क्‍या है एन्‍डोमीट्रीओसिस ? लक्षण, कारण और आयुर्वेदिक इलाज

महिलाओं को दिनोदिन बढ़ रही हैं आधुनिक युग की बीमारियां और समस्‍याएं

वर्तमान में भागादौड़ी के इस भौतिक युग
की वजह से नित्य नये स्त्रीरोग उत्पन्न हो रहे हैं और महिलाओं को कई प्रकार की स्‍वास्‍‍थ्‍य समस्‍यायें भी पैदा हो रही हैं। इन सबका सर्वाधिक दुष्प्रभाव महिलाओं की सुन्दरता पर पड़ रहा है।

एन्‍डोमीट्रीओसिस (Endometriosis)

यानि गर्भाशय सम्बंधित ऐसा विकार है जिसमें नवयोवनाएँ पीरियड्स अर्थात मासिक धर्म के दौरान बहुत विचलित हो जाती हैं।
तथा यौन संबंध बनाते समय असहनीय दर्द होना जैसे प्रमुख लक्षण इस बीमारी के कारण दिखाई पड़ते हैं।
इसका आसानी से उपचार आयुर्वेदिक दवा द्वारा किया जा सकता है।<

अशोक छाल,

शतावरी,

नागकेशर,

लोध्रा,

आँवला मुरब्बा,

सेव मुरब्बा,

गुलकन्द और

त्रिकटु आदि ओषधियां बहुत उपयोगी

और कारगर हैं, जिसे

Order Nari Sondarya Malt Now

नारी सौन्दर्य माल्ट में मिलाया गया है।
आयुर्वेद ग्रन्थ भावप्रकाश निघण्टु तथा
सिद्ध योग संग्रह के अनुसार यह माल्ट
29 प्रकार के कठिन स्त्री रोगों को दूर करने में सहायक है।

महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद है

नांरी सौन्दर्य माल्ट का सेवन,
ये 9 समस्याएं होंगी दूर —
【1】पेट के निचले हिस्से में होने वाले दर्द
से निजात दिलाता है।
【2】मूत्र त्याग के समय असहनीय जलन
तथा पेशाब की तकलीफ को मिटाता है।
【3】सेक्स रिलेशन (यौन संबंध) के समय तेज दर्द और जलन से राहत देता है।
【4】अनियमित मासिक धर्म (Menstrual)
समय पर बिना तकलीफ के लाता है।
【5】आलस्य, थकान और शिथिलता को दूर करता है।
【6】लंबे समय से हल्‍का-हल्‍का फीवर,बुखार, कमजोरी मिटाने में सहायक है।
【7】अचानक तेज बुखार और उल्टी
मूत्र विसर्जन यानी (यूरिन) करने में दिक्कत, पेशाब की जलन और दर्द मिटाता है।
【8】सेक्स यानि सहवास,संभोग के दौरान दर्द या परेशानी अथवा मन न होना, अरुचि आदि समस्या दूर करता है।
【9】हमेशा पीठ, सिर में दर्द की समस्या से मुक्ति दिलाता है।

नांरी सौन्दर्य माल्ट

प्रदर से पीड़ित स्त्रियों के लिए
विशेष उपयोगी देशी दवा है
यह निम्नलिखित बीमारियों में उपयोगी है –

【10】माहवारी का कम या नहीं होना
【11】सफेद पानी की शिकायत
【12】श्वेत प्रदर (व्हाइट डिस्चार्ज)
【13】अनियमित मासिक धर्म
【14】गर्भाशय की शिथिलता
【15】योनिशूल
【16】माहवारी का कम या नहीं होना
【17】माहवारी समय पर न होना
【18】माहवारी कष्ट से होना
【19】मासिक धर्म के समय का दर्द

एन्‍डोमीट्रीओसिस एक प्रकार की सामान्‍य समस्‍या है जो सबसे अधिक कामकाजी महिलाओं में देखी जाती है, क्‍योंकि उनकी दिनचर्या अनियमित होती है। तनाव भी इस बीमारी का कारण है। यह बीमारी घरेलू महिलाओं को भी प्रभावित करती है। इस रोग में नांरी सौन्दर्य माल्ट बेहद लाभकारी है।

क्‍या है एन्‍डोमीट्रीओसिस

यह एक प्रकार की दर्दनाक और खतरनाक समस्‍या है जो अंतर्गर्भाशयकला (endometrium) में होती है। अंतर्गर्भाशयकला एक प्रकार का म्‍यूकस यानी श्‍लेष्‍मा है जो गर्भाशय की झिल्‍ली पर होता है। यह गर्भाशय के आंतरिक और बाहरी मुख पर भी हो सकता है। वास्‍तव में यह गर्भाशय, अंडाशय और फैलोपियन ट्यूब और गर्भ के पीछे कहीं भी हो सकता है। किसी प्रकार के घाव या सर्जरी भी इस बीमारी के लिए जिम्‍मेदार हो सकते हैं।

