20 प्रकार की योनि के लक्षण

महिलाओं को सफेद पानी की परेशानी को ही अमृतम आयुर्वेद में प्रदररोग कहते हैं ।
अंग्रेजी में इसे Leuccorrhea लिकोरिया तथा white discharge व्हाइट डिस्चार्ज भी कहा जाता है ।
प्रदररोग गर्भाशय का विकार है । इस रोग से पीड़ित महिला को गर्भवती होने में रुकावट होती है ।
सोमरोग शरीर के धातु संबंधी निर्बलता का रोग है ।

इस रोग के कारण तन-मन मलिन होकर जर्जर हो जाता है । इन दोनों रोगों का प्रत्यक्षीकरण योनि के। माध्यम से होता है । फिर भी आयुर्वेद ग्रंथों में इन्हें योनिरोग नहीं माना गया ।
तन्त्र शास्त्रों में योनिरोगों के विस्तृत वर्णन
पढ़ने को मिलते हैं ।
आयुर्वेद में भी योनिरोगों को अलग से स्थान दिया गया है । ये 20 प्रकार के होते हैं , जो निम्नलिखित हैं –
वायु– के कारण उत्पन्न्
@ उदावृता
@ बंध्या
@ विप्लुत
@ परिलुप्ता
@ वातला
उपरोक्त 5 योनिरोग वायुविकार के
कारण होते हैं ।
पित्त- विकार के कारण होने वाले योनिरोग:-
@ लोहितक्षरा
@ प्रस्रांसिनी
@ वामनी
@ पुतघ्नी
@ पित्तला
कफ प्रकृति के कारण होने वाले योनिरोग :-
@ अत्यानंदा
@ कर्णिनी
@ चरणा
@ अतिचारणा
@ कफजा
त्रिदोषज व्याधि के कारण होने वाले योनि रोग :-
@ षंडई
@ आंदिनी
@ महती
@ सुचिवक्त्र
@ त्रिदोषज
उपरोक्त 20 प्रकार की योनि तथा इन सबके अलग-अलग रोग होते हैं ।
कारण– मिथ्याचार, मिथ्या विहार, दुष्ट आर्तव,
वीर्यदोष, देव इच्छा, बार बार गर्भपात करवाना,
चोट, अप्राकृतिक मैथुन आदि कारणों से ये योनि रोग होते हैं ।

1- उदावृता योनि के लक्षण-

जिस स्त्री को योनि से झाग-मिला हुआ खून
बहुत तकलीफ के साथ गिरता है, उसे “उदावृता” कहते हैं । इस योनि रोग वाली स्त्री का मासिक धर्म कष्ट से होता है । उसके पेड़ू में दर्द होकर रक्त की गांठ सी गिरती है ।
इनका वैवाहिक जीवन आर्थिक संकटों
से गुजरता है ।

2- बंध्या योनि

जिसका आर्तव नष्ट हो, अर्थात
जिसे रजोधर्म न होता हो, यदि होता भी हो, तो
अशुद्ध और ठीक समय पर न होता हो, उसे बंध्या कहते हैं । इन योनि वाली महिलाओं को शारीरिक। सुख कम मिल पाता है ।

3- विप्लुत

जिसकी योनि में निरंतर पीड़ा या
भीतर की ओर से सदा एक तरह का दर्द- सा
होता है, उसे विप्लुत योनि कहते हैं । जिनका वैवाहिक जीवन क्लेशकारक रहता है ।

4- परिप्लुत

जिस स्त्री को मैथुन करते समय
योनि के भीतर बहुत पीड़ा होती है, उसे परिप्लुत योनि कहते हैं ।

5- वातला

जो योनि कठोर या कड़ी हो तथा
उसमे शूल और चोंटने सी पीड़ा हो उसे वातला योनि कहते हैं । इस रोग वाली स्त्री का मासिक खून या आर्तव, वादी से रूखा होकर, सुई चुभाने जैसा दर्द करता है । ये महिलाएं अपनी दम पर
बहुत कुछ करके दिखाती हैं । अपने पति से ज्यादा क्रियाशील होती हैं ।

आगे के लेख (ब्लॉग) में 15 प्रकार की योनि के। बारे में और बताया जाएगा ।
Login करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0
Amrutam Basket
Your cart is empty.
X