayer

Hard-work is a form of prayer

माल (धन) का कमाल

पाठकों हेतु पिछले अंक में धन की मृत्यु,
तन की, तथा मन की मृत्यु का भय के
बारे में संक्षिप्त में बताया था कि ये तीन ही
मानव जीवन की शक्तियां हैं ।
तन को तरुण अवस्था में सम्भालें
मन की मलिनता मेहनत द्वारा मिटाये ।
लेकिन धन विभिन्न प्रयास, Read more

मन की भूख असीमित है | The endless desires of human mind

The endless desires of human mind amrutam

अमृतम फार्मसूटिकल्स

द्वारा प्रकाशित

।।अमृतम।।

मासिक पत्रिका

से साभार

किसी अनुभवी आदमी का

‎ अकाट्य वाक्य है-

‎         “तन की भूख तनिक है,

‎             तीन पाव या सेर ।

‎        मन का मान अपार है,

Read more

आयुर्वेद की और देख रही दुनिया ‎| The world is looking towards Ayurveda

The world is moving towards amrutam ayurveda

आयुर्वेद की और देख रही दुनिया

  ‎***”””””””””””***

  ‎पूरे विश्व के लोग अब

  ‎एलोपेथिक चिकित्सा

  ‎से ऊब चुके हैं ।

  ‎अंग्रेजी दवाओं के

  ‎दुष्प्रभावों ने अनेक नई

  ‎बीमारियों को जन्म

  ‎दिया है । Read more

।।महाशिवरात्रि।। ‎शुभ-सुख सिद्धि कारक हो

।।महाशिवरात्रि।।
 ‎शुभ-सुख सिद्धि कारक हो
    !!!!!!——————!!!!!!!
‎सबके सब कष्ट काटने
‎के कारण कहते हैं-
“शंकर संकट हरणा”
‎अमावस्या से एक दिन पूर्व
‎चतुर्दशी (चौदस) की रात Read more

प्रार्थना का साइंटिफिक महत्व जाने अमृतम के साथ

प्रार्थना का साइंटिफिक महत्व जाने अमृतम के साथ

प्रार्थना का साइंटिफिक महत्व जाने अमृतम के साथ चिकित्सा शास्त्री डॉ. लेस्ली वेदरहेड पाष्चत्य जगत में आध्यात्मिक- चिकित्सा के सिद्धांत एवं प्रयोगो को विकसित करन में अग्रणी माने जाते है। अपनी प्रसिद्ध पुस्तक साइकालोजी, रिलीजन एण्ड हीलिंग में सामूहिक प्रार्थना की दिव्य ऊर्जा से कितने ही व्यक्तियों के स्वस्थ होने का आँखों देखा विवरण उन्होनें प्रकाशित किया है।

Read more

मेरी सोच- आधुनिक दुनिया में महिलाओं के अधिकार

मेरी सोच- आधुनिक दुनिया में महिलाओं के अधिकार

 मेरी सोच- आधुनिक दुनिया में महिलाओं के अधिकार

क्या महिलाओं का अपना वजूद होता है!

क्या महिलाएँ अपना ख्याल रखती है!

क्या महिलाओं को वह अधिकार मिलता है, जो उन्हें वास्तव में मिलना चाहिए!

ख़रीदे ब्रैंकीगोल्ड अपने स्वस्थ्य और रोग प्रतिरोधक शक्ति के लिए- बीना किसी शिपिंग चार्जेज के

Read more

अ-उ-म (ओम) का वैज्ञानिक उच्चारण

OM CHANTINGशरीर को सदैव स्वस्थ सहज एवं सरल बनाने की प्रक्रिया है अ उ म का उच्चारण से मानसिक विकारों का विनाष उ से हृदयगत रोगो का विनाष और म के उच्चारण से पेट के समस्त रोगो से मुक्ति मिलति है। Read more

Vrata | Significance of Fasting in Our Daily Lives | Learn with Amrutam

Today, we will learn about Vratas.

You would have seen your family, observing Vrata during various occasions according to the Hindu Calendar.

What are Vratas and why do people fast?

A Simple Amrutam Understanding
The Sanskrit meaning of the word Vrata is “vow, resolve, and devotion”.
According to ancient Hindu scriptures, Vratas are referred to the practice of austerity and abstinence from certain routine activities to achieve oneness with the higher self. Read more

“The best way to understand the concept of the evil eye is to accept the idea of auras.

The Evil Eye- Myth or the Truth?

“Nazar lag jayegi” is a very common statement in the Indian Household. The nazar here, is the evil eye which is considered as a negative energy which could harm you.

It is the gaze of an evil eye and henceforth, it is believed and considered important to keep yourself away from the gaze of the evil and also protect yourself from it.

Well, yes, your inquisitiveness behind the logic of the phenomenon of the evil eye is correct.Here  are a few Amrutam interesting facts about the evil eye:

Is the evil eye a myth, a superstition or a reality?

Here  are a few Amrutam interesting facts about the evil eye: Read more

4 AMRUTAM INTERESTING FACTS ABOUT SAGE KASHYAPA

4 AMRUTAM INTERESTING FACTS ABOUT SAGE KASHYAPA

4 AMRUTAM INTERESTING FACTS ABOUT SAGE KASHYAPAThursdays with Amrutam are all about learning.

Learning about various fabulous people, lords and gods and yogis associated with Ayurveda and Yoga.

In the past few weeks, we have talked about Acharya Charaka, Sushruta, Lord Dhanwantri and Sage Bharadwaja. These four names are the ancient gods or rishis associated with the field of Ayurveda. Read more

Synchronization of the left and right side of our brains through sound of a temple bell.

4 Amrutam Reasons Why You Should Ring the Bells

The clattering of temple bells, in every corner of your streets- is it a nuisance for you?

Ringing the temple bells has been considered an auspicious practice since ancient times.

We have 5 Amrutam reasons why these temple bells should not be a nuisance for you. Read more

3 Father of Rishi Dronacharya Rishi Bhardwaja was the father of Guru Dronacharya. Rishi Bharadwaja`s son, Rishi Dronacharya was the famous teacher to the Kaurava and Pandavas, as told in the great Hindu epic- Mahabharata

5 Amrutam Interesting Facts about Sage Bharadwaja

Bharadwaja, the ancient Rishi has been referred in Charaka Samhita as well.

A renowned scholar, and economist- Rishi Bharadwaja, has been known as the first man to have studied medical science and Sage Bharadwaja was a teacher as well.  Read more

5 Amrutam Interesting Facts about Lord Dhanvantri

 

Lord Dhanvantri is the god of Ayurveda, interestingly according to Hindu mythology Lord Dhanvantri and the festival of Dhanteras,  Read more

6 Interesting Amrutam Things about Sushruta

In the series of notable men associated with Ayurveda, Sushruta finds his place high up on the ladder. Read more

5 Secrets behind the mark on the forehead: Tilak


Amidst the jingle jangle and loud vibrations of temple bells, and the vibrations of mantras which have found there sacred space on all the Priests’ and devotees’ faces – a tilak is a symbol put on the forehead between the eyebrows.

Here is why we have been putting the tilak/teeka across our foreheads for centuries and centuries now:

Read more

7 Interesting Facts you should know about Acharaya Charaka

The Wandering Scholar & his work Charaka Samhita

Acharya Charaka was born in 300 B.C. and is known as the father of Indian Medicine.
The word Charaka is used for those ancient physicians/scholars who used to travel and engage in medicinal or scholarly practices.

Read more

0
Amrutam Basket
Your cart is empty.
X