दुर्लभ मामलों में ही एन्‍डोमीट्रीओसिस शरीर के अन्‍य हिस्‍से में हो सकते हैं। योनिः के मुख पर अतिरिक्‍त कोशिकाओं का विकास हो जाता है जो मासिक धर्म और यौन संबंध बनाने के दौरान दर्द का कारण बनता है। कुछ मामलों में एन्‍डोमीट्रीओसिस आंतरिक शा‍रीरिक रचना को प्रभावित करता है और इसकी गंभीर स्थिति को ‘फ्रोजेन पेल्विस’ ना से जाना जाता है।

क्या है — फ्रोजेन पेल्विस

मां नहीं बनने देती ये बीमारी, एक सर्वे के मुताबिक दुनिया में 17 करोड़ से ज्यादा औरतें इस बीमारी को झेल रहीं हैंयह रोग गर्भाशय में दीमक की तरह होता है, जो गर्भाशय को खोखला कर देता है।

एन्‍डोमीट्रीओसिस के लक्षण

-मासिक धर्म के दौरान कभी-कभी ऐसा दर्द होता है कि महिला इसे बर्दाश्‍त नहीं कर पाती और यह असनीय हो जाता है। कई बार यह दर्द पूरे महीने तक लगातार बना रहता है।
हर माह महिलाओं की विकराल समस्‍या
1-पीठ में दर्द रहना.
2-कंधों में दर्द रहना.
3-जांघों में तेज दर्द होना.
4-डायरिया, कब्‍ज.
5-यूरिन में खून आना.
6-शरीर के निचले हिस्से में जकड़न.
7-पीरियड्स से पहले मांसपेशियों में खिंचाव.
8-पीरियड्स में बहुत ज्यादा ब्‍लीडिंग होना

इसका सबसे बड़ा नुकसान यह है कि इस बीमारी से ग्रस्‍त महिला गर्भवती नहीं हो सकती है। क्‍योंकि इसके कारण वीर्य (स्‍पर्म) डिम्बवाहिनी नली यानि फैलोपियन ट्यूब तक नहीं जा पाता और महिला गर्भधारण नहीं कर पाती है।

एन्‍डोमीट्रीओसिस के कारण

रोग प्रतिरोधक क्षमता यानि इम्युनिटी हमें अनेक रोगों से सुरक्षित रखती है। छोटी-छोटी ऐसी कई व्याधियां होती हैं, जिनसे हमारा शरीर खुद ही निपट लेता है.
शोधकर्ताओं का मानना है कि इम्‍यूनिटी की कमी की वजह से यह गर्भाशय में अतिरिक्‍त कोशिकाओं का निर्माण हो जाता है। नियम रहित दिनचर्या अर्थात सुबह जागने से लेकर रात को सोने तक किए गए अनियमित कृत्यों के कारण भी यह बीमारी अधिक देखी जाती है और एक बहुत बड़ी वजह काफी हद तक तनाव भी इस परेशानी का कारण बनता है।

एन्‍डोमीट्रीओसिस से होने वाली परेशानियां

◆-महिलाओं को पेट दर्द रहना.
◆-गर्भधारण न कर पाना.
◆-हड्डियों में दर्द रहता है.
◆-चेहरे पर झाइयां
◆-आँखों के नीचे कालापन आना
◆-त्वचा का मुरझाना.
◆-बाल झड़ना, टूटना
◆-कम उम्र में ही बाल सफ़ेद होना।
◆-याददास्त कमजोर होना।
◆-उच्च रक्त चाप यानि हाई बीपी रहना।
◆-किडनी का कमज़ोर होते जाना।
◆-आंखों की रौशनी कम होना.

ORDER NOW

महिलाओं को बेहतरीन लाइफस्‍टाइल और खूबसूरती के लिए निरोग रहना जरूरी है।
इसके लिए
नांरी सौन्दर्य माल्ट हानिरहित
आयुर्वेदिक ओषधि है। इसमें डाला गया
शिवलिंगि बीज बांझ स्त्रियों को गर्भधारण में सहायक है

नांरी सौन्दर्य माल्ट वजन भी घटाता है

【】नांरी सौन्दर्य माल्ट चर्बी, मोटापा और वजन भी कम करता है।
【】मोटी से मोटी तोंद भी दो से तीन महीने में कम हो जाएगी! बस सुबह खाली पेट नांरी सौन्दर्य माल्ट 2 चम्मच एक कप यानी 100 ml गर्म पानी में मिलाकर लेवें।

अन्य फायदे — नियमित रूप से इसका सेवन किया जाए,तो मांसपेशियों की ऐंठन कम करने मदद करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0
Amrutam Basket
Your cart is empty.
X